Mom Pregnancy Health Lifestyle

Chandra Grahan 2019 : कब से कब तक है चंद्र ग्रहण और गर्भवती महिला के लिए सावधानी

चंद्र ग्रहण 2019
0

21 January 2019 Chandra Grahan, चंद्र ग्रहण सूतक, चंद्र ग्रहण का समय, Lunar Eclipse 2019, जनवरी चंद्रग्रहण, चंद्र ग्रहण कब से कब तक है, चंद्र ग्रहण की सम्पूर्ण जानकारी, Chandra Grahan Precautions, गर्भवती महिला के लिए चंद्र ग्रहण की सावधानियां, चंद्र ग्रहण गर्भवती महिलाओं के लिए, Pregnant Women during Chandra Grahan


Chandra Grahan 2019

चंद्र ग्रहण आकाश की वो आकर्षक खगोलीय घटनाएं हैं जिन्हे हिन्दू धर्म में बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। वैज्ञानिकों के अनुसार, ग्रहण मात्र एक आकाशीय परिवर्तन है लेकिन गर्भवती महिला के लिए ग्रहण की अवधि को बहुत नाजुक माना जाता है। इस दौरान जरा भी लापरवाही गर्भ के लिए नुकसानदेह हो सकती है।

चंद्र ग्रहण कब लगता है?

विज्ञान के अनुसार, जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी छाया में आ जाता है तो चन्द्रमा ढक जाता है जिससे चंद्र ग्रहण लगता है। ऐसा तभी होता है जब सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा इसी तरह एक सीधी रेखा में आ जाएं। चंद्र ग्रहण की स्थिति केवल पूर्णिमा के दिन ही घटित होती है जबकि सूर्य ग्रहण अमावस्या के दिन पड़ता है। चंद्र ग्रहण का आकार और उसकी अवधि इस बात पर निर्भर करती है की ग्रहण के दौरान चन्द्रमा किस स्थिति में है? पूर्ण चंद्र ग्रहण होने पर ‘ब्लड मून’ कहा जाता है। 2019 के पहले चंद्र ग्रहण को ‘सुपर ब्लड वूल्फ मून’ कहा जा रहा है।

चंद्र ग्रहण 2019

21 जनवरी 2019 को साल का पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण लग रहा है। यहाँ हम आपको चंद्र ग्रहण 2019 की सम्पूर्ण जानकारी दे रहे हैं की ग्रहण का प्रभाव कहाँ-कहाँ होगा? ग्रहण का समय क्या है? कितने बजे से कितने बजे तक चंद्र ग्रहण है? ग्रहण का सूतक काल कब से है? और चंद्र ग्रहण का गर्भवती महिला पर क्या प्रभाव पड़ेगा?

2019 का पहला चंद्र ग्रहण पौष पूर्णिमा के दिन पड़ेगा। गर्भवती महिलाओं को सूतक और ग्रहण काल के दौरान सतर्क रहना होगा। अगर आप उन जगहों पर रहती हैं जहाँ चंद्र ग्रहण लगने वाला है तो आपको खास सावधानी बरतनी होगी।

ताकि गर्भ में पल रहे शिशु पर ग्रहण का प्रभाव ना पड़ें। क्यूंकि ग्रहण का प्रभाव सबसे ज्यादा गर्भवती महिला पर ही होता है और शिशु के लिए अच्छा नहीं होता। ग्रहण काल के दौरान आपको क्या-क्या सावधानी बरतनी चाहिए। और क्या करें की आप और शिशु ग्रहण के प्रभावों से सुरक्षित रहें?

चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिला ये सावधानियां बरतें?

ग्रहण के दौरान चन्द्रमा से हानिकारक किरणें वायुमंडल में फ़ैल जाती हैं जो गर्भवती महिला के लिए और गर्भ में पल रहे शिशु के लिए बिलकुल भी ठीक नहीं होती। ऐसे में गर्भवती महिला को ग्रहण के दौरान घर में ही रहना चाहिए। इसके अलावा और भी कई सावधानियां हैं जिन्हे आपको ग्रहण के दौरान ध्यान रखना है।

घर से बाहर नहीं निकलें

गर्भवती महिलाएं चंद्र ग्रहण के दौरान घर से बाहर नहीं निकलें। और चंद्र ग्रहण को नहीं देखें। जितना हो सके घर में रहें। ध्यान रखें की चन्द्रमा की जरा भी रौशनी आप पर या आपके गर्भ पर ना पड़े। क्यूंकि ग्रहण के दौरान चन्द्रमा की किरणें दूषित हो जाती है। जिसका सीधा प्रभाव आपके गर्भ पर पड़ता है।

मोबाईल फोन से रहें दूर

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं भूलकर भी मोबाइल फोन का इस्तेमाल नहीं करें। और उसे अपने पास भी नहीं रखें। मोबाइल ग्रहण के समय निकलने वाली हानिकारक किरणों को अपनी ओर आकर्षित करता है। जो गर्भ में पल रहे शिशु को मानसिक विकार दे सकता है इसीलिए सावधानी बरतें।

ग्रहण के समय कुछ खाएं पियें नहीं

गर्भवती महिला को ग्रहण शुरू होने से लेकर ग्रहण समाप्त होने तक बने हुए या रखे हुए खाने को नहीं खाना चाहिए। और ना ही खाना बनाना चाहिए। कोशिश करें की ग्रहण के दौरान आप कुछ भी नहीं खाएं। ग्रहण समाप्त होने के बाद आप ताजा खाना बनाएं और उसी को खाएं। क्यूंकि ग्रहण के दौरान चन्द्रमा से निकलने वाली तरंगे खाने की वस्तुओं को भी दूषित कर देती हैं। जिसके कारण वे खाने योग्य नहीं रहती।

कुछ काटे या सिले नहीं

चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिला को कुछ भी काटना या सिलना नहीं चाहिए। और कोई नुकीली चीज जैसे – सुई, कैंची, पेन, चाकू आदि का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। माना जाता है ऐसा करने से गर्भ में पल रहे शिशु पर बुरा असर पड़ता है।

सोएं नहीं

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिला को सोना नहीं चाहिए और ना ही चलना चाहिए, इस दौरान उन्हें सिर्फ आराम से बैठे रहना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार, ग्रहण के दौरान सोना गर्भ में पल रहे शिशु के लिए सही नहीं माना जाता।

ग्रहण समाप्त होने पर स्नान करें

गर्भ में पल रहे शिशु को चंद्र ग्रहण के नकारात्मक प्रभावों से बचाने के लिए गर्भवती महिला को ग्रहण खत्म होने के बाद स्नान कर लेना चाहिए। और घर के हरेक कोने में जल छिड़क देना चाहिए इससे घर भी शुद्ध हो जाता है। नेगेटिव एनर्जी नहीं रहती।

चंद्र ग्रहण 2019 का समय

21 जनवरी 2019 के चंद्र ग्रहण का सूतक 20 जनवरी रात्रि 11 बजकर 07 मिनट से लगेगा और ग्रहण का आरंभ सुबह 08 बजकर 07 मिनट पर होगा। चंद्र ग्रहण का सूतक काल ग्रहण शुरू होने के 9 घंटे पहले लगता है।

चंद्र ग्रहण का आरंभ 21 जनवरी 2019 की सुबह 08 बजकर 07 मिनट पर होगा। ग्रहण की समाप्ति दोपहर 01 बजकर 07 मिनट पर होगी। यह भारतीय समय से अनुसार है। भारत में इस चंद्र ग्रहण का प्रभाव नहीं है।

यह ग्रहण अमेरिका, यूरोप, अफ्रिका, और मध्य पैसिफिक क्षेत्र में दिखाई देगा। 21 जनवरी का चंद्र ग्रहण भारत के किसी भी हिस्से में नहीं देखा जा सकेगा। इसलिए इसका सूतक भारत में मान्य नहीं होगा। और ना ही ग्रहण मान्य होगा। हमारे जो दर्शक इन क्षेत्रों में हैं जहाँ चंद्र ग्रहण लग रहा है वो इन बातों का ध्यान रखें।

विडिओ देखें –


चंद्र ग्रहण कब से कब तक है? चंद्र ग्रहण कौन-कौन से स्थान पर होगा? 21 जनवरी 2019 का चंद्र ग्रहण समय? चंद्र ग्रहण गर्भवती महिला के लिए सावधानियां, गर्भवती महिला को चंद्र ग्रहण के दौरान क्या करना चाहिए?