Ultimate magazine theme for WordPress.

चालीस की उम्र के बाद माँ बनने के लिए अपनाएँ यह टिप्स

0

चालीस की उम्र के बाद माँ बनने के लिए अपनाएँ यह टिप्स, बढ़ती उम्र में प्रेगनेंसी के लिए अपनाएं यह टिप्स, उम्र बढ़ने के बाद माँ बनने के लिए टिप्स, चालीस की उम्र के बाद माँ बनने में होने वाली परेशानियां, Pregnancy tips

आज कल महिलाएं आत्मनिर्भर रहना पसंद करती है, पहले वो अपने पैरों पर खड़ा होना चाहती है, अपनी लाइफ को खुलकर एन्जॉय करना चाहती है। उसके बाद शादी के बारे में सोचती है, ऐसे में शादी में देरी कहीं न कहीं महिला के दाम्पत्य जीवन पर भी बुरा असर डालती है, जिसके कारण प्रेगनेंसी से जुडी समस्या का होना भी आम बात होती है। क्योंकि बढ़ती उम्र के कारण महिला का शरीर प्रभावित होता है, अंडाशय में अंडे बनने की प्रक्रिया स्लो होती है, प्रजनन क्षमता में कमी आ जाती है, साथ ही चालीस की उम्र के बाद कई महिलाएं मेनोपॉज़ की समस्या भी हो जाती है, आदि। ऐसे में यदि महिला चालीस के बाद माँ बनने का निर्णय लेती है तो महिला को बहुत सी चीजों का ध्यान रखना पड़ता है, ताकि यदि वो गर्भवती हो तो प्रेगनेंसी में किसी भी तरह की कोलिकेशन्स न आयें। तो लीजिये अब जानते हैं की चालीस की उम्र के बाद गर्भवती होने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

अपने सभी टेस्ट करवाएं

यदि आप चालीस के बाद गर्भधारण के लिए सोच रही है तो सबसे पहले आपको अच्छे से अपनी जांच करवानी चाहिए। ताकि प्रेगनेंसी के दौरान किसी भी तरह की मुश्किल न हो, और यदि कोई परेशानी हो तो उसका समय से इलाज किया जा सके। और प्रेगनेंसी के लिए बेहतर होगा की महिला और पुरुष दोनों ही अपनी अच्छे से जांच करवाए।

फिटनेस भी है जरुरी

उम्र बढ़ने के बाद माँ बनना महिला के लिए काफी परेशानियों को खड़ा कर सकता है। ऐसे में जरुरी होता है की गर्भवती महिला अपनी फिटनेस का बेहतर तरीके से ध्यान रखें, वजन नियंत्रित रखें, भरपूर नींद लें, शारीरिक के साथ मानसिक रूप से भी फिट रहे, आदि। क्योंकि जितना महिला फिट रहती है उतना ही इस दौरान नोर्मल तरीके से गर्भवती होने के चांस बढ़ते हैं, साथ ही प्रेगनेंसी के दौरान मुश्किलें कम होती है।

लाइफ स्टाइल भी हो बेहतर

यदि आप उम्र बढ़ने के बाद माँ बनने की प्लानिंग कर रही है तो इसके लिए आपको अपने लाइफ स्टाइल में भी बदलाव लाना पड़ता है, जैसे की नियमित व्यायाम व् योगासन करना चाहिए, अपने खान पान को बेहतर करना चाहिए, नशे का सेवन नहीं करना चाहिए, खुश रहना चाहिए, आदि। ऐसा करने से प्रेगनेंसी के चांस को बढ़ाने में मदद मिलती है।

डॉक्टर के संपर्क में रहें

बढ़ती उम्र में यदि आप माँ बनने का सोच रही हैं तो इसके लिए जरुरी होता है की आप डॉक्टर के संपर्क में रहें, ताकि महिला को प्रेगनेंसी होने के लिए बेहतर राय मिल सके, और गर्भवती होने के लिए क्या क्या जरुरी होता है उस बारे में पता चल सके, यदि कोई समस्या है तो उसका इलाज हो सके, आदि।

मेडिकल द्वारा दी गई सुविधाओं का इस्तेमाल करें

यदि बहुत कोशिश करने के बाद भी आप माँ बाप बनने का सुख न पा रहे हैं तो आपको मेडिकल द्वारा दी गई सुविधाओं का इस्तेमाल करना चाहिए, जैसे की आई वी एफ। इन प्रक्रियाओं में महिला के अंडाशय से अंडा निकलकर उसमे शुक्राणु को इंजेक्ट किया जाता है, और उसके बाद वापिस अंडे को गर्भाशय में डाल दिया जाता है। आप चाहे तो किसी बेहतर जगह से मेडिकल द्वारा दी गई सुविधाओं का इस्तेमाल करके भी इस समस्या का समाधान कर सकते हैं।

ज्यादा उम्र होने पर माँ बनने में आने वाली परेशानियां

ऐसा नहीं है की चालीस की उम्र के बाद महिला माँ नहीं बन सकती है, ऐसा हो सा सकता है लेकिन इस दौरान महिला अपनी अच्छे से केयर न करे तो महिला को बहुत सी जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है। तो आइये अब जानते हैं की बढ़ती उम्र में माँ बनने से कौन सी परेशानियां आ सकती हैं।

  • महिला द्वारा की गई थोड़ी सी लापरवाही महिला के लिए गर्भपात जैसी समस्या को खड़ा कर सकती है।
  • ऊर्जा की कमी, अधिक थकान, कमजोरी जैसी शारीरिक परेशानियां अधिक हो सकती है।
  • अधिक उम्र होने के बाद गर्भवती महिला जब शिशु को जन्म देती है तो ऐसे शिशु के दिमागी रूप से कमजोर होने के चांस बढ़ जाते हैं।
  • इस उम्र में गर्भवती होने पर सी सेक्शन डिलीवरी होने के चांस ज्यादा होते हैं।
  • गेस्टेशनल डाइबिटीज़ जैसी परेशानी का सामना भी इस दौरान महिला को करना पड़ सकता है।
  • हाई ब्लड प्रैशर, तनाव जैसी परेशानी होने के चांस भी ज्यादा होते है।
  • अधिक उम्र में माँ बनने वाली महिलाओं को एक से ज्यादा शिशु होने के भी चांस होते है, जिसके कारण महिला को अपनी ज्यादा केयर करनी पड़ती है। साथ ही कई महिलाओं को बेड रेस्ट करने की सालाह भी दी जाती है।

तो यह हैं कुछ टिप्स जिनका इस्तेमाल अधिक उम्र होने पर महिलाओं को करना चाहिए। ऐसा करने से गर्भवती महिलाओं को प्रेगनेंसी के चांस बढ़ जाते हैं, साथ ही इस दौरान आपको सावधानी भी बहुत ज्यादा बरतने की सलाह दी जाती है ताकि महिला और शिशु को किस तरह की परेशानी न हो।