Ultimate magazine theme for WordPress.

Viral : गणेश जी के इस विज्ञापन से भड़क रहे है हिन्दू समुदाय के लोग….

0

गणेश वायरल ad, गणेश जी वायरल विज्ञापन, गणेश जी, गणपति, गणेश के साथ मांस का विज्ञापन, मांस के साथ गणपति के विज्ञापन की प्रतिक्रिया, ऑस्ट्रेलिया ad, गणपति पर MLA की कंपनी का Ad, गणपति की Ad से आहात हुई लोगों की भावना, ऑस्ट्रेलिया में हिन्दू समुदाय के भड़के लोग 

जैसा की आप सभी जानते है की हाल में गणेश उत्सव की धूम खत्म हुई है जिसे लेकर लोग काफी उत्साही थे। परन्तु वहीं गणेश जी पर बनाये गए एक वीडियो की आग पूरी दुनिया में तेजी से फ़ैल रही है।

जी हां, हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में एक आपत्तिजनक वीडियो बनाया गया है जिस पर हिन्दू समुदाय पूरी तरहज भड़क गया है। दरअसल, ऑस्ट्रेलिया की एक Ad कपंनी ने You never lamb alone कैम्‍पेन के तहत एक विज्ञापन जारी किया है जिसमे एक टेबल पर भगवान गणेश और अन्य घर्मों के ईशवरीय रूपों को मेमने के मांस के उपभाग को बढ़ावा देते हुए दिखाया है।

जिसके बाद ऑस्ट्रेलिया में हिन्दू समाज के लोगों में इस विज्ञापन को वापस लेने की मांग की है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मीट एंड लाइवस्टॉक ऑस्ट्रेलिया (MLA) की ओर से जारी विज्ञापन को पहले ही ऑस्ट्रेलिया मानक ब्यूरो के संज्ञान में लाया जा चूका है।

क्या है विज्ञापन में?

विज्ञापन की मदद से यह कंपनी हर धर्म को साथ लाना चाहती है। एक डाइनिंग टेबल पर सभी भगवान एक साथ है और लैम्ब मीट का स्वाद ले रहे है। लेकिन MLA कंपनी ने यह विज्ञापन बनाते समय एक बार भी नहीं सोचा की यह क्तिने लोगों की भावनाओ को ठेस पहुंचा सकता है।

एकता सिद्ध करने का प्रयास है यह विज्ञापन :-

अंत में टोस्ट करते हुए कहा गया है की “गोश्त के लिए….ऐसा मीट जिसे हम सब खा सकते है”। कंपनी ने इस विज्ञापन के जरिए गोश्त को भगवान का खाना बताकर एकता दिखाने की कोशिश की है। लेकिन इस विज्ञापन को कड़ी आलोचना का सामना करना पद रहा है। विज्ञापन की टैगलाइन “द मीट वी कैन आल ईट” है जिसके मतलब है वह मीट जिसे हम सभी खा सकते है।

ऑस्ट्रेलिया में हिन्दू समुदाय का विरोध :

यह तो हम सभी जानते है की भवान गमेश को मोदक बहुत प्रिय है, लेकिन विज्ञापन में मीट पर चर्चा करते दिखाना बेहद शर्मनाक है। इसे लेकर ऑस्ट्रिलया के हिन्दू समुदाय जमकर विरोध क्र रहा है। वहीं भारत में भी इस विज्ञापन की काफी निंदा हो रही है। जिससे भारतियों का गुस्सा विज्ञापन पर बढ़ता ही जा रहा है। जिसके चलते इसे जल्द से जल्द सोशल साइट्स से हटाने के लिए कंपनी से बात की जा रही है।