पति पत्नी का रिश्ता कैसा होना चाहिए

पति पत्नी का रिश्ता कैसा होना चाहिए, पति पत्नी के रिश्ते को मजबूत बनाने के टिप्स, पति पत्नी का रिश्ता कैसा होता है, पति पत्नी का रिश्ता कैसे निभाएं, Relationship between Husband and Wife

केवल शादी हो जाने से पति पत्नी का रिश्ता नहीं बन जाता है, बल्कि इसे प्यार और विश्वास से सींच कर मजबूत बनाने के बाद इसकी नींव तैयार की जाती है। पति पत्नी के बीच प्यार की डोर जितनी कोमल होती है उतनी ही मजबूत भी होती है। जैसे जैसे शादी के बाद पति और पत्नी एक दूसरे को जानने की कोशिश करते है, एक दूसरे को समझते है, एक दूसरे का हाथ थाम कर जीवन के हर सुख दुःख का सामना करते हैं, आदि तब यह रिश्ता और भी ज्यादा गहरा हो जाता है। आज हम आपको पति पत्नी के इस प्यारे और अनोखे रिश्ते के बारे में कुछ बातें बताने जा रहें हैं जिनसे आपको पता चलेगा के पति और पत्नी का रिश्ता कैसा होना चाहिए।

आपसी समझ होना है जरुरी

शादी के बाद पति पत्नी के लिए सबसे पहले यह जरुरी होता है की दोनों एक दूसरे को समझने की कोशिश करें, एक दूसरे की पसंद नापसंद को समझें, एक दूसरे को जानने की कोशिश करें, एक दूसरे के व्यवहार को समझें, एक दूसरे की बातों को समझें आदि। यदि पति पत्नी इन सब चीजों का ध्यान रखते हैं तो यह एक बेहतरीन दाम्पत्य की निशानी होती है।

विश्वास है पति पत्नी के रिश्ते की नींव

जब पति और पत्नी एक दूसरे को समझते हैं तो उनके बीच विश्वास की नींव भी मजबूत हो जाती है। और यही विश्वास यदि पति अपनी पत्नी पर और पत्नी अपने पति पर बनाकर रखती है। तो रिश्ते में हमेशा प्यार को बरकरार रहने में मदद मिलती है। लेकिन यदि विश्वास को कोई भी तोड़ने की कोशिश करता है या तोड़ता है तो पति पत्नी के रिश्ते पर इसका बहुत बुरा असर पड़ता है।

संयम भी है जरुरी

संयम का मतलब मानसिक उत्तेजनाओं से है जैसे की गुस्सा आना, अहंकार होना, मोह होना, क्रोध होना, इन सब पर पति और पत्नी का यदि कण्ट्रोल होता है। तो एक पार्टनर के ऐसा करने पर दूसरा बात को संभाल लेता है जिससे रिश्ते में प्यार बना रहता है, इसीलिए पति पत्नी के रिश्ते में मजबूती के लिए संयम का होना बहुत जरुरी होता है।

संतुष्टि भी रखे पति और पत्नी

जितना है उससे ज्यादा की चाह के कारण रिश्ते में कई बार दरार आ जाती है, ऐसे में जितना है जो है, उसी में संतोष रखना बहुत जरुरी है। और बाहरी लोगो को देखकर अपने घर में कलह करना पति पत्नी के रिश्ते में प्यार की कमी का कारण होता है। इसीलिए पति और पत्नी के रिश्ते को गहरा करने के लिए दोनों में संतुष्टि का होना भी बहुत जरुरी होता है।

पति पत्नी में हो समर्पण की भावना

पति और पत्नी के रिश्ते में समर्पण की भावना का होना भी बहुत जरुरी होता है, एक दूसरे की ख़ुशी के लिए अपनी इच्छाओं, आवश्यकताओं का त्याग कर देना, पति और पत्नी के बीच हमेशा खुशियों और प्यार को बरकरार रखने में मदद करता है।

बराबरी का दे दर्जा

पति और पत्नी के रिश्ते में दोनों को ही कभी एक दूसरे को नीचा नहीं दिखाना चाहिए, बल्कि एक दूसरे को बराबरी का दर्जा देना चाहिए। यदि दोनों में से कोई एक भी अपने पार्टनर को नीचा दिखाता है तो ऐसे में केवल झगड़ा, कलह, या रिश्ता टूटने की कगार पर आ जाता है। और यदि आप हमेशा अपने रिश्ते में प्यार को बरकरार रखना चाहते हैं तो पति को पत्नी को और पत्नी को पति को एक दूसरे के बराबर का दर्जा देना चाहिए।

सक्षम होना भी है जरुरी

मानसिक, आर्थिक, शारीरिक रूप से हमेशा पति और पत्नी को सक्षम रहना चाहिए। ताकि जब भी आप दोनों को एक दूसरे की जरुरत हो तो आप एक दूसरे का साथ देने के लिए हमेशा तैयार खड़े रहें। यदि पति और पत्नी के बीच हमेशा सामर्थ्य बरकरार रहता है तो समय के साथ यह रिश्ता और भी गहरा हो जाता है।

संवेदनशीलता

बिना कहे एक दूसरे की भावनाओं को समझना, एक दूसरे की इच्छाओं का सम्मान करना, उन्हें पूरा करने की कोशिश करना, पति पत्नी के बीच यह संवेदनशीलता और एक दूसरे के प्रति सम्मान उन्हें उनके रिश्ते के प्रति हमेशा समर्पित रखने में मदद करता है।

पति पत्नी ले संकल्प

यदि आप चाहते हैं की आप अपने पार्टनर के साथ हमेशा खुश रहे तो आपको यह संकल्प लेना चाहिए, की आप पति पत्नी के रूप में हमेशा अपने कर्तव्यों का पालन करेंगे, अपने पार्टनर का हर कदम पर साथ देंगे, दुःख सुख में हमेशा एक दूसरे का हाथ थाम कर रखेंगे, एक दूसरे की इच्छाओं का सम्मान करेंगे, आदि। बस यही प्रण पति और पत्नी के रिश्ते के बीच प्यार को बरकरार रखता है।

पति और पत्नी का रिश्ता दोनों के भरपूर सहयोग और रिश्ते के प्रति समर्पण पर निर्भर करता है, दोनों में से किसी एक का भी रिश्ते के प्रति समर्पित न होना, रिश्ते को कमजोर बना सकता है। इसीलिए यदि आप भी अपने पार्टनर के साथ हमेशा अपने रिश्ते को मजबूत बनाना चाहते हैं तो आपको ऊपर दिए गए टिप्स का खास ध्यान रखना चाहिए।