Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

प्रेगनेंसी में ये होना आम बात है! डरें नहीं

0

माँ बनना इस दुनिया का सबसे खास और प्यारा अनुभव होता है, जैसे ही आपको पता चलता है की आप माँ बनने वाली है आपके मन में ख़ुशी के साथ एक डर भी आता है, की क्या आप उस बच्चे की अच्छे से केयर कर पाएंगी, क्या आप उसे अच्छे से परवरिश दें पाएंगी, इसके अलावा इस दौरान शरीर में होने वाले बदलाव के कारण भी महिलाएं घबरा जाती है, खास कर वो जो की पहली बार माँ बनने जा रही होती है, महिलाओ को ऐसे में डरना नहीं चाहियें, बल्कि प्रेगनेंसी के दौरान हर एक अनुभव का आनंद उठाना चाहिए।

इन्हे भी पढ़ें:- प्रेगनेंसी चेक करने के ये घरेलु तरीके! यहाँ तक की टूथपेस्ट से भी आप चेक कर सकती है

pregnant woman

प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में आने वाले बदलाव के साथ स्वाभाविक रूप से भी बदलाव आते है, जैसे की आपको गंध से एलर्जी हो जाती है , आपको शोर पसंद नहीं होता हैं, आप चिड़चिड़े हो जाते है, इसके अलावा शरीर में होने वाले हॉर्मोन के असंतुलन के कारण आपको शारीरिक रूप से भी परेशानी का अनुभव करना पड़ सकता है, जैसे की कई महिलाओ को बहुत ज्यादा उल्टी, चक्कर आदि की समस्या रहती है, हर महिला में होने वाले बदलाव उनके शरीर में होने वाले हॉर्मोन पर निर्भर करता है, सभी महिलाओ में एक जैसे बदलाव हो ऐसा जरुरी नहीं होता है। और जो महिलाएं पहली बार माँ बन रही होती है कई बार अपने शरीर में होने वाले इन बदलाव को समझ नहीं पाती है और डरने लग जाती है, और ऐसा होता है क्योंकि माँ बनने की जितनी ख़ुशी होती है उतनी ही घबराहट भी होती है, तो आइये हम आपको बताते है की प्रेगनेंसी में कौन कौन से ऐसे बदलाव होते है जिन्हे देख कर आपको नहीं डरना चाहिए।

पेट में दर्द होना:-

गर्भावस्था के दौरान पेट में हल्का फुल्का दर्द रहना आम बात होती है, ऐसे में महिलाओ को घबराना नहीं चाहिए, ऐसा जरुरी नहीं है पेट में यदि आपको तीसरे महीने में दर्द है तो वो लेबर पेन है, लेकिन यदि किसी समय आपके पेट में बहुत ज्यादा दर्द हो, और वो आपसे सहन न हो रहा हो तो आपको इसमें भी लापवाही नहीं करनी चाहिए, बल्कि इसके लिए भी तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए, और आखिरी दिनों में होने वाले दर्द को अनदेखा नहीं करना चाहिए, क्योंकि कई बार महिलाओ को सातवे महीने में भी परेशानी हो जाती है, इसीलिए इन दिनों इस बात का ध्यान रखना चाहिए।

इन्हे भी पढ़ें:-  प्रेगनेंसी के शुरूआती दिनों में क्या क्या समस्या आती है?

स्वभाव में परिवर्तन आना:-

चिड़चिड़ होना, ज्यादा बोलने से आपको परेशानी होना, किसी से बात न करने का दिल करना, गुस्सा आना, कई महिलाओ के प्रेगनेंसी में ये भी लक्षण होते है, इसका कारण होता है की महिला के शरीर में बहुत तेजी से हो रहा हॉर्मोन का परिवर्तन होता है, और ये डिलीवरी के बाद या डिलीवरी के नजदीक आते आते ठीक हो जाता है, इसीलिए ऐसे में इन बदलाव को देखकर भी महिला को डरना नहीं चाहिए।

सर दर्द व् चक्कर आना:-

प्रेगनेंसी में महिला के शरीर के अंगो में कई बार दर्द रहना है और कई महिलाओ को ब्लड प्रैशर की भी समस्या हो जाती है, जिसके कारण उन्हें सर दर्द व् चक्कर आने लगते है, ये काफी आम बात है, और डिलीवरी के बाद ये बिल्कुल ठीक भी हो जाता है, खास कर जो पहली बार माँ बन रही होती है उन्हें काफी डर लगता है, परन्तु इसमें डरने वाली कोई बार नहीं होती है।

उल्टी या गैस की समस्या होना:-

महिलाओ को प्रेगनेंसी के समय उल्टी या फिर पेट में गैस की परेशानी होती रहती है, ऐसे में कभी भी इसे देखकर आपको घबराना नहीं चाहिए, क्योंकि पेट में गैस की परेशानी का कब्ज़ की प्रॉब्लम तो महिलाओ को नौ महीने तक भी हो सकती है, साथ ही उल्टी कई महिलाओ को तीन महीने तक होती है, या फिर कई महिलाएं पूरे नौ महीने तक उल्टियां करती है।

स्पॉटिंग होना:-

कई महिलाओ को प्रेगनेंसी में कई बार हल्का फुल्का दाग लग जाता है, इसे देखकर आपको घबराना नहीं चाहिए, बल्कि इस बारे में अपने डॉक्टर से राय लेनी चाहिए, और आपको कोई ऐसा भारी काम या भागा दौड़ी नहीं करनी चाहिए, जिसके कारण आपके लिए समस्या खड़ी हो, और आपको ब्लीडिंग का खतरा हो, क्योंकि कई बार महिलाएं ब्लड स्पॉट देखकर तनाव में आ जाती है जो की उनके लिए नुकसानदायक हो सकता है।

पैरों में सूजन आना:-

अधिकतर महिलाओ को प्रेगनेंसी के आखिरी महीनो में पैरों में सूजन होने लगती है, जो की एक आम बार होती है, ये भी ज्यादात्तर महिलाओ के साथ होता है, जिसके कारण आपको थोड़ा चलने में परेशानी हो सकती है, परन्तु ये डिलीवरी के बाद सही हो जाती है, परन्तु यदि आपको पैरों में सूजन के साथ दर्द भी है और आपको ज्यादा तकलीफ है तो आप डॉक्टर को दिखा सकती है, या आप घर में भी गरम तेल की मसाज आदि भी कर सकती है।

घबराहट होना:-

प्रेगनेंसी में शरीर में होने वाले बदलाव के कारण आपको कई बार घबराहट भी महसूस होती है, और आप थका थका महसूस करती है, आपकी साँस भी कई बार तेज हो जाती है, ये भी आम बात होती है, इसीलिए आपको प्रेगनेंसी में किसी भी काम को करते हुए तेजी नहीं करनी चाहिए, और न ही ऐसा कोई काम करना चाहिए जिसके कारण आपके पेट पर दबाव पड़े, क्योंकि यदि आप पेट के बल काम करती है, या किसी काम को करने में तेजी करती है तो आपको ज्यादा घबराहट महसूस हो सकती है।

तो ये कुछ चीजे है जो की गर्भावस्था के दौरान आम होती है, ऐसे में महिलाओ को ज्यादा नहीं डरना चाहिए, परन्तु यदि आपको ज्यादा तकलीफ हो रही हो तो इन चीजों को इग्नोर भी नहीं करना चाहिए, जैसे की पेट में किसी समय बहुत ज्यादा दर्द का नुभव हो और असहनीय हो तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए ताकि आपको कोई और परेशानी न हो, और जो भी परेशानी आप प्रेगनेंसी के दौरान सहन करती है, जैसे ही वो नन्ही सी जान आपके हाथो में आती है, वैसे ही आप इन सब परेशानियों को भूल जाती है।

इन्हे भी पढ़ें:- प्रेगनेंसी में पहले तीन महीने तक ये सावधानी बरतें

Leave a comment