दिल्ली की जामा मस्जिद

jama masjid 1

jama masjid 1जामा मस्जिद भारत की सबसे बड़ी मस्जिद है. ये मस्जिद दिल्ली के दिल कहे जाने वाले पुराने दिल्ली क्षेत्र में स्थित है. आपको बता दे जामा मस्जिद और लाल किले का बीच का फैसला मात्र 500 m का है. जामा मस्जिद को भारत के पांचवे मुग़ल सम्राट शाहजहाँ ने बनवाया था. दिल्ली में स्थित जामा मस्जिद का मूल नाम मस्जिद-ए-जहान-नूमा है. इस मस्जिद का निर्माण कार्य सन 1650 में शुरू करवाया गया था. इस मस्जिद का निर्माण कार्य को समाप्त होने में छः वर्ष का समय लगा था जिसको बनवाने में कुल लागत 1 अरब रूपए आई थी. मस्जिद का निर्माण लाल बलुआ और संगमरमर द्वारा किया गया है. संगमरमर और बलुआ पत्थर से बानी इस मस्जिद में उत्तर और दक्षिण द्वार के द्वारा प्रवेश किया जा सकता है. मस्जिद का पूर्वी द्वार केवल शुकवार को ही खोला जाता है इस द्वार का प्रयोग सुल्तानों द्वारा किया जाता था. मस्जिद को 5000 मज़दूरों की जी तोड़ मेहनत द्वारा बनाया गया है. दिल्ली की ये मस्जिद लगभग 25,000 व्यक्ति को समायोजित करने की क्षमता रखती है जितनी क्षमता भारत की किसी मस्जिद में नहीं है.

मस्जिद की छत पर तीन गुबंदो को बनाया गया है जो दो मीनारों से घिरे है, जिसके फर्श पर worshippers के लिए 899 black borders बनाये गए है. बादशाही मस्जिद की वास्तुशिल्प योजना शाहजहाँ के पुत्र औरंगजेब द्वारा पाकिस्तान के लाहौर में बनायीं गयी थी.

jama masjid 2निर्माण :

जामा मस्जिद का निर्माण सादुल्लाह खान जो शाहजहाँ के राज्य के समय वज़ीर हुआ करते थे के पर्यवेक्षण में हुआ था. इसको बनाने में 1 अरब रूपए की कुल लागत आई थी. इसके अलावा शाहजहाँ ने आगरा में ताज महल और दिल्ली में लाल किले, जो ठीक इसके सामने है का भी निर्माण करवाया था. मस्जिद का निर्माण कार्य 1656 AD (1066 AH) में समाप्त हुआ था. जामा मस्जिद का उद्घाटन 23 जुलाई 1656 को बुखारा के मल्लाह इमाम बुखारी द्वारा शाहजहाँ के आमंत्रण पर किया गया था. इस मस्जिद को “जामा” के नाम से पुकारा जाता है जिसका अर्थ है शुक्रवार.

jama masjid 3वास्तुकला :

जामा मस्जिद में तीन मुख्य द्वार, चार बुर्ज और दो 40 m ऊंची मीनारे है जिन्हे लाल बलुआ व् सफ़ेद संगमरमर द्वारा बनाया गया है. मस्जिद का उत्तरी द्वार 39 कदम और दक्षिणी द्वार 33 कदम का है. जामा का पूर्वी द्वार 35 कदम का है जो ग्रामीण वासियो के लिए प्रवेश द्वार था. इन सभी द्वारो के अलावा मस्जिद का पूर्वी द्वार जिसका प्रयोग केवल राजाओं व् राजसी परिवार द्वारा किया जाता था, जिसे वीक डेज के दौरान बंद रखा जाता है. जामा मस्जिद को लाल बलुआ पत्थर के आँगन से लगभग 30 feet (9.1 m) की ऊँचाई के साथ बनाया गया है और इसका क्षेत्र 1200 square मीटर तक फैला है. मस्जिद में दो बुलंद मीनारे है जो 130 feet (40 m) ऊंची है, और इनपर संगमरमर और लाल बलुआ की धारिया बनी हुई है. जामा मस्जिद की मीनारों में पांच मंजिले बनी हुई है जिनमे उभरा हुआ छज्जा बना हुआ है. आस पास की सभी इमारतों को बेहतर हस्तलिपि से तराशा गया है. मस्जिद की मीनारों की पहली तीन मंजिलो को लाल बलुआ पत्थर, चौथी मंजिल को संगमरमर और पांचवी मंजिल को बलुआ पत्थर से बनाया गया है.
जामा मस्जिद के आँगन में 25,000 इबादत करने वाले को समायोजित करने की क्षमता है और इसका कुल क्षेत्रफल 408 square फ़ीट है. भारत की सबसे बड़ी मस्जिद 261 feet (80 m) लम्बी और 90 feet (27 m) चौड़ी है. मस्जिद की इबादत स्थल की लम्बाई 61 metre और चौड़ाई 27.5 metre है. मस्जिद को नोकीले मेहराब और संगमरमर गुबंदो द्वारा बनाया गया है.
मस्जिद का फ्लोर प्लान आगरा में स्थित जामा मस्जिद की ही तरह है. इसके फर्श को काले और सफ़ेद अलंकृत संगमरमर द्वारा बनाया गया है जो देखने में बिलकुल मुस्लिमो की इबादत चटाई की तरह लगता है. इसके अलावा मस्जिद के फर्श पर इबादत करने वालो के लिए 3 feet (0.91 m) लम्बे और 1.5 feet (0.46 m) चौड़े ब्लैक बॉर्डर बने है. यहाँ इस तरह के कुल 899 बॉक्स बने है. 1857 के संग्राम से पहले मस्जिद के दक्षिणी छोर पर एक मदरसा बनाया गया था जो संग्राम के दौरान नष्ट कर दिया गया था.

jama masjid 4जामा मस्जिद हमले :

दिल्ली की जामा मस्जिद में दो बार आतंकी हमले हो चुके है, पहला हमला 2006 और दूसरा 2010. पहले हमले के दौरान मस्जिद में दो बिस्फोट किये गए थे जिसमे तेरह व्यक्तियों को हानि पहुंची थी. मस्जिद के दूसरे हमले में दो gunmen द्वारा की गयी फायरिंग के कारण दो Taiwanese विद्यार्थियों को आघात हुआ था.

jama masjid 5महत्वपूर्ण जानकारी :

जामा मस्जिद में प्रातः 7 बजे से दोपहर 12 बजे और 1:30 बजे से सायः 6.30 बजे तक प्रवेश लिया जा सकता है. मस्जिद में आप किसी भी दिन जा सकते है लेकिन इबादत के दौरान पर्यटकों का प्रवेश निषेध किया गया है. मस्जिद में जाने के लिए आपको किसी भी प्रकार के शुल्क का भुगतान नहीं करना होगा परन्तु फोटोग्राफी करने के लिए Rs. 200 रूपए का भुगतान करना पड़ता है.
Title : Jama Masjid in Delhi : Jama Masjid Delhi : Jama Masjid Tourist Place

[Total: 0    Average: 0/5]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *