Ultimate magazine theme for WordPress.

माहवारी के समय होने वाले पेट दर्द, कमर दर्द, और जी मचलाने की समस्या का समाधान ऐसे होगा

0

माहवारी की समस्या हर एक महिला को होना जरुरी होता है, और ये भी अन्य शारीरिक प्रक्रिया में से एक होती है, इस समस्या महिला के शरीर में होने वाले हॉर्मोन्स के असंतुलन के कारण महिलाओ को पेट में दर्द, कमर दर्द, व् जी मचलाने की समस्या हो जाती है, जिसके कारण महिलाओ को परेशानी होती है, तो आइये आज हम आपको माहवारी में होने वाले पेट दर्द, कमर दर्द आदि समस्या का आसान हल बताते है।

माहवारी को पीरियड्स के नाम से भी जाना जाता है, यह भी महिला के शरीर में होने वाली एक शारीरिक प्रक्रिया है, इस दौरान महिला को कभी पेट दर्द, कमर दर्द या जी मचलाने की समस्या हो जाती है, और ऐसा भी नहीं है ये परेशानी हर महिला को हो, बल्कि ये महिला के शरीर में होने वाले बदलाव पर निर्भर करती है, परंतु जिन महिलाओ को ये परेशानी होती है, वो इसके कारण काफी असहज महसूस करती है, और कई महिलाएं इसके लिए गोलियो का भी सेवन करती है, जो की एक गलत इलाज़ होता है।

मासिक धर्म में होने वाले दर्द से निजात पाने के लिए यदि आप गोलियो का सेवन करती है, तो इसके कारण आपको मासिक धर्म में अनियमिता, या रक्त के भाव में आने वाले परिवर्तन की समस्या हो जाती है इसीलिए जितना हो सकें आपको पीरियड्स में होने वाले दर्द से निजात पाने के लिए कभी भी किसी दवाई का सेवन नहीं करना चाहिए, और ये ऐसी भी समस्या नहीं है की जिसका कोई इलाज़ न हो, तो आइये आज हम आपको माहवारी में होने वाले पेट दर्द, कमर दर्द व् जी मचलाने की समस्या से राहत पाने के लिए कुछ उपाय बताने जा रहे है।

अजवाइन का इस्तेमाल करें:-

अजवाइन

माहवारी के दौरान कई महिलाओ को गैस्ट्रिक समस्या भी हो जाती है, जिसके कारण आपको पेट में दर्द व् जी मचलाने लगता है, इस समस्या से बचाने के लिए आप यदि आधा चम्मच अजवाइन, और आधा चम्मच नमक को गुनगुने पानी के साथ लेते है, तो तुरंत इस समस्या से आपको राहत मिलती है।

अदरक का इस्तेमाल करें:-

अदरक के छोटे टुकड़े काट कर पानी में उबाल लें, और पीरियड्स के दिनों में होने वाले पेट दर्द से राहत के लिए आप इस पानी को छान कर दिन में तीन बार खाना खाने के बाद इसका सेवन करें, इसके कारण आपको माहवारी में होने वाले दर्द से राहत मिलती है।

तुलसी का इस्तेमाल करें:-

तुलसी के औषधीय गुण आपको माहवारी में होने वाले पेट दर्द, कमर दर्द और जी मचलाने की समस्या से राहत पाने में मदद करते है, इसमें मौजूद कैफीक एसिड आपको दर्द से राहत दिलाता है, इसके लिए आप चाय में तुलसी के दो पत्ते डाल कर इसका सेवन कर सकते है, या आप सात या आठ पत्ते आधा कप पानी में उबाल कर यदि उसका सेवन करते है, तो इसके कारण आपको तुरंत फायदा मिलने में मदद मिलती है।

गरम पानी का इस्तेमाल करें:-

माहवारी में जितना हो सकें आपको नहाने के लिए गरम पानी का ही इस्तेमाल करना चाहिए, इसके कारण आपके शरीर की सिकाई होती है, जिसके कारण आपको पेट और कमर दर्द की समस्या से राहत मिलती है, साथ ही रक्त का प्रवाह भी अच्छे से होता है, इसके अलावा आप चाहे तो वैसे भी गरम पानी की थैली से अपने पेट और कमर की सिकाई करके भी आराम पा सकते है।

पपीते का सेवन करें:-

papaya

पीरियड्स के दिनों में पपीते का सेवन करने से भी आपको माहवारी के दर्द से राहत मिलती है, क्योंकि कई बार माहवारी में पेट , अन्य दर्द का कारण रक्त का प्रवाह सही से न होने के कारण होता है, और यदि आप पपीते का सेवन करते है, तो इसके कारण रक्त का प्रवाह अच्छे से होने के साथ, आपको दर्द से भी रहत मिलती है, साथ ही जी मचलाने की समस्या से भी निजात पाने में मदद मिलती है।

दालचीनी का इस्तेमाल करें:-

दालचीनी में कैल्शियम, आयरन, फाइबर आदि प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, मासिक धर्म के समय होने वाले पेट व् कमर दर्द की समस्या से राहत पाने के लिए आप इसका इस्तेमाल कर सकती है, इसके लिए आप एक गिलास पानी में दालचीनी को उबाल ले, और उसे छान कर उसमे एक चम्मच शहद मिलाकर माहवारी के दिनों में पीएं तोआपको दर्द के साथ सूजन की समस्या से भी राहत मिलती है।

सोंफ का इस्तेमाल करें:-

sonf

सोंफ का इस्तेमाल करने से भी आपको पीरियड्स के दौरान होने वाली शरीर में ऐंठन की समस्या से राहत पाने में मदद मिलती है, इसके सेवन के लिए आप उबलते हुए पानी में सोंफ डाल कर पांच मिनट के लिए उबलने दें, और उसके बाद उसमे शहद मिलाकर दिन में दो से तान बार इस हर्बल चाय का सेवन करें, इसका सेवन करने से आपको अपने शरीर में होने वाले पेट दर्द कमर दर्द से राहत मिलने के साथ फ्रेश फील करने में भी मदद मिलेगी।

हल्का फुल्का व्यायाम करें:-

मासिक धर्म के दौरान महिलाएं व्यायाम करना बंद कर देती है, परंतु आपको हल्का फुल्का व्यायाम करना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से आपके शरीर में रक्त का फ्लो अच्छे से होता है, जिसके कारण आपको दर्द से भी राहत मिलती है, और साथ ही जब आप खुली हवा में व्यायाम करते है, तो इसके कारण आपको जी मचलाने की समस्या भी नहीं होती है, क्योंकि इससे आपको फ्रेश महसूस होता है।

स्वस्थ व् पोष्टिक आहार का सेवन करें:-

माहवारी के समय आपके शरीर में विटामिन और आयरन जैसे खनिजो की खपत होती है, जिसके कारण आपको कमजोरी होने लगती है, इसकी पूर्ति के लिए आपको मासिक धर्म के दौरान अपने खान पान का विशेष ख्याल रखना चाहिए, इसीलिए इन आवश्यक पोषक तत्वो की पूर्ति के लिए फलो, हरी सब्जियों, जूस, दूध आदि का भरपूर मात्रा में सेवन करना चाहिए।

पीरियड्स में होने वाले कमर दर्द, पेट दर्द, व् जी मचलाने की समस्या से बचाने के अन्य उपाय:-

  • पीरियड्स के दैरान हल्दी वाला दूध पीने से आपको माहवारी में होने वाले पेट दर्द की समस्या से राहत पाने में मदद मिलती है।
  • आप चाहे तो लैवेंडर के तेल से अपने पेट या कमर पर मसाज करके भी दर्द से राहत पा सकते है।
  • एलोवेरा के जूस में शहद मिलाकर पीने से भी आपको पीरियड्स में होने वाले दर्द की समस्या से राहत मिलती है।
  • ग्रीन टी भी एंटी ऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती है, ग्रीन टी का सेवन करने से भी आपको पीरियड में होने वाले पेट दर्द की समस्या से राहत पाने में मदद मिलती है।
  • दूध व् अन्य डेरी प्रोडक्ट का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए।
  • ज्यादा मसालेदार खाने और जंक फ़ूड से परहेज रखना चाहिए।
  • ज्यादा भाग दौड़ नहीं करनी चाहिए व् भारी वजन आदि भी नहीं उठाना चाहिए।
  • गाजर का जूस पीने से भी रक्त का प्रवाह अच्छे से होता है, जिसके कारण आपको माहवारी में होने वाले दर्द से राहत मिलती है।

तो ये कुछ तरीके है जिनका इस्तेमाल करके आप माहवारी में होने वाले पेट दर्द कमर दर्द व् जी मचलाने की समस्या से राहत पा सकते है, यदि आप भी इस समस्या से राहत पाना चाहते है, तो आपको दवाईयो का सेवन करने की बजाय इन तरीको का इस्तेमाल करना चाहिए, क्योंकि दवाईयो का इस्तेमाल करने से आपको साइड इफ़ेक्ट का सामना करना पड़ सकता है, परंतु इन घरेलू तरीको से आपको कोई नुकसान नहीं होगा।