महात्मा गाँधी के अनमोल विचार, Mahatma Gandhi Top 20 Quotes

0

Mahatma Gandhi Quotes, महात्मा गाँधी के अनमोल विचार, महात्मा गांधी के सुविचार Mahatma Gandhi Top 20 Quotes, Famous Mahatma Gandhi Quotes in Hindi, Inspirational quotes.


विश्वास करना एक गुण है, अविश्वास दुर्बलता कि जननी है।
Vishwas karna ek gun hai, avishwas durbalta ki janani hai.


अपने प्रयोजन में दृढ विश्वास रखने वाला एक सूक्ष्म शरीर इतिहास के रुख को बदल सकता है।
Apne prayojan me dridh vishwas rakhne wala ek sukshm sharir itihas ke rukh ko badal sakta hai.


शांति का कोई रास्ता नहीं है, केवल शांति है।
Shanti ka koi rasta nahi hai, kewal shanti hai.


आँख के बदले में आँख पूरे विश्व को अँधा बना देगी।
Aankh ke badle me aankh pure vishv ko andha bana degi.


जो समय बचाते हैं, वे धन बचाते हैं और बचाया हुआ धन, कमाएं हुए धन के बराबर है।
Jo samay bachate hai, ve dhan bachate hai aur bachaya hua dhan, kamaye hue dhan ke barabar hota hai.


केवल प्रसन्नता ही एकमात्र इत्र है, जिसे आप दुसरो पर छिड़के तो उसकी कुछ बुँदे अवश्य ही आप पर भी पड़ती है।
Kewal prasannta hi ekmatr itr hai, jise aap dusro par chidake to uski kuch bunde aap par bhi padti hai.


पहले वो आप पर ध्यान नहीं देंगे, फिर वो आप पर हँसेंगे, फिर वो आप से लड़ेंगे, और तब आप जीत जायेंगे।
Pehle vo aap par dhyan nahi denge, fir vo aap par hasenge, fir vo aap se ladenge aur tab aap jeet jayenge.


व्यक्ति की पहचान उसके कपड़ों से नहीं अपितु उसके चरित्र से आंकी जाती है।
Vyakti ki pehchan uske kapdo se nahi apitu uske charitr se aankhi jati hai.


मौन सबसे सशक्त भाषण है, धीरे-धीरे दुनिया आपको सुनेगी।
Maun sabse sshakt bhashan hai, dhire-dhire duniya apko sunegi.


सत्य एक विशाल वृक्ष है, उसकी ज्यों-ज्यों सेवा की जाती है, त्यों-त्यों उसमे अनेक फल आते हुए नजर आते है, उनका अंत ही नहीं होता।
Saty ek vishal vriksh hai, uski jyo-jyo seva ki jati hai, tyo-tyo usme anek fal aate hue nazar aate hai, unka ant hi nahi hota.


विश्व के सभी धर्म, भले ही और चीजों में अंतर रखते हों, लेकिन सभी इस बात पर एकमत हैं कि दुनिया में कुछ नहीं बस सत्य जीवित रहता है।
Vishv ke sabhi dharm, bhale hi aur chijo me antar rakhte ho, lekin sabhi ek baat par ekmat hai ki duniya me kuch nahi bas saty jivit rehta hai.


आप मुझे जंजीरों में जकड़ सकते हैं, यातना दे सकते हैं, यहाँ तक की आप इस शरीर को नष्ट कर सकते हैं, लेकिन आप कभी मेरे विचारों को कैद नहीं कर सकते।
Aap mujhe janjiro me jakad sakte hai, yatna de sakte hai, yaha tak ki aap is sharir ko nasht kar sakte hai, lekin aap kabhi mere vicharo ko kaid nahi sakte.


अपने ज्ञान के प्रति ज़रुरत से अधिक यकीन करना मूर्खता है। यह याद दिलाना ठीक होगा कि सबसे मजबूत कमजोर हो सकता है और सबसे बुद्धिमान गलती कर सकता है।
Apne gyan ke prati jarurat se adhik yakin karna murkhta hai. yeh yad dilana thik hoga ki sabse majbut kamjor ho sakta hai aur sabse buddhiman galti kar sakta hai.


प्रार्थना माँगना नहीं है। यह आत्मा की लालसा है। यह हर रोज अपनी कमजोरियों की स्वीकारोक्ति है। प्रार्थना में बिना वचनों के मन लगाना, वचन होते हुए मन ना लगाने से बेहतर है।
Prarthna mangna nahi hai. Yeh aatma ki lalsa hai. Yeh har roz apni kamjoriyo ki swikarokti hai. Prarthna me bina vachno ke man lagana, vachan hote hue man n lagane se behtar hai.


सात घनघोर पाप: काम के बिना धन; अंतरात्मा के बिना सुख; मानवता के बिना विज्ञान; चरित्र के बिना ज्ञान; सिद्धांत के बिना राजनीति; नैतिकता के बिना व्यापार; त्याग के बिना पूजा.
Saat ghanghor paap : kaam ke bina dhan, Antaratma ke bina sukh, Manavta ke bina vigyan, Charitr ke bina gyan, Sidhant ke bima rajniti, Naitikta ke bina vyapar, Tyag ke bina puja.


आदमी अक्सर वो बन जाता है जो वो होने में यकीन करता है। अगर मैं खुद से यह कहता रहूँ कि मैं फ़लां चीज नहीं कर सकता, तो यह संभव है कि मैं शायद सचमुच वो करने में असमर्थ हो जाऊं। इसके विपरीत, अगर मैं यह यकीन करूँ कि मैं ये कर सकता हूँ, तो मैं निश्चित रूप से उसे करने की क्षमता पा लूँगा, भले ही शुरू में मेरे पास वो क्षमता ना रही हो।

Aadmi aksar vo ban jata hai jo vo hone me yakin karta hai. Agar main khud se yeh kehta rahun ki main flan chij nahi kar sakta, to yeh sambhav hai ki main shayad sachmuch vo karne me asamarth jo jaun. Iske viprit agar main yeh yakin karun ki main ye kar sakta hu, to main nishchit rup se use karne ki kshamta pa lunga, bhale hi shuru me mere paas vo kshamta n rahi ho.


गुलाब को उपदेश देने की आवश्यकता नहीं होती है। वह तो केवल अपनी ख़ुशी बिखेरता है। उसकी खुशबु ही उसका संदेश है।
Gulab ko updesh dene ki avshayakta nahi hoti hai. Veh to kewal apni khushi bikherta hai. Uski khushbu hi uska sandesh hai.


कोई त्रुटी तर्क-वितर्क करने से सत्य नहीं बन सकती और ना ही कोई सत्य इसलिए त्रुटी नहीं बन सकता है क्योंकि कोई उसे देख नहीं रहा।
Koi truti tark-vitark karne se saty nahi ban sakti aur na hi koi saty isliye tritu ban sakta hai kyoki koi use dekh nahi raha hai.


पूंजी अपने-आप में बुरी नहीं है, उसके गलत उपयोग में ही बुराई है। किसी ना किसी रूप में पूंजी की आवश्यकता हमेशा रहेगी।
Punji apne-aap me buri nahi hai, uske galat upyog me hi burai hai. Kisi n kisi rup me punji ki avshayakta hamesha rahegi.


अपनी गलती को स्वीकारना झाड़ू लगाने के सामान है जो धरातल की सतह को चमकदार और साफ़ कर देती है।
Apni galti ko swikarna jhadu lagane ke sman hai jo dharatal ki stah ko chamakdar aur saaf kar deti hai.


निरंतर विकास जीवन का नियम है, और जो व्यक्ति खुद को सही दिखाने के लिए हमेशा अपनी रूढ़िवादिता को बरकरार रखने की कोशिश करता है वो खुद को गलत स्थिति में पंहुचा देता है।
Nirantar vikas jivan ka niyam hai, aur jo vyakti khud ko sahi dikhane ke liye hamesha apni rudiwadita ko barkarar rakhne ki koshish karta hai vo khud ko galat stithi me pahucha deta hai.


सत्य कभी ऐसे कारण को क्षति नहीं पहुंचाता जो उचित हो।
Saty kabhi aise karan ko kshati nahi pahuchata ko uchit ho.