Ultimate magazine theme for WordPress.

स्तनपान कराने वाली महिला को भूल कर भी नहीं खानी चाहिए ये चीजें?

0

स्तनपान नवजात शिशु के लिए सर्वोत्तम आहार कहा गया है, इसके कारण बच्चे के विकास में मदद मिलने के साथ बच्चे को रोगों से लड़ने के लिए भी सक्षम बनाया जाता है, क्योंकि इसमें वो सभी मिनरल्स भरपूर मात्रा में विद्यमान होते है, जो एक नवजात शिशु के विकास को तेजी से होने में मदद करते है, तो स्तनपान कराने वाली महिला को भी ध्यान रखना चाहिए की वो ऐसा आहार लें, जिसमे सभी मिनरल्स विद्यमान हो, और ऐसी चीजो का सेवन नहीं करना चाहिए, जिसके कारण बच्चे के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ें।

माँ का दूध बच्चे के लिए छह महीने तक भरपूर आहार होता है, इसके अलावा बच्चे को पानी भी नहीं देना चाहिए, और इसके साथ ये भी कहा जाता है, यदि बच्चे के जन्म के कुछ देर के अंदर ही बच्चे को माँ का दूध पिला दिया जाता है, तो इसके कारण बच्चे को रोगों से लड़ने के लिए सक्षम बनाया जाता है, स्तनपान कराने वाली महिला तभी बच्चे के सम्पूर्ण विकास में योगदान दे सकती है, जब वो खुद भी स्वस्थ, संतुलित व् पोष्टिक आहार का सेवन करें, इससे महिला के शरीर में न्यूट्रिएंट्स की कमी नहीं होगी, और उसके बाद बच्चा भी माँ के दूध से सभी मिनरल्स ले सकता है।

स्तनपान कराने के दौरान महिला को अपने खान पान का खास ध्यान रखना चाहिए, क्योंकि यदि महिला अपने आहार का ध्यान नहीं रखती है, तो इसका सीधा असर बच्चे के स्वास्थ्य पर पड़ता है, महिला को हर दो घंटे बाद जब तक बच्चे को दूध पिलाना चाहिए, जब तक की बच्चा खुद दूध न छोड़ें, इसके कारण बच्चे का पेट भी भरा रहता है, और बच्चे का विकास भी केवल शारीरिक ही नहीं मानसिक रूप से भी होने में मदद मिलती है, इसके अलावा महिला को कुछ ऐसे खान पान का भी ध्यान रखना चाहिए, जो की उन्हें नहीं खाना चाहिए यदि वो स्तनपान करवा रही है, तो आइये हम आपको बताते है, की यदि महिला स्तनपान करवाती तो महिला को किन किन चीजो से परहेज करना चाहिए।

पत्ता गोभी का सेवन न करें:-

स्तनपान कराने वाली महिला को कभी भी अपने आहार में पत्ता गोभी को शामिल नहीं करना चाहिए, क्योंकि यदि महिला इसका सेवन करती है, तो इसके कारण बच्चे के पेट में दर्द, गैस, और कब्ज़ जैसी समस्या हो जाती है, जिसके कारण बच्चा परेशानी का अनुभव कर सकता है, इसके अलावा हो सकें तो गोभी से भी परहेज रखना चाहिए।

मटर का सेवन न करें:-

यदि महिला स्तनपान करवाती है, तो उसे कभी मटर का सेवन भी नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसे पचाने में भी बच्चे को समस्या हो सकती है, और इसके कारण भी बच्चे के पेट में दर्द और गैस जैसी समस्या हो जाती है, और कच्चे मटर का तो भूल कर भी सेवन नहीं करना चाहिए, इसके कारण बच्चे को कब्ज़ की परेशानी हो सकती है।

कॉफ़ी का सेवन कम करें:-

coffee

कॉफ़ी में कैफीन की मात्रा अधिक होती है, जो की बच्चे के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकती है, इसके कारण बच्चे पेट में दर्द और गैस जैसी समस्या का अनुभव कर सकता है, और इसके साथ बच्चे को अपज जैसी परेशानी भी हो सकती है, इसीलिए स्तनपान कराने वाली महिला को इससे परहेज रखना चाहिए।

पुदीने से रखें परहेज:-

स्तनपान कराने वाली महिला को भूल कर भी पुदीने की चटनी, चाय आदि एक सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि ये बच्चे के लिए नुकसानदायक सिद्ध हो सकता है, इसके कारण बच्चे के दूध का निर्माण कम होता है, जिसके कारण बच्चे के पेट नहीं भारत है, और उसे परेशानी होती है।

तला भुना, और मसालेदार भोजन से रखें परहेज:-

महिलाएं जब तक बच्चे को स्तनपान करवाती है, तब तक महिला को स्वस्थ व् पोष्टिक आहार लेना चाहिए, जिसके कारण बच्चे को भी मिनरल्स मिल सकें, और उसका विकास अच्छे से हो, महिला को ज्यादा तला भुना, व् मसालेदार भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसके कारण बच्चे को जलन, अपज, और गैस की परेशानी का अनुभव हो सकता है, और डिलीवरी के बाद जितना हो सकें कुछ दिनों के लिए इससे दुरी बनाएं रखनी चाहिए।

लहसुन का सेवन न करें:-

स्तनपान कराने वाली महिला को लहसुन का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसकी तीखी गंध थोड़े समय के बाद दूध में भी आ जाती है, जिसके कारण कई बार बच्चा दूध नहीं पीता है, जिसके कारण बच्चे को सम्पूर्ण पोषण नहीं मिल पाता है।

चॉकलेट का सेवन न करें:-

chocolates

चॉकलेट में भी कैफीन होता है, भले ही इसकी मात्रा कॉफ़ी से कम होती है, परंतु फिर भी यदि आप इसका सेवन करती है, तो इसके कारण भी बच्चा परेशानी का अनुभव कर सकता है, इसीलिए हो सकें तो इससे भी परहेज रखना चाहिए।

खट्टे फलों का सेवन न करें:-

महिला यदि स्तनपान करवाती है, तो उसे खट्टे फलों के सेवन से भी परहेज रखना चाहिए, क्योंकि इसके कारण बच्चे को दूध को पचाने में दिखात हो सकती है, जिसके कारण कई बार बच्चे दूध को उलट भी देते है, उन्हें घबराहट भी होने लगती है, और साथ ही वे चिड़चिड़े भी हो जाते है, खट्टे फलों से मिलने वाले विटामिन सी के लिए आप पपीते या आम का सेवन कर सकती है।

ब्रोकली का सेवन न करें:-

महिला को हो सकें तो ब्रोकली का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि हो सकता है की ये उस समय असर न दिखाएं, परंतु थोड़ी देर बाद बच्चे को इसके कारण घबराहट या पेट में दर्द हो सकता है, और यदि महिला ब्रोकली खाना ही चाहती है, तो इसे फ्राई करके नहीं बल्कि भाप में बना कर खाएं, इसके कारण बच्चे को इसका ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा।

मूंगफली का सेवन न करें:-

स्तनपान कराने वाली महिला को मूंगफली का सेवन भी नहीं करना चाहिए, क्योंकि यदि परिवार में पहले किसी को एलर्जी आदि की समस्या होती है, तो इसके कारण आपके बच्चे के स्वास्थ्य पर भी असर पड़ सकता है, और उसे भी एलर्जी हो सकती है, इसके अलावा मक्का खाने से भी कई बार बच्चे को एलर्जी होने की सम्भावना रहती है, इसीलिए हो सकें तो इससे भी परहेज रखना चाहिए।

नशीले पदार्थो का सेवन न करें:-

जो महिला स्तनपान करवाती है, उसे कभी भी नशीले पदार्थ जैसे की धूम्रपान और अल्कोहल आदि का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसके कारण बच्चे का विकास नहीं हो पाता है, और महिला के साथ बच्चे का स्वास्थ्य भी खराब हो जाता है, इसीलिए यदि आप यदि नशीले पदार्थो का सेवन करती भी है, तो गर्भावस्था और स्तनपान जितना समय करवाएं इन चीजों से परहेज रखें।

तो ये कुछ चीजें है जिनका सेवन स्तनपान करवाने वाली महिला को बिलकुल नहीं करना चाहिए, इसके अलावा महिला को समय समय पर खाना कहते रहना चाहिए, क्योंकि बच्चा हर दो घंटे बाद भूख हो जाता है, क्योंकि वो अपने सम्पूर्ण आहार के लिए अपनी माँ पर ही निर्भर करता है, यदि माँ ही अपने स्वास्थ्य का धतयां नहीं रखेगी, तो बच्चे को सम्पूर्ण पोषण कैसे मिलेगा, और साथ ही महिला को भी कमजोरी व् थकावट का अहसास होगा, इसीलिए महिला को अपने स्वास्थ्य और बच्चे के विकास के लिए समय समय पर संतुलित व् पोष्टिक आहार का सेवन करते रहना चाहिए।