सास बहु में नहीं होंगे झगडे अगर रखेंगे इन बातों का ध्यान

0

घर परिवार की नींव को यदि कोई मजबूत करता है तो वो होते है रिश्तें, यदि रिश्तों में प्यार हो विश्वास हो तो घर अपने आप ही मंदिर बन जाता है। मधुर और प्यार भरे रिश्तों से हमेशा घर की खुशियां बनी रहती है। और हर रिश्ता बहुत ही खास होता है, ऐसे ही एक रिश्ते में बारे में आज हम बात करने जा रहे है। जिसके बारे में हर एक व्यक्ति की अपनी अपनी सोच होती है और वो रिश्ता है सास बहु का रिश्ता। बहुत ही कम ऐसे परिवार देखने को मिलते हैं जहां सास और बहु की बनती है, और ज्यादातर यही देखा जाता है जहां हमेशा सास बहु की खटपट सुनाई देती है। लेकिन यह भी आप पर ही निर्भर करते है की आप इस रिश्ते को प्यार से भरपूर रखना चाहते हैं या फिर सास को सास और बहु को बहु ही बनाना चाहते है।

यदि सास माँ बन जाए और बहु बेटी बन जाए तो कितना अच्छा हो, हम सीरियल के बारे में बात नहीं कर रहे हैं। बल्कि आपकी असल जिंदगी की बात कर रहे है बस इसके लिए आपसी समझ, छोटी छोटी बातों का ख्याल, एक दूसरे का सम्मान, आदि बातों का आपको ध्यान रखना पड़ता है। यदि आप ऐसा करते है तो सास बहु के रिश्ते भी माँ बेटी जैसे बन सकते है। तो आज हम आपको कुछ ऐसे ही टिप्स देने जा रहें है जिससे सास बहु के झगडे को खत्म करने में आपको मदद मिलती है। और आपके बीच प्यार को बढ़ाया जा सकता है। लेकिन आपको इस बात का ध्यान भी रखना होगा की किसी भी रिश्ते को बेहतर तभी बनाया जा सकता है जब दो लोग मिलकर कोशिश करते है।

सास बहु के झगड़े को खत्म कर प्यार बढ़ने के टिप्स:-

सास बहु का नाम आते ही बस ऐसा लगता है की जैसे अभी कोई युद्ध शुरू होने वाला है। लेकिन यह आपकी सोच है क्योंकि किसी भी रिश्ते में मधुरता तब तक नहीं आती है जब तक आप नहीं चाहते है, यदि आप अपनी सास में माँ को ढूंढ़ते है और सास आपको बेटी समझती है तो वो रिश्ता अलग ही हो जाता है। तो लीजिए कुछ टिप्स जिससे आपको सास बहु के झगड़े को खत्म करने में मदद मिलती है।

एक दूसरे को समझने की करें कोशिश:-

सास और बहु दोनों की अलग अलग परिवारों से आती है ऐसे में हो सकता है की उनके रहन सहन का ढंग अलग हो। लेकिन सास को यह कोशिश करनी चाहिए की वह अपनी बहु पर एक दम से अपने तौर तरीके न थोपें, बल्कि उसे समय दें। और बहु की यह कोशिश होनी चाहिए की वो अपने नए परिवार के तौर तरीको को समझने की कोशिश करें। ऐसे में सास बहु को आपस में एक दूसरे को समझने की कोशिश करनी चाहिए जिससे दोनों के बीच झगड़ा न हो बल्कि दोनों को एक दूसरे के साथ बेहतर समय मिल सकें, जिससे उनके रिश्ते मजबूत हो।

तुलना न करें:-

कई बार देखने को मिलता है की सास अपनी बहु की तुलना अपनी बेटी से करने लगती है, जिसके कारण उसे ऐसा लग सकता है की आप उसे नीचा दिखाने की कोशिश कर रही है। ऐसे ही बहु को कभी अपनी सास की तुलना अपनी माँ से नहीं करनी चाहिए, बल्कि आप जैसे है उसी रूप में आपको एक दूसरे को समझना चाहिए। ताकि आपके रिश्ते को बेहतर बनाया जा सके। इसीलिए सास बहु के रिश्ते में न तो बदलाव और न ही तुलना दोनों ही नहीं करने चाहिए। यदि आप हमेशा ऐसा करते है तो इस बात पर हमेशा आपका झगड़ा ही होता रहता है।

सास दे बेटे बहु के रिश्ते को स्पेस:-

कई बार सास की आदत होती है की वो बेटे और बहु के आपसी मामलो में दखल देती है, जिसके कारण सास बहु के रिश्ते पर असर पड़ता है। ऐसे में सास को इस बात का ध्यान रखना चाहिए की उसे अपने बेटे और बहु को थोड़ा स्पेस देना चाहिए, साथ ही यदि बहु को किसी तरह की परेशानी है तो उससे अकेले में उसकी समस्या पूछनी चाहिए और उसे समझाना चाहिए। और यदि वो नहीं बताना चाहती है तो उससे जबरदस्ती भी नहीं करनी चाहिए। और यदि आप ऐसा करती है तो आपके और आपकी बहु के बीच झगड़े होते ही नहीं है।

मायके को न दे प्राथमिकता:-

कई लड़कियों की आदत होती है की वो शादी के बाद अपने ससुराल को अपने मायके की तरह रखना चाहती है, सभी चीजों को अपने मायके से तुलना करती है। और ससुराल उनकी प्राथमिकता नहीं होता है बल्कि मायका होता है। तो ऐसे में केवल सास बहु का ही नहीं बल्कि पति पत्नी का भी झगड़ा हो सकता है। इसीलिए शादी के बाद लड़कियों को अपने मायके से प्यार रखना चाहिए लेकिन उनकी पहली प्राथमिकता उनका ससुराल ही होना चाहिए। जो लड़की शादी के बाद अपने ससुराल के रंग में रंग जाती है उसे शादी के बाद सास में ही माँ भी मिल जाती है।

छोटी मोटी गलतियों को न बनाएं बड़ा:-

ससुराल में जानें के बाद कई बार हो सकता है की बहु से कोई छोटी मोटी गलती हो जाए। ऐसे में सास का यह फ़र्ज़ बनता है की वो बहु की ऐसी गलतियों को नज़रअंदाज़ करें, और उसे प्यार से समझाएं की क्या सही है और क्या नहीं। और बहु का भी यह फ़र्ज़ बनता है की यदि एक बार उससे गलती हो जाए और उसे पता हो की यह गलत है तो उसे उस गलती को दुबारा नहीं दोहराना चाहिए। ऐसा करने से आप दोनों के बीच टकराव होने का कोई कारण ही नहीं बचता है जिससे सास बहु के बीच झगड़ा होने की समस्या ही नहीं खड़ी होती है।

एक दूसरे से सीखें:-

ज्यादातर ऐसा ही होता है की सास बहु की सोच आपस में न मिलने के कारण उनमे झगड़े होते है। ऐसे में इस समस्या के समाधान के लिए आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए की आप दोनों एक दूसरे से सीखे। दोनों के काम के तरीके अलग हो सकते है लेकिन काम तो एक ही होता है ऐसे में आप एक दूसरे का साथ दें न की इस बहस में लगे की आप सही है या वो गलत हैं। यदि आप एक दूसरे से हमेशा सीखते हैं तो धीरे धीरे आपको हर एक चीज का पता चल जाता है और आपके बीच में किसी तरह का भी मतभेद नहीं रहता है।

विचारों को एक दूसरे पर न थोपें:-

सास बहु का रिश्ता खट्टा मीठा होता है इसीलिए तो प्यार भरी नौंक झोंक भी इसमें चलती रहती है। ऐसे में आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए की इस रिश्ते में प्यार को बनाएं रखने के लिए आप क्या चाहते है ये बताएं, अपने विचार एक दूसरे पर न थोपें। क्योंकि यदि आप एक दूसरे पर अपने विचार थोपने की कोशिश करते है तो ऐसे में रिश्ते को निभाने में परेशानी होती है साथ ही एक दूसरे को समझने में परेशानी होती है। तो ऐसे में कुछ बातों में सास बहु को एक दूसरे को स्वतन्त्र छोड़ देना चाहिए।

बैठकर बातें करें:-

कई बार होता है की सास बहु कुछ बातों में एक दूसरे से असहमत होती हैं, ऐसे में हो सकता है उनमे बहस भी हो जाए। लेकिन बहस आपकी समस्या का समाधान नहीं होता है बल्कि आपको बैठकर एक दूसरे से बात करनी चाहिए और एक दूसरे को अपनी राय बतानी चाहिए जिससे आपको एक दूसरे को समझने में आसानी हो सके। ऐसा करने से आपको एक दूसरे के बारे में बहुत सी बातें जानने को मिलती है साथ ही यह भी पता चलता है की आप दोनों क्या सोचती है। इससे भी आपके झगड़े को प्यार में बदला जा सकता है।

तो यह हैं कुछ टिप्स जिनका यदि आप इस्तेमाल करते हैं तो इनसे आपके सास बहु के रिश्ते को मजबूत बनाने के साथ उनमे प्यार और विश्वास को बढ़ाने में मदद मिलती है। और सास और बहू दोनों को ही अपनी तरफ से इस रिश्ते में प्यार भरने की कोशिश करनी चाहिए, यदि दोनों मिलकर कोशिश करते हैं तो आपको इस रिश्ते को बेहतर बनाने में मदद मिलती है और आपके बीच झगड़ा खत्म होते हैं।

[Total: 1    Average: 1/5]