शिमला की महत्वपूर्ण जानकारियाँ

0

वैसे तो भारत में टूरिस्ट प्लेस काफी हैं पर कुछ ऐसे हैं जहां पूरे साल भर टूरिस्टों का जमावड़ा रहता हैं उनमें से एक है शिमला। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला कभी ब्रिटिश राज की भी राजधानी रहा करती थी। बलूत, चीड़ (देवदार) और रोडोडेन्ड्रेन के वृक्षों से सजा शिमला समुद्रतल से 2,130 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां पूरे सालभर ठंण्डा मौसम रहता है। पहाड़ियों को काटकर बनाए गए घुमावदार रास्ते आपको किसी परियों की दुनिया जैसा अहसास कराएंगे। शिमला अपनी इमारतों के लिए भी मशहूर है, जो कि ब्रिटिश राज की ट्यूडर और न्यूगॉथिक स्थापत्यकला शैली में निर्मित की गई हैं। वैसे तो इसे गर्मियों में जन्नत के रूप में जाना जाता है और मैदानी एरिया में रह रहे लोग यहां ठंडक  पाने आ जाते हैं लेकिन इसको पर्यटन के रूप में बढ़ावा 1903 के बाद ही मिला जब कालका-शिमला रेलवे लाइन का कार्य पूरा हो गया।

Shimla 1शिमला कैसे पहुंचे

शिमला का हवाई अड्डा जब्बरहट्टी में है, जो कि शहर से 23 कि.मी. दूर है।

वही रेल के लिए कालका जाना पड़ेगा। छोटी गेज वाली रेलवे लाइन से यह कालका से जुड़ा है, जिसकी कुल लंबाई 96 कि.मी. है। कालका-दिल्ली के बीच कई एक्सप्रेस रेलगाड़ियां चलती हैं।

शिमला शहर दिल्ली से 370 कि.मी. दूर है और सड़क मार्ग द्वारा यहां पहुंचने में लगभग 9 घंटे लगते हैं। दिल्ली से यहां के लिए कई बसे आती हैं।

Shimla 4क्या देखें

क्राइस्ट चर्च वर्ष 1844 में बना, यहां का सबसे पुराना और प्रमुख भवन माना जाता है।

स्केंडल प्वाइंट : माल रोड का सबसे उंचा पाॅइंट माना जाता है। यहां स्वतंत्रता सेनानी लाला लाजपत राय की मूर्ति भी स्थापित की गई है।

गेयटी थिएटरः माल रोड पर स्थित यह थिएटर न्यू-गॉथिक शैली में बना है, जिसका उद्घाटन 1887 में अंग्रेज सरकार के उच्च वर्ग के मनोरंजन के लिए किया गया था।

वायसरीगल लॉजः इसका निर्माण वायसराय लॉर्ड डफरिन के आवास के लिए किया गया था, किन्तु अब इसका उपयोग इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस स्टडीज के लिए किया जाता है। इसकी छत से सूरज को उगते और छुपते देखने के लिए

जाखू मंदिर: शिमला की सबसे ऊंची चोटी पर स्थित जाखू मंदिर भगवान हनुमान को समर्पित है।

धनु देवता मंदिरः शहर से लगभग 4 कि.मी. दूर स्थित, धनु देवता मंदिर दुर्लभ मंदिरों में से एक है, जहां भगवान के पुरुष रूप की पूजा होती है। पारंपरिक पहाड़ी शैली में बने इस मंदिर में लकड़ी पर बारीक नक्काशी का कार्य किया गया है।

इनको भी देखें

शिमला में गोल्फ जी हां ऐसे खेल की सुविधा ब्रिटिशों की देन है। शिमला से 22 कि.मी. दूर नालडेहरा, भारत के प्रारंभिक गोल्फ कोर्सों में से एक है। इंतकाली और मशोबरा की पहाड़ियों में आप पैराग्लाइडिंग कर सकते हैं। शिमला में ट्रेकिंग बहुत लोकप्रिय है और यहां अनेक ट्रेक ट्रायल होते रहते हैं। राफ्टिंग के लिए सतलुज नदी आदर्श है। कुफरी और चैल आइस-स्केटिंग के लिए अच्छे स्थान हैं। प्रकृति के हरे-भरे नजारों के बीच बाइकिंग सपने के सच होने जैसा है और हाल ही में शिमला में साइकलिंग को एक एडवेंचर स्पोर्ट्स के रूप में विकसित किया गया है। आप शिमला से 16 कि.मी. दूर कुफरी में स्कीइंग का मजा ले सकते हैं। शिमला से 64 कि.मी. दूर नारकंडा में भी स्कीइंग की सुविधाएं हैं।

खाना है खास

टूरिस्ट प्लेस होने के कारण यहां खानेपीने के लिए सब कुछ मिलता है। लेकिन आप कुछ हटकर और पारंपरिक खाना खाने चाहते हैं लोकल ढाबों को ही आजमाना पड़ेगा।

आसपास के क्षेत्रों में कैसे जाएं: आप प्रातः 7 बजे से रात्रि 9 बजे के बीच उपलब्ध स्थानीय बस सेवा का उपयोग कर सकते हैं। स्थानीय यात्रा और साइट-सीइंग के लिए टैक्सियां भी उपलब्ध हैं। हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम द्वारा टूरिस्ट बसें भी चलाई जाती हैं जिनकी बुकिंग माल पर स्थित पर्यटक सूचना केंद्र से कराई जा सकती है। घुमावदार रास्तों से ऊंची चोटियों तक पैदल चलकर जाना भी एक अच्छा विकल्प है।

Shimla 2यहां भी जा सकते हैं

कसौलीः शिमला से पैदल की दूरी पर बना कसौली का भी एतिहासिक महत्व है। साथ ही यहां की खूबसूरती भी आपको लुभा लेगी;

चैल: प्रकृति के दर्शन के लिए आपको चैल से बेहतर कुछ नहीं मिलेगा। चैल, शिमला के निकट बसा एक छोटा सा गांव है, जिसके चारों ओर घने वन हैं। यहां से हिमालय की चोटियों और पीछे शिवालिक की चोटियों का नजारा ले सकते है। पहाड़ियों के मध्य अपने वेग से बहती सतलुज नदी के दोनों ओर स्थित कसौली और शिमला (45 कि.मी.) से इसकी दूरी बराबर है। रात में यहां क नजरा और भी सुंदर हो जाता है।

Shimla 6

Title : Tourist Place in Shimla, Place to visit in shimla, Best place in shimla, food in shimla, how to reach shimla from delhi, shimla weather, shimla temperature