Home कामयाबी सफल होना चाहते है? ये है एक मात्र उपाय सफलता प्राप्त करने के लिए

सफल होना चाहते है? ये है एक मात्र उपाय सफलता प्राप्त करने के लिए

0
0
4
safal hone ke tarike

सफल कौन नहीं होना चाहता, पर सफलता हाथ नहीं लगती, सब लोग चाहते है वो अपने ज़िंदगी में एक अलग मुकाम तक पहुचें पर सब लोग पहुंच नहीं पाते है, आखिर क्या कारण है की सब लोग सफल नहीं होते. क्या कारण है वो ज्यादा पैसा नहीं कमा पा रहे होते है. वो सोहरत नहीं पा रहे होते है, बस ज़िंदगी ऐसी ही चल रही होती है, ज़िदगी में हमेशा उस चीज की कमी रहती है जिस चीज को पाने की चाह रहती है,

आज हम आपको एक कहानी के माध्यम से सफल होने की क्या कुंजी होती है वो बता रहे है।

महान दार्शनिक अरस्तु से एक लड़के ने पूछा की सफल होने का क्या तरीका है, आप मुझे बताएं लोग कहते है की आप सही रास्ता दिखाते है, बड़ी उम्मीद लेके आपके पास आया हु. मैं हमेशा असफल हो जाता हु, जो भी चाहता हु करना वो सही तरीके से नहीं हो पाता है, और मैं हमेशा असफल हो जाता हु। आप मुझे सही रास्ता दिखाएँ।

अरस्तु बोले ठीक है कल आना! इस तरीके से काफी दिन बीत गया, वो लड़का आता और वापस चला जाता, क्यों की अरस्तु कहते कल आना

एक दिन वो लड़का बोला, आप मुझे रोज कहते है कल आना और आप बताते ही नहीं, तो अरस्तु बोला चलो कल दस बजे आना कल बताऊंगा।

वो लड़का वापस ख़ुशी ख़ुशी चला गया उससे लगा की कल तो बता ही देंगे, दूसरे दिन वो सही समय पर अरस्तु के पास गया, अरस्तु भी उसी का इंतज़ार कर रहे थे. उन्होंने उस लड़के को पास के ही नदी के किनारे ले गए, और लड़के को उस नदी में नहाने के लिए बोले, लड़का नदी में नहाने के लिए ज्यों ही डुबकी लगाया, अरस्तु ने उसके सिर को पकड़ लिए और पानी में दबा दिए, वो लड़का अकबक करने लगा. उसकी साँसे फूलने लगी. फिर अरस्तु ने छोड़ दिया।

वो लड़का हैरान परेशान अरस्तु को देखने लगा. पर कुछ बोला नहीं, अरस्तु फिर से उसे डुबकी लगाने बोले, वो लड़का फिर से डुबकी लगाया, इस बार फिर अरस्तु उसे पकड़ के पानी के अंदर दबा दिए, वो इस बार और ज्यादा परेशान होने लगा. हाथ पैर फैलाने लगा. बाहर निकलने की कोशिश करने लगा. जब वो बहुत परेशान हो गया तो अरस्तु फिर उससे छोड़ दिए।

लड़का गुस्से में आ गया, बोला मैंने तो आपसे सफलता का मंत्र सिखने आया था और आप मुझे नदी में डुबो के मरना ही चाह रहे है, ऐसे कोई सफलता मिलती है?

अरस्तु हॅसने लगे और बोले. देखो बेटा ” जिस तरह से तुम जान बचाने के लिए छटपटा रहे थे, उसी तरह से तुम्हे सफलता के लिए छटपटाना पड़ेगा, तुम्हे ऐसे ही मेहनत करनी पड़ेगी, तभी तुम सफल हो पाओगे।

वो लड़का सब समझ गया था, और अरस्तु को प्रणाम कर वहां से चल दिया।

आपको भी सफल बनना है तो आपको भी दिन रात मेहनत करनी पड़ेगी वो भी सही दिशा में, दुनिया की कोई ताकत आपको सफल होने से रोक नहीं सकती है, इसलिए आप भी मेहनत करना शुरू कर दीजिये देखिए सफलता आपकी कदम चूमेगी।

आपसे मेरा निवेदन है की इस आर्टिकल को जरुर रेट करें. और अपना सुझाव भी दें कमेंट बॉक्स से, इसकी बहूत जरुरत है ताकि मैं ऐसी ही पोस्ट डाल सकूँ। इस पोस्ट को अपने फेसबुक पर जरुर शेयर करें

[Total: 3    Average: 4.7/5]
Load More Related Articles
Load More By Srishti Dudeja
Load More In कामयाबी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

ओशो का जीवन परिचय और उनके उपदेश

ओशो ने अपनी पूरी  जीवन जिस प्रकार जिया है वही  खुद में  एक परिचय बन गया था. उनकी आत्मकथा औ…