भिखारन बनी दाई, सड़क पर करवाई डिलीवरी, और बाद में गायब हो गई

0

कई बार ऐसा कुछ हो जाता है की रोंगटे खड़े हो जाते है, कोई इंसान मसीहा बनकर आता है और मदद कर के गायब हो जाता है, ऐसा ही वाकया आया है बंगलुरु से, तीस वर्षीय येलम्मा की बेटी की इच्छा पूरी तो हो गई लेकिन व्यस्त जंक्शन के बीच रोड पर ही। पास ही बैठी महिला भिखारी ने दाई की भूमिका निभाई। स्थानीय विधायक जी हमपैय्या नायक बल्लाटगी ने कहा, ‘हमारे शहर में हुई यह सबसे खूबसूरत घटना है। मां और बच्ची दोनों स्वस्थ हैं।’ और कहा की मानवता अभी भी ज़िंदा है, लोग ऐसे ही एक दूसरे को मदद करे तो किसी को कभी दुःख और परिवार की कमी नहीं हो सकती है.

सन्ना बाजार की निवासी रमन्ना और उनकी पत्नी येलम्मा के तीन बेटे हैं और बेटी की चाह ने माँ बनने को फिर से प्रेरित किया। प्रेगनेंसी के 36 सप्ताह पूरे होने पर स्थानीय डॉक्टर ने उन्हें रायचूर जाने की सलाह दी। दोनों रायचूर से लौट रहे थे। ट्रैन से, लेकिंग रास्ते में ही लेबर पेन होने की वजह से महिला ट्रैन से उतर गई और सड़क पर ही गिर कर दर्द से छटपटाने लगी। और मदद के लिए पुकारने लगी.

पति अपनी पत्नी की ऐसी हालत देखकर घबरा गया। और उससे पता ही नहीं चल रहा था की क्या करें, इस दौरान पास में ही मौजूद एक भिखारी ने बच्ची के जन्म में सहायता के लिए आई और दाई की भूमिका निभाई। थोड़ी ही देर में आस पास की और भी महिलाएं मौके पर पहुंच गईं। सबके प्रयास से महिला ने स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया।

बच्चा और जच्चा दोनों सही थे और लोगो का धन्यवाद कर रही थी। येलम्मा को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। भीड़ के जुटने पर भिखारी महिला वहां से गायब हो गई।