Ultimate magazine theme for WordPress.

काली फुंसी का इलाज : पीठ, पेट, बांह और जांघ पर काली फुंसी हटाने के तरीके

0

स्किन बहुत की कोमल और नाजुक होती है इसीलिए बहुत जल्दी किसी भी संक्रमण की चपेट में भी आ जाती है। जिसके कारण कई त्वचा पर फुंसी होने की समस्या हो जाती है और फुंसी होने के मुख्यतः दो कारण हो सकते है एक तो किसी तरह का इन्फेक्शन होने के कारण यानी की संक्रमण के कारण या बहुत अधिक गर्मी होने के कारण आपको इस समस्या से परेशान होना पड़ जाता है। ऐसे ही जो लोग गर्मी में गर्म तासीर जैसे की आम आदि का अधिक सेवन करते हैं उन्हें भी इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही फुंसी होने का एक कारण आपके ब्लड में होने वाली अशुद्धियाँ भी हो सकता है।

आपने देखा होगा की फुंसी होने के कारण कई बार उसमे मवाद भी भर जाता है और कील भी हो जाता है। ऐसे ही स्किन पर कई बार काली फुंसी भी हो जाती है और यह हाथ, पाँव, पेट, पीठ आदि पर हो जाती है। और इस पर खुजली आदि भी होने लगती है साथ ही इसके कारण आपकी स्किन भी भद्दी दिखने लगती है। और इसके होने पर हर कोई इससे जल्दी से जल्दी राहत पाना चाहता है। क्या आप भी काली फुंसी की समस्या से परेशान हैं? यदि हाँ तो आज हम आपको इस समस्या से बचने के कुछ ऐसे आसान उपचार बताने जा रहे हैं तो आइये जानते हैं की वो उपाय कौन से हैं।

काली फुंसी से बचने के उपाय:-

त्वचा पर काली फुंसी होने के कारण न केवल दर्द होता है बल्कि खुजली की समस्या भी हो जाती है। ऐसे में जिसे भी यह समस्या होती है वो जल्द से जल्द इस परेशानी से राहत पाना चाहता है। तो लीजिये कुछ उपाय जानते हैं जिससे आपको इस परेशानी से राहत मिलने में मदद मिलती है।

बेसन का इस्तेमाल करें:-

बेसन में थोड़ा सा कच्चा दूध या मलाई डाल कर एक लेप तैयार करें उसके बाद इस लेप को काली फुंसी पर लगाएं और अच्छे से रगड़कर साफ़ करें। उसके बाद इसे दो से तीन मिनट के लिए वहीँ रहने दें, और उसके बाद साफ़ पानी से इसे धो लें। इस उपाय को करने से आपको काली फुंसी से बचने में मदद मिलती है।

नीम है बहुत फायदेमंद:-

एंटी बैक्टीरियल और एंटी माइक्रोबियल गुण से भरपूर नीम आपकी काली फुंसी की समस्या को खत्म करने में आपकी मदद करता है। इसके लिए आप नीम के पत्तों को पीस कर एक लेप तैयार करें, उसके बाद उस लेप को काली फुंसी पर लगाकर छोड़ दें, ऐसा दिन में दो से तीन बार करें आपको इसका असर खुद ही दिखाई देगा। इसके आलावा नीम के पत्तो को पानी में उबाल कर उस पानी से नहाने पर भी स्किन पर होने वाले किसी भी संक्रमण से बचाव करने में मदद मिलती है। आप चाहे तो नीम के पत्तों को पीस कर उसका रस भी निकाल कर पी सकते हैं। क्योंकि इससे आपके ब्लड को साफ़ होने में मदद मिलती है जिससे आपको काली फुंसी को ठीक करने में मदद मिलती है।

टी ट्री आयल का इस्तेमाल करें:-

रुई की मदद से आप दिन में चार से पांच बार यदि टी ट्री आयल को अपनी काली फुंसी पर लगते हैं तो इसमें मौजूद एंटी बैक्टीरियल और एंटी माइक्रोबियल गुण आपको काली फुंसी की समस्या से बचाने में मदद करता है। और टी ट्री आयल आपको आसानी से बाजार में किसी भी दूकान पर मिल जाता है।

मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल करें:-

मुल्तानी मिट्टी की ठंडी होती है इसे भी यदि आप काली फुंसी पर लगाते हैं तो इससे आपकी यह परेशानी ठीक हो जाती है। इस उपाय को करने के लिए आप मुल्तानी मिट्टी को पीस कर उसमे पानी मिलाएं, उसके बाद इसे फुंसी पर लगाकर थोड़ी देर के लिए छोड़ दें, फिर पानी का इस्तेमाल करके इसे उतार दें, ऐसा नियमित करने से आपकी काली फुंसी ठीक होने लगती है।

अनानास के रस का प्रयोग करें:-

फुंसी की समस्या से बचने के लिए अनानास का रस भी बहुत ही आसान और असरदार उपाय है। इसके लिए बस आपको अनानास का रस निकालकर उसे रुई की मदद से अपनी काली फुंसी पर दिन में चार से पांच बार लगाना हैं यदि आप ऐसा करते हैं तो आपको इस समस्या से बचने में मदद मिलती है।

तेल और हल्दी का प्रयोग करें:-

थोड़ा सा तेल लेकर गर्म करें और उसके बाद उसमे हल्दी डाल दें, अब इस पेस्ट को अपनी काली फुंसी पर लगाकर कपडा बांध दें। दो घंटे बाद साफ पानी से इसे साफ करें इस उपाय को जब तक करें जब तक की आपकी काली फुंसी ठीक न हो जाएँ। आप चाहे तो इसे रात भर बांधकर भी सो सकते है।

तुलसी का इस्तेमाल करें:-

औषधीय गुणों से भरपूर तुलसी का इस्तेमाल करने से भी आपको काली फुंसी की समस्या से बचने में मदद मिलती है। इसके लिए आप तुलसी के पत्तो को पीस कर एक लेप तैयार करें और उसके बाद उस लेप को अपनी काली फुंसी पर लगाएं। ऐसा करने से भी आपको काली फुंसी की समस्या से बचने में मदद मिलती है।

तो यह हैं कुछ उपाय जिनका इस्तेमाल करके आप काली फुंसी की समस्या से बच सकते है। इसके अलावा काली फुंसी होने के कारण आपके रक्त में होने वाली अशुद्धियाँ भी हो सकती है। तो आप ऐसी चीजों का सेवन करें जिससे आपके ब्लड को साफ़ होने में मदद मिल सकें। इसके आलावा स्किन की साफ़ सफाई का भी ध्यान रखना चाहिए ताकि आपको किसी भी तरह का कोई इन्फेक्शन न हो।