ओशो के अनमोल विचार, Osho Top 20 Quotes

Osho Quotes, ओशो के अनमोल विचार, ओशो के सुविचार, Osho Top 20 Quotes, Famous Osho Quotes in Hindi, Inspirational quotes of Osho, Osho rajnesh quotes in hindi.


मोह के बिना दुःख होता ही नहीं, जब भी दुःख होता है, मोह से होता है।
Moh ke bina dukh hota hi nahi, jab bhi dukh hota hai, moh se hota hai.


कल तो कभी आता ही नहीं ,जब भी आता है, आज ही आता है, कल भी आज ही आएगा।
Kal to kabhi aata hi nahi, jab bhi aata hai, aaj hi aata hai, kal bhi aaj hi ayega.


‘मैं’ से भागने की कोशिश मत करना, उस से भागना हो ही नहीं सकता, क्योंकि भागने में भी वह साथ ही है, उस से भागना नहीं है बल्कि समग्र शक्ति से उसमें प्रवेश करना है।
‘Main’ se bhagne ki koshish mat karna, us se bhagna ho hi nahi sakta, kyoki bhagne me bhi vah sath hi hai, us se bhagna nahi hai balki samagr shakti se usme pravesh karna hai.


अगर आप सच देखना चाहते हैं तो ना ही पक्ष में रहें और ना ही विपक्ष में।
Agar aap sach dekhna chahte hai to na hi paksh me rahe aur na hi vipaksh me.


जीवन क्या है? कुछ नहीं, ठेहराव और गति के बीच का संतुलन।
Jivan kya hai? kuch nahi, therav aur gati ke bich ka santulan.


उस रास्ते पर मत चलो जिसपर डर तुम्हें ले जाये ,
बल्कि उस रास्ते पर चलो जिसपर प्रेम ले जाये,
उस रास्ते पर चलो जिसपर ख़ुशी तुम्हें ले जाये।
Us raste par mat chalo jispar dar tumhe le jaye,
balki us raste par chalo jispar prem le jaye,
us raste par chalo jispar khushi tumhe le jaye.


आप वही बन जाते हैं जो आप अपने बारे में सोचते हैं।
Aap vahi ban jate hai jo aap apne bare me sochte hai.


सबसे बड़ी मुक्ति है स्वयं को मुक्त करना क्योंकि साधारणतया हम भूले ही रहते हैं कि स्वयं पर हम स्वंय ही सबसे बड़ा बोझ हैं।
Sabse badi mukti hai swayam ko mukt karna kyoki sadharantya ham bhule hi rehte hai ki swayam par ham swayam hi sabse bada bojh hai.


मूर्ख दूसरों पर हँसते हैं, बुद्धिमत्ता खुद पर।
Murkh dusro par hanste hai, buddhimatta khud par.


जहां आपको लगता है कि कुछ निंदा हो रही है वहीं आपको रस आता है, रस आता है क्योंकि दूसरा आदमी छोटा किया जा रहा है और उसके छोटे होने से आपको अंदर से अनुभव होता है कि मैं बड़ा हूं।
Jaha aapko lagta hai ki kuch ninda ho rahi hai vahi aapko ras aata hai, ras aata hai kyoki dusra aadmi chota kiya ja raha hai aur uske chote hone se apko andar se anubhav hota hai ki main bada hu.


जब दिल में प्यार और नफरत दोनों ही ना हो तो हर चीज साफ़ और स्पष्ट हो जाती है।
Jab dil me pyaar aur nafrat dono hi na ho to har chij saaf aur sapasth ho jati hai.


यहाँ कोई भी आपका सपना पूरा करने के लिए नहीं है, हर कोई अपनी तकदीर और अपनी हक़ीकत बनाने में लगा है।
Yaha koi bhi aapka sapna pura karne ke liye nahi hai, har koi apni takder aur apni hakikat banane me laga hai.


किसी से किसी भी तरह की प्रतिस्पर्धा की आवश्यकता नहीं है, आप स्वयं में जैसे हैं एकदम सही हैं, खुद को स्वीकारिये।
Kisi se kisi bhi tarah ki pratisparsha ki avshyakta nahi hai, aap swayam me jaise hai ekdan sahi hai, khud ko swekariye.


बड़ा सवाल ये नहीं है कि कितना सीखा जा सकता है…. इसके उलट, सवाल ये है कि कितना भुलाया जा सकता है।
Bada swal ye nahi hai ki kitna sikha ja skata hai…iske ulat sawal ye hai ki kitna bhulaya ja sakta hai.


आप जितने लोगों को चाहें उतने लोगों को प्रेम कर सकते हैं- इसका ये मतलब नहीं है कि आप एक दिन दिवालिया हो जायेंगे, और कहेंगे, “अब मेरे पास प्रेम नहीं है”। जहाँ तक प्रेम का सवाल है आप दिवालिया नहीं हो सकते।
Aap jitne logo ko chahe utne logo ko prem kar sakte hai – iska ye matlab nahi hai ki aap ek din diwaliya ko jayenge, aur kahenge, “ab mere paas prem nahi hai”. Jaha tak prem ka sawal hai aap diwaliya nahi ho sakte.


मित्रता शुद्ध प्रेम है ये प्रेम का सर्वोच्च रूप है जहाँ कुछ भी नहीं माँगा जाता, कोई शर्त नहीं होती, जहां बस देने में आनंद आता है।
Mitrta shudh prem hai ye prem ka sarvochch roop hai jaha kuch bhi nahi manga jata, koi shrt nahi hoti, jaha bas dene me aanad aata hai.


संसार सुन्दर है क्योंकि इसे ईश्वर ने बनाया है। जो संसार को गंदा कहता है, वह ईश्वर का तिरस्कार कर रहा है।
Sansar sundar hai kyoki ise ishwar ne banaya hai. jo sansar ko ganda kehta hai, veh ishwar ka tiraskar kar raha hai.


कल कभी भी नहीं होता है, जब भी हाथ में आता है, तो आता है आज और उसको भी कल पर छोड़ देते हैं, हम जीते ही नहीं, स्थगित किये चले जाते हैं| कल जी लेंगे ,परसों जी लेंगे।
Kal kabhi bhi nahi hota hai hai, jab bhi hath me aata hai, to aata hai aaj aur usko bhi kal par chod dete hai, ham jite hi nahi, sthagit kiye chale jate hai. kal jee lenge, parso jee lenge.


जो भी किया जा सकता है, उसी वक़्त किया जा सकता है, जिसे आप कल पर छोड़ रहे हैं, जान लें, आप करना नहीं चाहते हैं।
Jo bhi kiya ja sakta hai, usi vyakt kiya ja sakta hai, jise aap kal par chod rahe hai, jan le, aap karna nahi chahte hai.


ठोकरे खा कर भी न संभले तो मुसाफ़िर का नसीब, वर्ना पत्थरों ने तो अपना फ़र्ज निभा ही दिया था।
Thokra kha kar bhi n sambhle to musafir ka naseb, varna patthar ne to apna farj nibha hi diya tha.