Take a fresh look at your lifestyle.

दांत सड़ गए है? तो इन्हें आजमाएं

0

दांतो की सड़न का इलाज कैसे करें : – व्यक्ति की सुंदरता उसके चेहरे से झलकती है. जिसमे चेहरे के सभी हिस्सो का अपना-अपना महत्त्व होता है. जिनमे से एक है हमारे दांत. जो होते तो बहुत सुन्दर है लेकिन कई बार लापरवाहियों और थोड़ी सी अनदेखी के कारण इनमे कई तरह की परेशानिया होना शुरू हो जाती है. जिन लोगो को दांत सुन्दर और साफ़ होते है उनकी खूबसूरती में अपने आप ही चार चाँद लग जाते है.

लेकिन जिन लोगों के दांत अच्छे नहीं होते या फिर किसी कारणवश खराब हो जाते है वे हस्ते और लोगों से बात करते हिचकिचाते है. उन्हें हमेशा इसी बात का डर लगा रहता है की कहीं कोई उनका मजाक न बना दे. दांतो का खूबसूरत न होना ठीक नहीं होता लेकिन उससे हानिकारक बात होती है उनका सड़ना. जी हां, हम बात कर रहे है दांतो की सड़न की जो सामान्य तौर पर बच्चो में और कभी कभी बड़ो में भी देखने को मिलती है.

इस समस्या के कारण न तो इंसान किसी से ठीक से बात कर पाता है और न ही किसी के साथ खुल कर हस पाता है. इसके अतिरिक्त इसका प्रभाव हमारे व्यक्तित्व पर भी पड़ता है. दांतो में सड़न के कारण न केवल दांतो में से असहनीय बदबू आती है अपितु उनमे दर्द भी होता है जो कई बार सहन नहीं किया जाता.

हमारे दांत बहुत से खनिज पदार्थो से मिलकर बने होते है. कहते है दांत ही हमारे शरीर का सबसे मजबूत हिस्सा होते है लेकिन उनकी ओर की गयी लापरवाहियों के कारण वे सबसे नाजुक हिस्सा बन जाते है. ठीक देखभाल और साफ़-सफाई न करने से दांत सड़ना शुरू हो जाते है जिसके बाद उनमे दर्द और बदबू आने लगती है. दांतो में सड़न होने के बाद इंसान न तो ठीक प्रकार से खा पाता है और न ही ठीक प्रकार से पी पाता है.

यदि आपके साथ भी इसी प्रकार की कोई समस्या है तो परेशान न हो. आज हम आपको दांतो की सड़न से जुड़े सभी महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में बताने जा रहे है जिनकी मदद से आप अपनी इस समस्या को आसानी से दूर कर सकते है. हां, इसमें थोड़ा वक्त जरूर लगेगा लेकिन उपाय बेहद लाभदायक होंगे.

दांतो की सड़न के मुख्य कारण :-

किसी भी बीमारी का उपाय जानने से पूर्व उसके कारण जानना बेहद आवश्यक होता है. ताकि भविष्य में उस समस्या के उत्पन्न होने के कारणों से बचा जा सके. इसकी मदद से आप पहचान जायेंगे की ऐसी कौन सी लापरवाहियां होती है जिनका परिणाम दांतो की सड़न के रूप में आता है.

दांतो की सड़न के मुख्य कारण :-

किसी भी बीमारी का उपाय जानने से पूर्व उसके कारण जानना बेहद आवश्यक होता है. ताकि भविष्य में उस समस्या के उत्पन्न होने के कारणों से बचा जा सके. इसकी मदद से आप पहचान जायेंगे की ऐसी कौन सी लापरवाहियां होती है जिनका परिणाम दांतो की सड़न के रूप में आता है.

  • अत्यधिक मीठा जैसी मिठाई, चॉक्लेट आदि के सेवन से.
  • Carbohydrates युक्त खाने की चीजो के अत्यधिक सेवन से.
  • टॉफी और चॉक्लेट की ज्यादा सेवन से भी दांतो में सड़न होने लगती है.
  • दांतो की ठीक प्रकार से सफाई न करने के कारण.
  • रात को बिना कुल्ला या ब्रश किये सोने से.
  • दांतो की सही देखभाल न करने के कारण भी दांतो में सड़न होने लगती है.

दांतो की सड़न दूर करने के उपाय :-

  • रात को सोने से पूर्व ब्रश जरूर करें. इससे मुँह में मौजूद बैक्टीरिया खत्म हो जाते है और दांतो में अटका हुआ खाना भी साफ़ हो जाता है.
  • मीठा और दांतो में चिपकने वाले खाद्य पदार्थ जैसे choclate, cake, मिठाई, पेस्ट्री, चिप्स टॉफी, सोडा आदि से दूर रहे. हो सके को इनका सेवन बन्द ही कर दे.
  • यदि आप किसी प्रकार की बुरी लत अर्थात बीड़ी, सिगरेट, तंबाकू या शराब आदि का सेवन करते है तो उन्हें छोड़ दीजिये. क्योकि दांतो में सड़न का एक कारण ये भी होता है.
  • सुबह जल्दी उठकर सैर पर जाए और इसे अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना लें.
  • नीम की दातुन करें ये हमारे दांतो के लिए बेहद फायदेमंद होती है.
  • दिन में कम से कम दो बार सुबह और रात को ब्रश जरूर करें इससे दांत साफ़ रहते है और बैक्टीरिया को पनपने का मौका नहीं मिलता.
  • ध्यान रखे ब्रश को कभी भी अपने दांतो पर अधिक तेज़ न रगड़े. वर्ना मसूड़ो में सूजन और दांतो से खून आने की समस्या भी हो सकती है. इसीलिए ब्रश करने का सही तरीका सीख लें. इससे आपको ही आसानी रहेगी.

दांतो की सड़न का इलाज कैसे करें?

दांतो में सड़न होने पर उसका इलाज करवाना बेहद आवश्यक होता है क्योकि ये समस्या बहुत ही तीव्र गति से एक से दूसरे दांतो में फैलती है. इसीलिए आज हम आपको कुछ ऐसे उपाय बताने जा रहे है जिनकी मदद से आप अपने दांतो की सड़न को कम कर सकते है.

प्याज :-

यदि आपके दांतो में भी सड़न है तो नियमित रूप से प्याज का सेवन करे. हालाँकि इसे खाने से बाद थोड़ी smell आती है लेकिन ये दांत दर्द और अन्य समस्याओ में बेहद फायेदमंद होती है. इसमें मौजूद औषधीय गुण मुँह में मौजूद बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करते है. यदि आपके दांतो में भी सड़न के कारण दर्द हो रहा है तो प्याज का एक टुकड़ा काटकर उसे चबाएं. इस उपाय में किन में बार बार अपनाये. ऐसा करने से सड़न फ़ैलाने वाले बैक्टीरिया समाप्त हो जायेंगे और दांतो में दर्द भी नहीं होगा.

लौंग :-

दांत से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या के लिए लौंग का प्रयोग बहुत बड़े स्तर पर किया जाता है. इसके तेल में मौजूद गुण किसी भी प्रकार के दांत दर्द में बेहद लाभकारी होते है. जो बैक्टीरिया दांतो की सड़न के लिए ज़िम्मेदार होते है लौंग उन बैक्टीरिया को पनपने नहीं देती. जिससे समस्या का अन्य दांतो में बढ़ने का खतरा भी कम हो जाता है. इसके अलावा दांत दर्द की समस्या में भी ये एक बेहतर उपाय है. इसके लिए आपको ज्यादा कुछ नहीं करना है बस एक लौंग लेनी है और उसे सड़े हुए दांत या जिस दांत में दर्द हो रहा है उसमे रख दें. इससे धीरे-धीरे दांत दर्द में राहत मिलेगी.

हींग :-

जी हां, हींग. हमे पता है ये जानकर थोड़ा आश्चर्य होगा लेकिन ये सत्य है की हमारे खाने को स्वादिष्ट बनाने वाली हींग भी हमारे दांतो के लिए बहुत फायदेमंद होती है. ये दांतो की सड़न के लिए एक अच्छा और बेहतर प्राकृतिक उपचार है. इसके लिए हींग को मौसमी या नींबू के रस में डुबोकर सड़न वाले दांत पर रखे. ऐसा करने से दांतो को औषधि के फ़ायदे तो मिलेंगे ही साथ-साथ अम्लीय पदार्थो के भी फायदे मिलेंगे. इसके अतिरित्क दांतो में दर्द होने पर भी इस औषधि का प्रयोग किया जा सकता है.lehsun ke fayde

लहसुन :-

खाने को स्वादिष्ट बनाने वाले लहसुन का प्रयोग भी आप अपने दांतो की सड़न को दूर करने के लिए कर सकते है. ये दांतो की सड़न उत्पन्न करने वाले बैक्टीरिया को खत्म कर दांत के दर्द में भी राहत देता है. इसके लिए रोजाना 2 से 3 लहसुन चबाएं. ये न केवल आपके दांतो की सड़न को फैलने से रोकेगा अपितु आपके स्वास्थ्य के लिए भी काफी लाभदायक है. यदि आप इस उपाय का नियमित प्रयोग करते है तो आपके दांतो से जुडी अन्य समस्याएं भी खत्म ही जाएँगी.

सरसो का तेल :-

दांतो में सड़न होने पर सबसे अधिक प्रभाव दांतो की जड़ो पर ही होता है. क्योकि शुरुआत में तो ये दांत के ऊपर होती है लेकिन धीरे-धीरे ये दांतो की जड़ो तक पहुँच जाती है. जिसकी वजह से दांतो में बहुत अधिक दर्द होता है. इसीलिए आवश्यक है की अपने दांतो की जड़ो को पहले से ही मजबूत बनाया जाये. इसके लिए आप रोजाना सुबह दांतो को साफ़ करने के लिए सरसो के तेल में नमक मिलाकर मंजन के रूप में प्रयोग करें. दांतो से जुडी समस्याओं को दूर करने के ये बहुत प्राचीन उपाय है.

नीम :

आज से नहीं बल्कि पिछली कई सदियो से नीम के तने का दातुन के रूप में प्रयोग किया जाता आ रहा है. क्योकि इसमें मौजूद तत्व दांतो में सड़न उत्पन्न करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने का काम करते है. इसके अलावा ये सांसो की बदबू से राहत दिलाने में भी मददगार है. यदि आप के घर के पास नीम उपलब्ध है तो टूथपेस्ट के स्थान पर इसके तने से अपने दांतो को साफ़ करें. आपके दांतो के लिए ये बहुत लाभकारी रहेगा.

यदि आपकी समस्या ऊपर बताये गए उपायों को आजमाने के बाद भी ठीक नहीं होती है तो तुरंत अपने डेंटिस्ट से मिले. क्योकि कई बार समस्या अति गंभीर होती हो जाती है जिसके लिये केवल डॉक्टरी इलाज ही बेहतर रहता है. दांतो में सड़न होने पर RCT “Root Canal Treatment” किया जाता है. जिसे नसों का इलाज भी कहते है. इसमें डॉक्टर दांतो को अंदर तक साफ़ करके उसमे filling करता है ताकि सड़न अन्य दांतो में न फैले.

दांतो की सड़न का इलाज कैसे करें, दांतो की सड़न दूर करने के उपाय, दांत सड़ गए है तो इन्हें आजमाएं, दांत में सड़न होने पर क्या करें, सड़े हुए दांतो का इलाज

Leave A Reply

Your email address will not be published.