Home Health बच्चों की परवरिश क्या आपका बच्चा अंगूठा चूसता है? ये कारण होते है

क्या आपका बच्चा अंगूठा चूसता है? ये कारण होते है

0
0
2
suck

आपने कई बच्चों को अंगूठा चूसते हुए देखा होगा, और केवल बच्चों को ही नहीं कई लोग तो बारह से पंद्रह साल या उससे ज्यादा भी अंगूठा चूसते हैं, चार साल तक यह आदत काफी सामान्य मानी जाती है, लेकिन यदि बच्चा इससे ज्यादा चूसें तो बच्चे की इस आदत को नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए, साथ ही इस आदत को लेकर माँ बाप को परेशान होना भी स्वाभाविक होता है, क्योंकि इसके कारण बच्चे की शारीरिक ग्रोथ पर भी असर पड़ता है, और साथ ही बच्चे का अंगूठा पतला होता है। इसके अलावा कई बार बच्चा नीचे खेल रहा होता है, तो मिट्टी आदि के कण उसके अंगूठे पर लगे होते है, और वो बच्चे के पेट में चले जाते है जिसके कारण बच्चा बीमार भी हो सकता है या उसे इन्फेक्शन भी हो सकता है,

baby thumb suking

कई बार माँ बाप कडवी चीजे, बच्चों को डांट लगाकर इस आदत को छुडवाने की कोशिश करते है, जो की कई बार बच्चे के लिए इस आदत को बढ़ावा देने का काम करता है, इसीलिए बच्चों को प्यार से इस आदत को छुडवाने की कोशिश करनी चाहिए, तो आइये अब विस्तार से जानते है की बच्चे के अंगूठा चूसने के क्या कारण होते हैं, बच्चे को इसके कारण क्या क्या दुष्प्रभाव हो सकते है, और बच्चे में होने वाली इस आदत को आप कैसे छुड़वा सकते हैं, तो यदि आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है तो आपको भी इन बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए।

बच्चे के अनूठा चूसने के कारण:-

बच्चा शांत होता है, और नींद अच्छी आती है:-

जब बच्चा अंगूठा चूसता है तो उसके अंगूठे में एंडोफिन्स नाम के द्रव्य का निर्माण होता है, जिससे जब शिशु अंगूठा चूसता है, तो उसका दिमाग शांत होता है, और उसे नींद अच्छे से आती है।

जब बच्चे को भूख लगती है:-

कई बार बच्चे को जब भूख लगती है, तो वो आपसे नहीं कह पाता है, और अपने हाथ पैर मारने लगता है, जिसके कारण उसको अंगूठा चूसने की आदत पड़ जाती है, और जब वो अंगूठा चूसता है तो उसे ऐसा लगता है की वो स्तन या निप्पल को चूस रहा है, और उसे आराम मिलता है।

बोतल के खत्म होने पर:-

यह आदत उन बच्चों में भी देखने को मिलती है जो की बोतल में दूध पीते है, और जब उनका दूध जल्दी खत्म होने लगता है,और उनका पेट नहीं भरता है, तो उन्हें यह आदत लग जाती है।

जब बच्चों के दाँत निकलने लगते है:-

आपने ये तो सुना ही होगा की जब बच्चे के दाँत निकलते हैं, तो उसके जबड़े में खारिश होने लगती है, जिससे अंगूठा चूसने पर उन्हें जबड़े में दबाव महसूस होता है और अच्छा लगता है, और उन्हें भी अंगूठा चूसने की लत लग जाती है।

भरपूर प्यार न मिलने के कारण:-

कई बच्चों को यह आदत चार से पांच साल की उम्र में लगती है, और इसका कारण होता है, बच्चे को भरपूर प्यार न मिलना, अनिंद्रा की समस्या होने के कारण, तनाव महसूस करना, असुरक्षित महसूस करना, और इससे राहत पाने के लिए बच्चा अंगूठा चूसने लगती है, और ऐसे बच्चे प्यार से बहुत जल्दी ठीक हो जाते हैं।

अंगूठा चूसने के कारण होने वाले दुष्प्रभाव:-

suck

 

  • इसके कारण बच्चे के आगे के दाँत टेढ़े मेढे आते है, या उनके बीच में गैप होने लगता है, साथ ही कई बार बच्चों के आगे के दाँत ऊँचे हो जाते है, जिसके कारण बच्चे अच्छे नहीं लगते हैं।
  • यदि दांतो के बीच में गैप आ जाता है तो इसके कारण कई बार बच्चे के साफ़ बोलने में परेशानी का सामना करना पड़ता है।
  • यदि अंगूठे की अच्छे से साफ़ सफाई न की जाएँ तो इसके कारण बच्चे को संक्रमण होने का डर भी रहता है।
  • अंगूठा चूसने के कारण बच्चो की शारीरिक ग्रोथ पर भी असर पड़ता है।

बच्चे की अंगूठा चूसने की आदत को छुड़वाने के लिए टिप्स:-

  • बच्चे के अंगूठा चूसने के एक कारण उसे भूख का लगना होता है, इसीलिए बच्चे के खाने में ज्यादा समय का अंतराल नहीं रखना चाहिए, और उसे कुछ न कुछ खाने के लिए देते रहना चाहिए।
  • बच्चे को अंगूठा चूसने पर धमकाने की जगह या डांटने की जगह आपको उसका ध्यान कहीं और लगाने के लिए खिलौने आदि देने चाहिए।
  • बच्चे को डांटने से बच्चा ज्यादा अंगूठा चूसता है इसीलिए उसे डांटने की जगह प्यार से समझाएं।
  • बच्चे को बाहर घुमाने ला जाएँ या उसके साथ खेलें ताकि उसका ध्यान दूसरी और लगा रहें।
  • कभी भी दूसरों के सामने बच्चे की उपेक्षा न करें, और इस आदत के लिए बार बार न सुनाएँ, इससे बच्चा और अधिक अंगूठा चूसने लगता है।
  • यदि बच्चा तनाव, अनिंद्रा, या असुरक्षित महसूस करने के कारण अंगूठा चूसता है तो उसे प्यार से समझाएं।

तो ये कुछ कारण है जिसकी वजह से आपका बच्चा अंगूठा चूसता है, और इनके दुष्प्रभाव को जानने के बाद आपको बच्चे की इस आदत को जितना जल्दी हो सकें छुड़वा देना चाहिए, परन्तु प्यार से ताकि बच्चा इसके कारण चिड़चिड़ा न हो, और उसे इस आदत से निजात भी मिल जाएँ।

[Total: 2    Average: 4.5/5]
Load More Related Articles
Load More By Suruchi Chawala
Load More In बच्चों की परवरिश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

बच्चों को मालिश करने के तरीके

शिशु के जन्म के बाद हर माँ चाहती है की वो अपने शिशु को एक अच्छी केयर दे सकें जिससे उसे हमे…