प्रेगनेंसी के दौरान क्या क्या समस्याएं आती हैं? और यह हैं उपाय

0

प्रेगनेंसी के दौरान क्या क्या समस्याएं आती हैं? और यह हैं उपाय, प्रेगनेंसी में होने वाली परेशानियां, गर्भावस्था के दौरान होने वाली समस्याएँ, गर्भावस्था में होने वाली समस्याओं से निजात पाने के टिप्स

प्रेगनेंसी के नौ महीने महिला के लिए जितने खास होते हैं उतना ही महिला को इन दिनों में बॉडी में उतार चढ़ाव भी देखने को मिलता है। क्योंकि बॉडी में हो रहे हार्मोनल बदलाव के कारण महिला को बहुत सी मुश्किलों का सामना भी करना पड़ता है। जैसे की वजन का बढ़ना, मॉर्निंग सिकनेस, उल्टी व् चक्कर की समस्या, सिर में दर्द, भूख की कमी, शरीर में दर्द आदि। हर महिला को उनकी बॉडी में हो रहे बदलाव के कारण अलग अलग लक्षण देखने को मिलते हैं। लेकिन महिला को इनसे घबराना नहीं चाहिए बल्कि इस दौरान अपनी केयर और अच्छे से करनी चाहिए ताकि गर्भ में पल रहे शिशु के विकास पर इसका कोई भी बुरा असर न पड़े। तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की प्रेगनेंसी के दौरान महिला को क्या क्या समस्या होती है और इसके क्या क्या उपाय हैं।

मॉर्निंग सिकनेस

हार्मोनल बदलाव होने के कारण महिला को सुबह उठते समय परेशानी हो सकती है, बहुत ज्यादा थकान व् कमजोरी का अहसास हो सकता है। ऐसे में इस समस्या से निजात पाने के लिए आप स्वस्थ रहने की कोशिश करनी चाहिए और अपनी बॉडी को फिट रखने के लिए अपने खान पान का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए, जिससे आपकी बॉडी में सभी पोषक तत्व मौजूद हो और आपको फिट रहने में मदद मिलें जिससे आपको मॉर्निंग सिकनेस जैसी परेशानी से निजात मिल सके।

उल्टी की समस्या

मुँह का स्वाद कड़वा होने के कारण, बॉडी में होने वाले बदलाव के कारण महिला को उल्टी की समस्या भी हो सकती है, कुछ महिलाओं को यह परेशानी प्रेगनेंसी के तीन महीने तक रहती है। तो कुछ महिलाएं प्रेगनेंसी के पूरे नौ महीने तक इस समस्या से परेशान रहती हैं। ऐसे में इस परेशानी से निजात पाने के लिए आपको आंवले का मुरब्बा खाना चाहिए, नमक और निम्बू का रस मिलाकर पानी पीना चाहिए, तुलसी के पत्तों रस और शहद मिलाकर लेना चाहिए इससे आपको इस परेशानी से राहत मिलती है।

सिर दर्द व् चक्कर

प्रेगनेंसी के शुरूआती दिनों में ब्लड फ्लो काफी तेजी से होता है जिसके कारण महिला को सिर में दर्द व् चक्कर जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में महिला को स्वस्थ आहार लेना चाहिए, और साथ ही अपने शरीर को आराम देना चाहिए ऐसा करने से महिला को फायदा मिलता है।

कमजोरी व् थकान

बॉडी में अचानक से हो रहे इतने सारे बदलाव के कारण महिला को कमजोरी व् थकान का अनुभव भी हो सकता है ऐसे में महिला को भरपूर पोषक तत्वों का आहार लेना चाहिए, और साथ ही थकान व् कमजोरी को दूर करने के लिए आपको मालिश आदि करनी चाहिए लेकिन ज्यादा तेजी से नहीं बल्कि आराम से जिससे आपको राहत मिल सके।

मूड में बदलाव

प्रेगनेंसी में मूड में बदलाव आना भी आम बात होती है जिसके कारण महिला का स्वभाव गुस्से वाला और चिड़चिड़ा हो सकता है, ऐसे में महिला को जितना हो सके खुश रहना चाहिए। क्योंकि महिला के स्वभाव का असर भी गर्भ में पल रहे शिशु पर पड़ता है और खुश रहने के लिए महिला को अपने परिवार के साथ समय बिताना चाहिए, योगा करना चाहिए, और अपने प्रेगनेंसी के लम्हो को एन्जॉय करना चाहिए।

गंध से एलर्जी और भूख की कमी

प्रेगनेंसी के समय महिलाओं को गंध से एलर्जी हो सकती है, जिसके कारण वो खाने से भी परहेज करने लगती है। जिनके कारण उन्हें स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या का सामना करना पड़ सकता है और साथ ही इसका असर गर्भ में पल रहे शिशु के विकास पर भी पड़ता है। ऐसे में महिला को खाने से बिल्कुल भी परहेज नहीं करना चाहिए, बल्कि आपको थोड़े थोड़े समय के बाद कुछ न कुछ खाते रहना चाहिए।

शरीर में दर्द

शरीर में दर्द की समस्या का होना भी प्रेगनेंसी में आम बात होती है, जैसे की हल्का पेट में दर्द, कमर में दर्द, सिर दर्द, आदि महसूस होना। और इस समस्या से राहत के लिए महिला को भरपूर आराम करना चाहिए, और साथ ही यदि दर्द की ज्यादा समस्या हो तो इसे इग्नोर न करते हुए एक बार डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

वजन का बढ़ना

प्रेगनेंसी में दौरान जैसे जैसे महीने आगे बढ़ते हैं वैसे वैसे शिशु का विकास गर्भ में बढ़ता है, और महिला को वजन बढ़ने की समस्या होने लगती है। ऐसे में वजन बढ़ने के कारण महिला को बहुत सी परेशानियां हो सकती है, लेकिन महिला को वजन बढ़ने की समस्या से बचने के लिए डाइट नहीं करनी चाहिए, क्योंकि डिलीवरी के बाद धीरे धीरे सब सही हो जाता है।

बार बार यूरिन

वजन बढ़ने के कारण मूत्राशय पर दबाव पड़ता है, जिसके कारण महिला को बार बार यूरिन पास करने की इच्छा होती है ऐसे में आपको यूरिन को रोककर नहीं रखना चाहिए। क्योंकि यदि आप यूरिन को रोककर रखते हैं तो इसके कारण पेट में दर्द आदि की समस्या से आपको परेशान होना पड़ सकता है।

नींद में कमी

जैसे जैसे महिला का वजन बढ़ता है वैसे ही महिला को सोने में भी परेशानी होती है, ऐसे में महिला को करवट बदल बदल कर सोना चाहिए इससे उसे बेहतर नींद आती है, और साथ ही रात की नींद के साथ थोड़ी देर दिन में भी जरूर आराम करना चाहिए।

तो यह हैं कुछ परेशानियां जो महिला को प्रेगनेंसी के दौरान होती है, और इनसे बचने के लिए आप क्या कर सकते है इसके उपाय भी बताएं गए हैं। ऐसे में प्रेगनेंसी के समय किसी भी दवाई का सेवन डॉक्टर से बिना पूछें नहीं करना चाहिए। और साथ ही कोई भी समस्या यदि ज्यादा हो तो इसके लिए एक बार डॉक्टर से राय जरूर लेनी चाहिए और किसी भी तरह की लापरवाही नहीं करनी चाहिए।

[Total: 0    Average: 0/5]