बच्चेदानी का मुँह खुलने के लक्षण, प्रेगनेंसी के दौरान महिला उस पल का बेसब्री से इंतज़ार करती है की कब उसकी नन्ही जान उसी गोद में आएगी। लेकिन जैसे जैसे डिलीवरी का समय पास आता है वैसे वैसे महिला के मन में डिलीवरी को लेकर डर भी लगा रहता है। खासकर जो महिलाएं पहली बार माँ बन रही होती है। उन्हें यह परेशानी ज्यादा होती है लेकिन आपको इस दौरान डरने की नहीं बल्कि शांति और मजबूती से काम लेने की जरुरत होती है।

तो आइये आज इस आर्टिकल में हम आपको डिलीवरी से जुडी कुछ बातें बताने जा रहे हैं जिनसे महिला को यह पता चल सकता है। की अब बच्चेदानी का मुँह खुल रहा है और महिला की डिलीवरी होने का समय पास आ गया है। तो आइये अब जानते हैं की वो लक्षण कौन से हैं। और इन लक्षणों को प्रेगनेंसी के किसी भी महीने में अनदेखा नहीं करना चाहिए और तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए। क्योंकि कई बार समय पूर्व प्रसव होने पर भी महिला को यह लक्षण महसूस हो सकते है।

ब्लड आना

  • जब महिला की बच्चेदानी का मुँह खुलने लगता है।
  • तो महिला को प्राइवेट पार्ट से रेड या हल्के गुलाबी रंग का ब्लड आता हुआ महसूस हो सकता है।
  • और ब्लड आने के साथ महिला को पीरियड्स के दौरान जिस तरह दर्द होता है वैसा दर्द भी महसूस हो सकता है।

बच्चेदानी का मुँह खुलने का लक्षण है सफ़ेद पानी आना

  • प्रेगनेंसी के दौरान महिला को सफ़ेद पानी आने की समस्या हो सकती है।
  • लेकिन यदि महिला को सफ़ेद पानी अधिक मात्रा में आए।
  • तो यह सफ़ेद पानी नहीं बल्कि एमनियोटिक फ्लूड हो सकता है।
  • जो इस बात की और इशारा करता है की शिशु जन्म लेने के लिए पूरी तरह से तैयार है।
  • और महिला की डिलीवरी अब होने वाली है।
  • और हो सकता है की आपको सफ़ेद पानी के साथ भी हल्के खून के धब्बे महसूस हो।

दर्द महसूस होना

  • यदि प्रेग्नेंट महिला पेट के निचले हिस्से में और पीठ में अधिक दर्द का अनुभव करती है।
  • और यह दर्द पहले तो महिला को रुक रुक कर होता है।
  • लेकिन फिर धीरे धीरे बढ़ता जाता है।
  • यदि प्रेगनेंसी की अंतिम तिमाही में महिला को इस तरह का दर्द होता है।
  • तो यह भी बच्चेदानी का मुँह खुलने की तरफ इशारा करता है।

तो यह हैं कुछ लक्षण जिनसे महिला अंदाज़ा लगा सकती है की महिला की बच्चेदानी का मुँह खुल रहा है। और अब उसे जल्द से जल्द डॉक्टर के पास जाना चाहिए। ताकि महिला की डिलीवरी को अच्छे से होने में मदद मिल सके। उसके बाद डॉक्टर प्राइवेट पार्ट को चेक करके आपको बता देते हैं की आपकी बच्चेदानी का मुँह अच्छे से खुला है या नहीं।