सूर्य ग्रहण कब है? सूर्य ग्रहण में क्या करें क्या न करें?

16 फरवरी 2018 को साल का दूसरा ग्रहण और पहला सूर्य ग्रहण पड़ने जा रहा है। यह ग्रहण अमावस्या के दिन पड़ेगा। 15 फरवरी की रात्रि को लगने वाला ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। परन्तु इसका प्रभाव भारत में रहने वाले लोगों पर भी पड़ेगा। यहाँ हम आपको सूर्य ग्रहण 2018 की जानकारी और राशियों पर ग्रहण के प्रभाव के बारे में बता रहे है।

0

साल 2018 का पहला ग्रहण 31 जनवरी 2018 को पड़ा था जो की पूर्ण चन्द्र ग्रहण था। 31 जनवरी का चन्द्र ग्रहण पूर्णिमा के दिन पड़ा था जिसके 15 दिन बाद यानी 16 फरवरी 2018 के दिन पड़ने वाली अमावस्या को साल का दूसरा ग्रहण, पड़ने जा रहा है जो की सूर्य ग्रहण है। लेकिन यह सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा।

सूर्य ग्रहण क्या होता है?

भौतिक विज्ञान के अनुसार पृथ्वी सूरज का उपग्रह है और उसके चक्कर लगाती है जबकि चंद्रमा पृथ्वी का उपग्रह है और वो पृथ्वी के चक्कर लगाता है। लेकिन कई बार परिक्रमा के दौरान ऐसी स्थिति आ जाती है जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के मध्य आ जाता है। जिसके कारण पृथ्वी से देखने पर सूर्य ‘पूर्ण या आंशिक रूप’ से ढक जाता है। और इसी घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है। ज्योतिष के मुताबिक चन्द्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा के दिन ही पड़ता है जबकि सूर्य ग्रहण अमावस्या के दिन ही होता है।

सूर्य ग्रहण 2018 : 16 फरवरी 2018सूर्य ग्रहण का राशियों पर प्रभाव

16 फरवरी 2018 को साल का पहला सूर्य ग्रहण होगा। यह ग्रहण 15 फरवरी 2018, बृहस्पतिवार की रात्रि 12.25 मिनट से प्रारंभ होगा जो 16 फरवरी 2018, शुक्रवार प्रात: 4.18 तक रहेगा। इस स्थिति में यह 16 फरवरी को लग रहा है, लेकिन भारत में रात होने के कारण यह यहां दिखाई नहीं देगा। परंतु दक्षिण जॉर्जिया, प्रशांत महासागर, चिली, ब्राज़ील और अंटार्टिका आदि देशो में दिखाई देगा।

भले ही ये सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा लेकिन सभी राशियों पर इस ग्रहण का प्रभाव पड़ेगा। जहाँ एक तरफ कुछ राशियों के लिए यह ग्रहण लाभकारी सिद्ध होगा वहीं कुछ राशियों पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

इन्हें भी पढ़ें  शिवरात्रि कब है? Shivratri 2018 Date, किस तारीख को मनाये शिवरात्रि?

अन्य देशों में यह ग्रहण 15 फरवरी को लग रहा है किन्तु भारतीय समयानुसार देखें तो यह मध्यरात्रि से प्रातः तक रहेंगा जिसके मुताबिक इसका असर 16 फरवरी के हिसाब से ही पड़ेगा। ग्रहण के समय भगवान के दर्शनों को अशुभ माना जाता है इसीलिए इस दौरान भगवान के मंदिरों के पट बंद कर दिए जाते है।

ग्रहण काल में क्या करें और क्या नहीं?

शास्त्रों के मुताबिक ग्रहण के समय मूर्ति छूना, नदी में स्नान करना और भोजन करना वर्जित माना जाता है। सूतक के समय किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत नहीं करनी चाहिए। भोजन खाने और पकाने से दूर रहना अच्छा माना जाता है। इस समय देवी देवताओं और तुलसी आदि को छूना नहीं चाहिए। सूतक के दौरान गर्भवती स्त्री का घर से बाहर निकलना और ग्रहण देखना वर्जित माना जाता है। ये शिशु की सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता। कहते है इससे उसके अंगों को नुकसान पहुँच सकता है।

इसके अतिरिक्त नाख़ून काटना, बाल कटवाना, निद्रा मैथुन आदि जैसी गतिविधियों से भी ग्रहण व् सूतक काल के समय परहेज करना चाहिए। माना जाता है इस काल में स्त्री प्रसंग से बचना चाहिए अन्यथा आंखों से संबंधित बिमारियों के होने का खतरा बना रहता है।

ग्रहण समाप्त होने के पश्चात् पुरे घर को गंगाजल से शुद्ध करना चाहिए और सूतक काल शुरू होने से पहले दूध, जल, दही, अचार आदि खान-पान की सभी चीजों में कुशा या तुलसी के पत्ते दाल देने चाहिए। माना जाता है ग्रहण के दौरान खान पान की सभी चीजें बेकार हो जाती है और वे खाने लायक नहीं रहती। ऐसा करने से आप ग्रहण समाप्त होने के बाद इन्हें पुनः खा सकते है। लेकिन संभव हो तो ग्रहण से पूर्व ही खा पी लेना चाहिए। और खाने की सभी वस्तुओं को समाप्त कर देना चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें  गोवर्धन पूजा की कथा

सूर्य ग्रहण 16 फरवरी 2018 का राशियों पर प्रभाव :-

  • मेष – धन लाभ की संभावनाएं है। व्यवसाय में लाभ मिलेगा। कार्यक्षेत्र में सम्मान बढेगा। लेकिन सन्तान, विद्या, प्रेम या घरेलू जीवन को लेकर चिंतित रहेंगे।
  • वृषभ – कार्यक्षेत्र में व्यस्त रहेंगे। वाणी पर नियंत्रण रखना होगा। नौकरी में सम्मान बढ़ने की उम्मीद। इस समय अतिरिक्त प्रयास करने की आवश्यकता पड़ेगी। ग्रहण की वजह से कार्यों में बाधाएं आ सकती है।
  • मिथुन – यह ग्रहण आपके लिए सामान्य है। लेकिन पारिवारिक विवादों से बचना होगा। व्यावसयिक लाभ सामान्य रहेगा। आना वाला समय परेशानियाँ लेकर आ सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखना होगा अन्यथा समस्या हो सकती है।
  • कर्क – आर्थिक नुकसान झेलना पड़ सकता है। ग्रहण से पूर्व समस्याएं हो सकती है लेकिन 16 फरवरी के बाद यह आपके लिए शुभ समाचार लेकर आएगा। इस दिन किसी परियोजना में निवेश न करें और कर्ज लेने या देने से बचें।
  • सिंह – भू संपत्ति से जुड़े कार्य संपन्न होंगे। स्वास्थ्य सामान्य रहेगा। क़ानूनी विवाद की संभावना है सावधान रहें। आर्थिक नुकसान झेलना पड़ सकता है। 16 फरवरी के बाद दुर्घटना की संभावना है इसीलिए संभलकर रहें। मानसिक परेशानियाँ हो सकती है।
  • कन्या – आपके लिए यह ग्रहण अनुकूल रहेगा। अटके धन की प्राप्ति हो सकती है। व्यवसाय में वृद्धि होगी। विदेश यात्रा के संयोग बन रहे है। लेकिन खर्चों में वृद्धि हो सकती है इसलिए सोच समझकर व्यय करें।
  • तुला – यह ग्रहण आपके लिए लाभ लेकर आएगा। लेकिन मन विचलित हो सकता है। मानसिक तनाव बढ़ने की संभावना है। पैसों से जुड़े नुकसान उठाने पड़ सकते है।
  • वृश्चिक – क़ानूनी परेशानी से मुक्ति मिल सकती है। मन अशांत रहेगा। धर्म में श्रद्धा बढ़ेगी। कार्यक्षेत्र प्रभावित होगा।
  • धनु – घर में शांति रहेगी। व्यवसाय से जुड़े निर्णय सोच समझकर लें। कर्म पर ध्यान दें। अजनबियों से बचें।
  • मकर – कार्यक्षेत्र में नया पदभार मिलने की संभावना है। भू सम्पत्ति से लाभ मिल सकता है। सेहत में सुधर होगा। लेकिन आर्थिक नुकसान झेलना पड़ सकता है।
  • कुंभ – दाम्पत्य जीवन व् प्रेम जीवन के लिए थोडा कष्टप्रद रहेगा। तनाव कम करने के लिए भगवान् शिव के मंत्रों का उच्चारण करें। नौकरी में मन लगेगा। धैर्य बनाए रखें।
  • मीन – नौकरी में उन्नति के अवसर मिलेंगे। व्यवसायिक लाभ होगा। परन्तु सन्तान पक्ष से चिंता हो सकती है। बड़ा नुकसान तो नहीं होगा लेकिन किसी तरह के रोग के ग्रसित होने के आसार लग रहे है।
इन्हें भी पढ़ें  दिवाली पूजा विधि, दीपावली शुभ मुहूर्त, लक्ष्मी गणेश की पूजा कैसे करें

सूर्य ग्रहण कब है, सूर्यग्रहण में क्या करें क्या न करें, 16 फरवरी 2018 सूर्य ग्रहण का समय, सूर्य ग्रहण 2018 राशियों पर प्रभाव, सूर्य ग्रहण 2018 भारत, भारत में सूर्य ग्रहण का प्रभाव, सूर्य ग्रहण 16 फरवरी 2018, सूर्य ग्रहण कब से कब तक है, सूर्य ग्रहण स्पर्श काल, सूर्यग्रहण मोक्ष का समय, सूर्य ग्रहण 15 फरवरी 2018
[Total: 0    Average: 0/5]