Ultimate magazine theme for WordPress.

सीने के एक तरफ दर्द रहता है? जानें क्या है कारण

0

आजकल के समय में जहां एक तरफ जमाना काफी प्रगतिशील होता जा रहा है वहीं दूसरी तरफ बिमारियों ने भी अपने-अपने क्षेत्र में काफी प्रगति कर ली है। पहले के समय में लोग इतना बीमार नहीं पड़ते थे। लेकिन आज के ज़माने में अस्त-व्यस्त खान पान और अस्वस्थ दिनचर्या के चलते 5 में से हर तीसरा व्यक्ति बीमार रहता है। कोई डायबिटीज की समस्या से परेशान है तो कोई बढ़ते वजन से। लेकिन इसके अलावा भी एक समस्या है जिससे अधिकतर लोग परेशान दिखाई देते है। और वो है सीने में दर्द।

सीने में दर्द का नाम सुनते है सभी के मन में दिल का दौरा पड़ने वाली बात आ जाती है जबकि इसके कई अन्य कारण भी हो सकते है। दिल के दौरे के अलावा फेफड़ों, मांसपेशियों, पसली और नसों में उत्पन्न हुई समस्या के कारण भी सीने में दर्द होता है। लेकिन कई बार स्थिति काफी गंभीर भी हो जाती है। ऐसे में डॉक्टरी परामर्श लेना ही उचित है।

अगर आपके सीने में भी अक्सर दर्द होता रहता है लेकिन वो केवल एक ही तरफ होता है तो हो सकता है की आपको कोई और बीमारी या परेशानी हो जिसके बारे में आप अभी तक नहीं जानते। प्रोफेशनल की माने तो सीने में दर्द एक चेतवानी मानी जाती है क्योंकि ये सीधे-सीधे हार्ट अटैक से जुडी होती है। इसीलिए सीने में हुए थोड़े से दर्द में भी डॉक्टर से जाँच करवा लेनी चाहिए। ताकि इस बात की पुष्टि की जा सके की कहीं आपको कोई गंभीर समस्या तो नहीं है।doctor se milen

लेकिन कई बार जानकारी और समय के अभाव में हम इस संकेत को अनदेखा कर बैठते है। ऐसा नहीं है की सीने में हुआ दर्द केवल हार्ट अटैक का ही लक्षण हो। बल्कि इसके अलावा भी कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं है जिनमे सीने में दर्द होना लाजमी है। इसीलिए आज हम आपको सीने में दर्द होने के क्या-क्या कारण होते है इस बारे में बताने जा रहे है। जिनकी मदद से आप जान पाएंगे की सीने में दर्द होने के क्या-क्या कारण होते है?

सीने में दर्द के क्या-क्या कारण होते है?

1. हड्डी में फ्रेक्चर :

पसली की हड्डियों में हुआ छोटा सा फ्रेक्चर भी सीने में हो रहे दर्द का एक कारण हो सकता है। यदि गिरने या एक्सीडेंट हो जाने के बाद दर्द हो रहा हो टी हो सकता है की आपकी हड्डी में चोट लगी हो। इतना ही नहीं बहुत अधिक टाइट हग देने से भी सीने में दर्द हो सकता है। कभी-कभार फेफड़ों में चोट लगने की वजह से भी सीने में दर्द की समस्या हो सकती है।

2. उपास्थि में सुजन :

पसली की उपास्थियों में सुजन हो जाने के कारण भी सीने में दर्द हो सकता है। इसके अलावा तनाव, किसी प्रकार की चोट या रूमटॉइड आर्थराइटिस (आमवात) भी दर्द का कारण हो सकते है। इतना ही नहीं किसी प्रकार की दबाव पड़ने या नसों की चोट की वजह से भी दर्द हो सकता है।

3. कैंसर :

फेफड़ों और कुछ विशेष प्रकार के कैंसर होने पर भी सीने में दर्द हो सकता है। अगर आपके साथ भी कोई समस्या हो रही है तो धुम्रपान छोड़कर तुरंत डॉक्टर के पास जाएं। उन्ही कैंसर में से एक है मेसोथेलिओमा जिसके कारण भी सीने में दर्द हो सकता है।

4. वायरल इन्फेक्शन :

वायरल और बैक्टीरियल इन्फेक्शन जैसे दाद, खाज खुजली आदि के कारण भी सीने में दर्द हो सकता है। कुछ स्थितियों में फेफड़ों के ऊतकों तक पूर्ण मात्रा में रक्त की आपूर्ति न होने के कारण भी दर्द होता है।

5. मांसपेशियों में तनाव :

सीने के आस पास की मांसपेशियों में खिंचाव या उनके फटने की वजह से भी सीने में दर्द होता है। अगर आप हेवी वेट लिफ्टिंग की कसरत आदि करते है या आपको कफ की समस्या रहती है तो हो सकता है की आपके सीने में भी दर्द की समस्या हो।

6. संक्रमण :

टी बी और निमोनिया जैसी बिमारियों के कारण भी सीने में दर्द की समस्या हो सकती है। क्योंकि संक्रमन के कारण फेफड़ों के पास तरल पदार्थ भर जाता है जो दर्द का कारण बनता है। इतना ही नहीं अस्थमा के कारण भी ये दर्द हो सकता है।

7. Acid Reflux (गैस) :सीने के एक तरफ दर्द रहता है

ये समस्या पाचन तंत्र से संबंधित समस्या है जो किसी को भी हो सकती है। कई बार इसी समस्या के चलते हार्ट बर्न और सीने में दर्द की समस्या उत्पन्न हो जाती है। तो अगर आपको लगता है की खराब पाचन क्रिया के साथ-साथ आपके सीने में भी दर्द हो रहा है तो तुरंत अपने डॉक्टर से मिलें और इस विषय में बात करें।

8. तनाव :

तनाव होने की वजह से दिल की धड़कने तेज हो जाती है। इसकी वजह से सांस लेने में तकलीफ होती है और रक्त चाप भी बढ़ जाता है जिससे हृदय में रक्त संचार की गति की भी नुकसान पहुंचता है। जिसके कारण भी सीने में दर्द हो सकता है।

यह सब बीमारियाँ अस्त व्यस्त दिनचर्या और अस्वस्थ खान-पान के कारण होती है। इसीलिए नियमित रूप से कम से कम 30 से 40 मिनट तक व्यायाम करना चाहिए। जो व्यायाम आपके शरीर के लिए उपयुक्त हो उस व्यायाम को ज़रूर करें, जैसे- तेज कदमों से चलना, सीढ़ियाँ चढ़ना, बैडमिंटन या टेनिस खेलना आदि। साथ ही अपने आहार में फाइबर की मात्रा बढ़ाएं और कैलोरी की मात्रा को कम करें। खाने में नमक की मात्रा को कम करना बेहद ज़रूरी होता है इसके अलावा खाने में ऊपर से नमक लेने की आदत को बिल्कुल छोड़ दे। ध्रूमपान, हृदय के लिए कितना हानिकारक है यह आपको बताने की जरुरत नहीं। इसलिए आपनी इस आदत को भी बदलें और धुम्रपान छोड़ दें।

खुद को स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम करना जितना ज़रूरी होता है उतना संतुलित आहार भी आवश्यक होता है। और इन सबके अलावा खुद को खुश रखना भी बेहद ज़रूरी होता है क्योंकि मन का सीधा प्रभाव आपके शरीर के स्वास्थ्य पर पड़ता है। इसलिए खुश रहें स्वस्थ रहें।

सीने में दर्द होने के बहुत छोटे कारण भी होते है और बहुत बड़े कारण भी हो सकते है। तो ऊपर लिखे गए कारण केवल जानकारी के लिए ही है। अगर आपके सीने में दर्द रहता है तो अपने डॉक्टर से मिलें और सही इलाज करवाएं।