प्रतियोगिता के लिए हिंदी कविता – जल ही जीवन है 

One of the most popular and prize winning poems for students.

जल ही जीवन है

जल, पृथ्वी पर है सबसे अनमोल रत्न
इसके बगैर कुछ नहीं कर सकते यत्न
सब कुछ करता सब कुछ भरता
धरती पर जीवन इसी में चलता
अब हम इसका कर रहे दुरुपयोग
जिसके कारण जग रहे हैं, कई नए रोग
धरती के नीचे से खींच रहें हैं,
अविश्वसनीय दाम पर
अंधाधुंध पानी,
जिससे धरती नीचे हो रही बेजानी
पानी का सदा करों सदुपयोग
आए न सूखा न कोई रोग,
रोको यह जल रोहन अभियान
वरना बिना मौत के गवाओगे अपनी जान
सब मिलकर करे ऐसा प्रयास जिससे
जल दोहन संकट की समझ में आए
सबकी बात,
व्यर्थ न फेंके जल की एक भी बूंद
सुधारे गलती व अपनी भूल
हम न सुधरे या न सुधरे समाज
तो प्यासे ही गँवाएंगे अपनी जान
सोच – समझकर करे प्रयास मिल सारे
जो न समझे उसको करो वारे न्यारे
करें प्रतिज्ञा व्यर्थ न फेंकेगे जल की एक बूंद
तभी होगी संकट सबके मिलने से दूर |