कुकिंग टिप्स : तेल और मसालों का इस्तेमाल करने के तरीके

0

Cooking tips in hindi : खाना बनाना हर महिला को अच्छा लगता है और अच्छा खाना बनाना एक सफल गृहिणी की पहली पहचान होती है। यूँ तो खाना बनाना सभी भली-भांति जानती हैं लेकिन कई बार खाने में वो स्वाद नहीं आ पाता जो वास्तव में आना चाहिए जिसका कारण होता है खाना बनाते समय छोटी छोटी बातों को नजरअंदाज करना। शायद आप नहीं जानती लेकिन खाना बनाना बहुत ही बारीक़ कला है और इसे पूरा करते समय आपको छोटी-छोटी बारीकिओं पर ध्यान देना चाहिए जो अक्सर आप और हम नहीं देते।

परिणामस्वरूप खाने में वो स्वाद नहीं आता! वास्तव में खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए मेहनत के साथ-साथ सही मसालों का ताल-मेल होना भी बहुत जरुरी है। खाना चाहे वेज हो या नॉन-वेज एक ही रंग की ग्रेवी से किसी का भी मन ऊब जाता है। इसलिए यह जरुरी है की तरीदार व्यंजनों के लिए अलग-अलग फ्लेवर की ग्रेवी ट्राई करनी चाहिए। इसके अलावा खाना परोसने की कला भी काफी हद तक आपके कुकिंग स्टाइल को बया करती है इसलिए खाने को परोसने का अंदाज भी शालीन और आकर्षक होना चाहिए।

आज हम आपको कुकिंग की कुछ नायाब टिप्स दे रहें है जिनकी मदद से आप अपने खाने को और स्वादिष्ट बना सकतीं हैं। इसके लिए आपको खाना बनाते समय कुछ छोटी छोटी बारीकियों पर ध्यान देना होगा, फिर देखिएगा आपके हाथों का जादू!

अच्छी कुकिंग के लिए सही ऑइल का चुनाव : Best Oil for Best Cooking

कोई भी व्यंजन या खाने की चीज स्वादिष्ट तभी बनेगी जब उसके लिए बढ़िया तेल का इस्तेमाल किया जाए।

सुखी सब्जियों के लिए हमेशा सरसों के तेल का इस्तेमाल करना चाहिए। जबकि नॉन-वेज बनाते समय घी और सरसों का तेल इस्तेमाल करना अच्छा होता है।

पूरियां तलने के लिए हमेशा रिफाइंड आयल का इस्तेमाल करें।

आलू, गोभी, मटर के परांठे देसी घी में बनाने चाहिए। लेकिन कुछ विशेष परांठे जैसे मेथी के परांठे सरसों के तेल में बनाने से वे स्वादिष्ट बनते है।

भुनी हुई मूंगफली या भुने हुए चने की चटनी में तड़का लगाने के लिए हमेशा मूंगफली के तेल का इस्तेमाल करना चाहिए।

स्टफ्ड ऑमलेट बनाने के लिए सरसों के तेल या ओलिव आयल का इस्तेमाल करने से फ्लेवर अच्छा आता है।

तेल में मसाला भुनने की स्पेशल तकनीक : How to Saute Ingredient In Oil 

खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए मसालों का अच्छी तरह से पकना और भूनना बहुत जरुरी होता है।

तेल को गरम करने के बाद गीले मसाले जैसे अदरक और लहसुन का पेस्ट भूनते समय एक बात का खास ध्यान रखना चाहिए की प्याज को पहले भून लें और उसके बाद यह पेस्ट डालें। अंत में टमाटर डालें। प्याज-अदरक-लहसुन की ग्रेवी भूनते समय हल्दी पाउडर और टमाटर भूनते समय लाल मिर्च पाउडर डालें। जब कड़ाही तेल छोड़ने लगे, तब सब्जी, चावल, वेज-नॉन वेज आदि कोई भी व्यंजन डाल सकती हैं। ग्रेवी की रंगत दिखने लगेगी।

तेल को गरम करने के बाद उसमे थोड़ी सी चीनी डाल दें। जब वो चीनी ब्राउन हो जाए तो उसमे कोफ्ते की ग्रेवी तैयार करें। इस तरह आप नॉन-वेज की ग्रेवी भी तैयार कर सकते हैं।

नोट : सलाद में सेंधा नमक, चटनी में काला नमक, किसी भी तरह की ड्रिंक बनाने के लिए गुलाबी नमक और खाना पकाने के लिए हमेशा सफ़ेद नमक का इस्तेमाल करना चाहिए। 

तेल और साबुत मसालों की भूमिका :

तेल में जो भी मसाला पहले भुना जाएगा उसकी का फ्लेवर खाने में आएगा जैसे तेजपत्ता, मेथी, जीरा, हींग, राई, लौंग, मोटी इलायची, दालचीनी और काली मिर्च आदि। इसलिए सभी को जरूरत के अनुसार तेल में डालें और ज्यादा मात्रा में न डालें इससे खाने का स्वाद खराब हो सकता है। और हां, इन्हे जरूरत से ज्यादा न भूनें वरना ये काले दिखने लगेंगे जो खाने की प्रेजेंटेशन को खराब कर सकता है।

तो ये थी कुछ टिप्स जिनका इस्तेमाल आप अपने खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए कर सकती है। इन टिप्स का इस्तेमाल करके आप सभी को अपने हाथ के बने स्वादिष्ट खाने का जायका दिला सकतीं हैं।

Leave a Reply