Ultimate magazine theme for WordPress.

सर्वपितृ अमावस्या 2017, 19 सितम्बर 2017

0

2017 श्राद्ध, पितृ पक्ष श्राद्ध, महालय श्राद्ध तिथि, पितृ पक्ष अमावस्या, सर्वपितृ अमावस्या, सर्व पितृ अमावस्या 2017, महालया अमावस्या, सर्व पितृ अमावस्या श्राद्ध, सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या, सर्व पितृ 19 सितम्बर 2017 श्राद्ध, सर्वपितृ अमावस्या तारीख, सव पितृ अमावस्या पूजन विधि, सर्वपितृ अमावस्या पूजन 2017, अमावस्या श्राद्ध 2017, अमवस्या सर्वपितृ श्राद्ध २०१७, 19 सितम्बर 2017

पितृ अर्थात हमारे मृत पूर्वजों का तर्पण करवाना हिन्दू धर्म की एक प्राचीन प्रथा है जिसे प्रत्येक हिन्दू को पुरे विधि विधान के साथ सम्पूर्ण करना होता है। हिन्दू धर्म में श्राद्ध पक्ष के लिए सोलह दिन निर्धारित किए गए हैं जिसमे आप अपने पूर्वजों को याद कर उनका तर्पण कर उन्हे शांति और तृप्ति प्रदान करते है, ताकि आपको उनका आर्शीवाद और सहयोग ‍मिलता रहे।

जिस माता, पिता, दादा, दादी, प्रपितामह, मातामही एवं अन्य बुजुर्गों के लाड, प्यार, श्रम से कमाएं धन एवं इज्जत के सहारे आप सुखपूर्वक रहते हैं, और आज जब उनका शरीर पांच तत्व में मिल गया है तो आपका यह परम कर्तव्य बनता है कि अपने पितरों के लिए कम से कम और कुछ नहीं तो उनका तर्पण कर दें।

अमवस्या तिथि का श्राद्ध परिवार के उन सदस्यों के लिए किया जाता है जिनकी मृत्यु अमावस्या तिथि, पूर्णिमा तिथि या चतुर्थी तिथि पर हुई हो।pitru-paksha

जो लोग अन्य तिथियों में अपने पूर्वजों का तर्पण नहीं करवा पाते है वे भी अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए इसी दिन श्राद्ध करते है। इसके अलावा यदि पित्रों की मृत्यु तिथि याद नहीं है तो भी श्राद्ध इसी दिन किया जा सकता है। इसी वजह से इसे सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या कहा जाता है।

इसके अतिरिक्त जिन व्यक्तियों की मृत्यु पूर्णिमा तिथि को होती है उनका श्राद्ध भी महालया श्राद्ध के दिन किया जाता है। लेकिन भाद्रपद पूर्णिमा से इसका कोई सम्बन्ध नहीं है। हालाँकि भाद्रपद पूर्णिमा श्राद्ध पितृ पक्ष के एक दिन पहले आता है लेकिन यह पितृ पक्ष का हिस्सा नहीं है। सामान्य तौर पर पितृ पक्ष भाद्रपद पूर्णिमा श्राद्ध के अगले दिन से प्रारम्भ होते है।

आगे हम आपको सर्वपितृ अमावस्या के मुहूर्त और तिथि के बारे में बताने जा रहे है किस किस मुहूर्त में पिंडदान करना उचित होगा।

सर्वपितृ अमावस्या 2017 :-

वर्ष 2017 में सर्वपितृ अमावस्या 19 सितम्बर 2017, मंगलवार के दिन मनाई जाएगी।

श्राद्ध करने का शुभ समय :

कुतुप मुहूर्त = 11:56 से 12:44
अवधि = 48 मिनट

रौहिण मुहूर्त = 12:44 से 13:32
अवधि = 48 मिनट

अपराह्न काल = 13:32 से 15:57
अवधि = 2 घंटे 24 मिनट

अमावस्या 19 सितम्बर 2017, मंगलवार 11:52 से प्रारम्भ होकर अगले दिन 20 सितम्बर 2017, बुधवार 10:59 पर खत्म होगी।