Ultimate magazine theme for WordPress.

स्तन कैंसर की रोकथाम के लिए उपाय

0

स्तन कैंसर की रोकथाम के लिए उपाय:-

आज के समय में स्तन कैंसर महिलाओ में तेजी से फैलने वाला रोग हैं| इस रोग के कारण महिलाये बहुत परेशान हो जाती हैं| ये रोग 20 वर्ष की उम्र के बाद ही होता हैं| ये रोग उन महिलाओ को ४० के बाद होता हैं जो कभी माँ नहीं बन सकती हैं| इस रोग के कारण महिलाओ के शरीर में बहुत कमजोरी आ जाती हैं| और यदि इस रोग का जल्द से जल्द इलाज़ नहीं किया जाता हैं, तो इस रोग का इलाज़ नहीं होने की आशंका भी हो जाती हैं, और कई बार यदि समय से इसका इलाज़ कर लिया जाये तो इस समस्या का समाधान हो जाता हैं|

महिलाओ को इस रोग का कारण ज्यादा मात्रा में नशे का सेवन करना भी हो सकता हैं| ये रोग उन महिलाओ को भी हो सकता है जिन्होंने कभी अपने स्तनों से बच्चे को दूध नहीं पिलाया हो (और ऐसा भी जरुरी नहीं हैं की यदि आप दूध नहीं पिलायेंगे तो आपको ये रोग हो जायेगा)| या फिर ये रोग उन महिलाओ में पनपता हैं जिनका मासिक धर्म आना बंद हो गया हो| आइये जानते हैं की स्तन कैंसर के क्या लक्षण होते हैं, क्या कारण होते हैं, और इसका उपचार किस प्रकार किया जा सकता हैं| तो ये सब बाते इस प्रकार हैं|

स्तन कैंसर के लक्षण इस प्रकार हैं:-

स्तन कैंसर के लक्षण भी आपके स्तन में दिखाई देते हैं| परंतु स्तन में गांठ होना कोई जरुरी नहीं हैं की आपके स्तन में कैंसर हैं इसके बहुत से लक्षण होते हैं| जैसे की स्तनों को दबाने पर उसमे दर्द का होना, और अन्य लक्षण इस प्रकार हैं|

  • यदि स्तन कैंसर की शुरुआत हो तो स्तनों में किसी भी तरह का दर्द नहीं होता हैं| इसमें महिलाओ की निप्पल से खून जैसा पदार्थ निकलता हैं, और कई बार तो वो खून भी हो सकता हैं|
  • ब्रैस्ट में गांठ आदि का महसूस होना, कई बार स्तन के उत्तक आपस में जुड़ जाते हैं जिसकी वजह से हमे गांठ महसूस होती हैं|(कई बार ब्रैस्ट में गांठ किसी और वजह से भी हो सकती हैं, इसीलिए पहले डॉक्टर को दिखाना चाहिए, बाद में किसी नतीजे पर पहुचना चाहिए)|
  • निप्पल के रंग में बदलाव या आप कह सकते हैं की निप्पल का लाल हो जाना भी स्तन कैंसर का ही लक्षण हैं|

breast-cancer-13

  • निप्पल के ऊपर पपड़ी का जम जाना या फिर उस पर बार बार खारिश होना और फिर उसमे दर्द का शुरू होना भी स्तन कैंसर का ही लक्षण हैं|
  • स्तन कैंसर के कारण स्तन की त्वचा भी कई बार गड्ढे दार हो जाती हैं| और स्तन को दबाते ही उसमे से फ्लड निकलता हैं|
  • कभी कभी स्तन कैंसर में पीठ में भी दर्द शुरू हो जाता हैं, क्योंकि कई बार जब कैंसर आगे से पीछे की तरफ फैलता हैं तभी ऐसा होता हैं|
  • कभी कभी निप्पल में सिकुडन भी आ जाती हैं| और निप्पल अंदर की और जाने लग जाती हैं|

स्तन कैंसर के कारण:-

स्तन कैंसर के कारण भी आपसे ही जुड़े होते हैं| यदि आप अपने शरीर से जुडी समस्या का समाधान चाहते हैं तो आपको इसके कारणों को अपने से दूर रखना चाहिए| जिससे की आपको इस समस्या का सामना न करना पड़े|

  • स्तन कैंसर का एक कारण बढ़ती उम्र हो सकता हैं| ज्यादा उम्र होने के कारण भी स्तन कैंसर हो सकता हैं|
  • उम्र से पहले बच्चे का जन्म से पहले होने के कारण भी स्तन कैंसर हो जाता हैं|

breast-cancer-12

  • जो महिलाएं ज्यादा नशे या फिर बहुत अधिक मात्रा में शराब का सेवन करती हैं, उन्हें स्तन कैंसर की आशंका सबसे ज्यादा रहती हैं|
  • आनुवंशिकता के कारण भी ये रोग हो सकता हैं, मतलब यदि आपके घर में पहले किसी और जो की आपसे सम्बंधित हो उसे यदि पहले स्तन कैंसर को चूका हैं तब भी आपको स्तन कैंसर हो सकता हैं|
  • यदि आपकी जीवनशैली ख़राब हैं तो भी आपको इस रोग का सामना करना पड़ सकता हैं|

स्तन कैंसर से बचने के उपाय:-

स्तन कैंसर से निजात पाने के बाहत सारे उपाय हैं, जो की आपको इस समस्या से समाधान पाने में आपकी मदद करता हैं| और कुछ घरेलू नुस्खे भी हैं जो आपको इस समस्या से बचा सकते हैं|

  • जैसे ही आपको ऐसा लगता हैं की आपको स्तन में हल्का फुल्का दर्द भी हो रहा हैं तो आपको तुरंत ही डॉक्टर को दिखाना चाहिए|
  • स्तन कैंसर से बचने के लिए काली चाय का प्रयोग करना चाहिए| क्योंकि ये ट्यूमर को बढ़ाने वाली कोशिकाओं का अंत करता हैं|
  • खट्टे फलो का सेवन करना चाहिए| खट्टे फलों में सेब, अंगूर,पीच, नाशपाती, केला आदि का सेवन करने से स्तन कैंसर होने की संभावना कुछ हद तक कम हो जाती है|

breast-cancer-11

  • एक गिलास पानी में हरी चाय के कुछ पत्ते डालकर तब तक उबाले जब तक कि वह सूख कर आधा न हो जाएँ, उसके बाद पी लें| इससे भी स्तन कैंसर से निजात पाने में मदद मिलती हैं|
  • लहसुन भी स्तन कैंसर से लड़ने में मदद करता हैं|
  • गेहूँ का घास भी स्तन कैंसर के रोगी के लिए सबसे अच्छा पदार्थ होता है, जो कैंसर के कोशिकाओं के वृद्धि को रोकने में मदद करता है|
  • ज्यादा मात्रा में नशे जैसे की धूम्रपान या शराब का सेवन नहीं करना चाहिए|
  • व्यायाम करने से भी हमारा शरीर स्वस्थ रहता हैं| इसीलिए व्यायाम आदि नियमित रूप से करें|
  • स्तन कैंसर से बचने लिए कम से कम मात्रा में रेड मीट का सेवन करें|
  • स्तन कैंसर से आराम पाने के लिए नमक का सेवन कम करें|
  • स्तन कैंसर से मुक्ति पाने के लिए सूर्य के तेज किरणों के प्रभाव से बचें|
  • यदि आपको स्तन कैंसर हैं तो आपको एक महीने तक सिर्फ फलो का रस ही पीना चाहिए|
  • स्तन कैंसर के रोगी को हफ्ते में एक बार गुनगुने पानी में नमक मिलकर उससे नहाना चाहिए|
  • मासिक धर्म के समय इन उपचारो को बंद कर देना चाहिए|
  • रोगी को दिन में एक बार रोजाना गरम पानी में रुई भिगाकर उसका सेक करना चाहिए|
  • रोगी को रोजाना गरम या ठन्डे पानी से नहाना जरूर चाहिए|
  • हल्दी एक गुणकारी औषधि हैं स्तन कैंसर में इसका इस्तेमाल करना चाहिए|

डॉक्टर द्वारा किये जाने वाले इलाज़:-

रेडियोथेरिपी:-

इस उपचार में स्तनकैंसर को बढ़ाने वाली कोशिकाओं को ख़तम करने के लिए रेडिएशन का इस्तेमाल किया जाता हैं| इसमें कम से कम पांच सप्ताह का समय लगता हैं| और लगभग एक लाख रूपए खर्च आता हैं|

कीमोथेरिपी:-

इस थेरिपी में एंटी कैंसर की दवाइया दी जाती हैं| जिनसे की इस बीमारी को बढ़ाने वाली कोशिकाओं को ख़तम किया जा सके| यह शरीर में होने वाली सभी कैंसर वाली कोशिकाओं का अंत करते हैं| इसमें तीन से चार महीने का समय लगता हैं| और लगभग एक से दो लाख रूपए का खर्च आता हैं|

सर्जरी:-

सर्जरी भी स्तन कैंसर को ख़तम करने के लिए एक विकल्प हैं| इसमें ठीक होने में रोगी को 15 दिन का समय लगता हैं| और इसमें 60 से 70 हज़ार रूपए लगते हैं| इसके बाद इसके कुछ बुरे प्रभाव भी होते हैं| जो दवाइयों की मदद से ठीक हो जाते हैं|

तो ये हैं स्तन कैंसर से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी जिससे की इस समस्या का समाधान किया जा सकता हैं| और इससे होने वाले बुरे प्रभाव से बचाया जा सकता हैं| आप इन सब उपचारो का इस्तेमाल तभी से करना शुरू कर दे जैसे की आपको पता चले| और डॉक्टर से हर समय परामर्श लेते रहे|

आपको ये टॉपिक पढ़ कर कैसा लगा इस बारे में राय आवश्य दे, और शेयर जरूर करे, आपकी राय मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं|

स्तन कैंसर, स्तन कैंसर क्या होता हैं, स्तन कैंसर के लक्षण, स्तन कैंसर से बचने के उपाय, स्तन कैंसर के कारण, Breast cancer, information about breast cancer, treatment of breast cancer, symptoms of breast cancer,