Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

प्रेगनेंसी में कमर और पीठ दर्द के कारण और उपाय

0

प्रेगनेंसी में कमर और पीठ दर्द के कारण और उपाय, गर्भावस्था में कमर दर्द के कारण और उपाय, प्रेगनेंसी में कमर दर्द, प्रेगनेंसी में पीठ दर्द, Back pain during Pregnancy

गर्भावस्था के दौरान महिला को बहुत से शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है, और कई बार तो तनाव आदि होने के कारण महिला मानसिक रूप से भी परेशान हो सकती है। प्रेगनेंसी के समय उल्टी आना, पेट से जुडी समस्या, कमजोरी, नींद की कमी, तनाव, शरीर में दर्द, सिर दर्द या चक्कर की समस्या, आदि समस्या होना आम बात होती है। और हर महिला को जरुरी नहीं है की एक जैसी ही परेशानी हो यह हर महिला के बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव पर निर्भर करती है। तो आइये आज हम आपको प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली कमर व् पीठ के दर्द की समस्या के कारण व् इससे बचने के कुछ आसान उपचार बताने जा रहे हैं।

प्रेगनेंसी के दौरान पीठ दर्द के कारण

गर्भावस्था के समय पीठ व् कमर के दर्द से लगभग सभी महिलाएं परेशान रहती है, इसका सबसे बड़ा कारण महिला का वजन बढ़ना होता है, इसके अलावा और भी कई कारण हो सकते हैं। तो आइये अब जानते हैं की प्रेगनेंसी के दौरान होने वाले पीठ व् कमर दर्द के क्या कारण होते हैं।

वजन का बढ़ना

वजन का बढ़ना प्रेगनेंसी के समय होने वाले पीठ व् कमर में दर्द का सबसे बड़ा कारण होता है, क्योंकि जैसे जैसे महिला का वजन बढ़ने लगता है, वैसे ही रीढ़ की हड्डी का स्पोर्ट बढ़ने के कारण यानी रीढ़ की हड्डी पर दबाव अधिक पड़ने के कारण महिला को पीठ व् कमर दर्द की परेशानी हो सकती है।

हार्मोनल बदलाव

प्रेगनेंसी के दौरान पूरा समय बॉडी में हार्मोनल बदलाव तेजी से होते हैं, ऐसे में रिलैक्सिन नाम का एक हॉर्मोन भी बनता है। जो की शिशु के जन्म के लिए श्रोणि भाग को ढीला करने के काम करता है। ऐसे में यह हॉर्मोन भी पीठ दर्द का कारण बनता है।

मांसपेशियों में खिंचाव

वजन बढ़ने के साथ मांसपेशियों में भी खिंचाव होने लगता है, और सबसे ज्यादा असर पेट व् पीठ पर ही पड़ता है। और मांसपेशियों में होने वाले इस खिंचाव के कारण भी महिला को कमर व् पीठ दर्द की समस्या हो सकती है।

पोषक तत्वों की कमी

गर्भावस्था के समय स्वस्थ रहने के लिए पोषक तत्वों का बॉडी में होना बहुत जरुरी होता है, और यदि गर्भावस्था के दौरान महिला के शरीर में पोषक तत्वों की कमी होती है। तो इसकी वजन से कमजोरी, थकान, चक्कर आना, कमर व् पीठ दर्द की समस्या के कारण गर्भवती महिला को परेशानी होना पड़ सकता है।

पहले से ही यह परेशानी होना

यदि आपको किसी कारण प्रेगनेंसी से पहले ही कमर व् पीठ दर्द की समस्या रहती है, तो प्रेगनेंसी के दौरान भी आपको इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है, और कई बार यह दर्द असहनीय भी हो सकता है, ऐसे में गर्भवती महिला को अपना अच्छे से ध्यान रखने की सलाह दी जाती है।

तनाव

तनाव भी प्रेगनेंसी के समय आपकी शारीरिक समस्याओं को बढ़ाता हैं। और यदि आप गर्भावस्था में तनाव लेते हैं तो इसके कारण पेट व् पीठ में ऐंठन की समस्या होना आम बात होती है जिसके कारण आपको दर्द का अनुभव हो सकता है।

उठने बैठने का ध्यान न रखना

प्रेगनेंसी के केवल खान पान का ही नहीं बल्कि अपने उठने बैठने का भी अच्छे से ध्यान रखना पड़ता है। आप यदि गलत पोजीशन में बैठती है, उठते समय तेजी करती हैं, सोने समय लापरवाही करती है, भारी सामान उठाते हैं, ज्यादा झुककर काम करते हैं, तो ऐसे में भी आपकी कमर व् पीठ में दर्द का सामना आपको करना पड़ सकता है।

प्रेगनेंसी में होने वाले पीठ व् कमर दर्द से बचने का इलाज

प्रेगनेंसी में यदि आपको कमर व् पीठ दर्द की समस्या होती है तो आप कुछ आसान टिप्स का इस्तेमाल करके आसानी से इस समस्या से निजात पा सकते हैं। तो आइये अब जानते हैं की वो टिप्स कौन से हैं।

मालिश

गर्भावस्था के दौरान मालिश करने से भी आप इस समस्या से राहत पा सकते हैं। इस दौरान मालिश करने के लिए आप किसी भी तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं, साथ ही पेट के बल लेटकर या ज्यादा तेजी से मालिश नहीं करनी चाहिए। मालिश करने के लिए आप बैठकर अपने पार्टनर से, घर में किसी और से, या अपने आप अपने हाथों पर तेल लगाकर कमर की मसाज करें आपको आराम महसूस होगा।

मेटरनिटी बेल्ट

यह बेल्ट आपको आसानी से बाजार में मिल जाती है, और इसके कारण पेट पर दबाव नहीं पड़ता है। बलि यह पेट के वजन को संभल लेती है, यदि आप प्रेगनेंसी में इस बेल्ट का इस्तेमाल करते हैं तो आपको प्रेगनेंसी में होने वाले कमर व् पीठ दर्द की समस्या से राहत मिलेगी।

लापरवाही न करें

प्रेगनेंसी के समय गलत पोजीशन में बैठना, भारी सामान उठाना, झुककर काम करना, बॉडी पर ज्यादा जोर डालना, ऊँची हील पहनना, सोते समय सही पोजीशन का ध्यान न रखना जैसी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। बल्कि अपना अच्छे से ध्यान रखना चाहिए ताकि प्रेगनेंसी के समय आपको इस परेशानी से निजात पाने में मदद मिल सके, साथ ही कमर दर्द की समस्या से बचने के लिए आपको सोने के लिए नरम गद्दों का इस्तेमाल करना चाहिए।

व्यायाम

प्रेगनेंसी के समय कमर व् पीठ दर्द की समस्या से बचने के लिए आप हल्का फुल्का व्यायाम भी कर सकते हैं। क्योंकि ऐसा करने से मांसपेशियों को पोषण मिलता है, और बॉडी में ब्लड फ्लो भी बेहतर तरीके से होता है जिससे आपको कमर में दर्द जैसी परेशानी से राहत पाने में मदद मिलती है।

पोषक तत्व भरपूर लें

खान पान का ध्यान प्रेगनेंसी में न रखने से आपको बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। और इन समस्याओं से बचने के साथ पीठ व् कमर दर्द से निजात पाने के लिए भी आपको कैल्शियम, प्रोटीन, व् अन्य पोषक तत्व युक्त आहार का सेवन करना चाहिए। ऐसा करने से हड्डियों को भरपूर पोषण मिलता है, जिससे आपको कमर व् पीठ दर्द से निजात पाने के साथ प्रेगनेंसी में स्वस्थ रहने और शिशु के बेहतर विकास में भी मदद मिलती है।

ज्यादा देर खड़ी या बैठी न रहें

कामकाजी महिलाओं को या तो ज्यादा देर तक बैठे रहना पड़ता है, या खड़े रहना पड़ता है। और ऐसा करने से प्रेगनेंसी के समय आपको पीठ व् कमर दर्द की समस्या हो सकती है। इसे बचने के लिए यदि आपका बैठने का काम है तो आरामदायक कुर्सी के साथ कमर के पीछे तकिया लगाकर बैठें और यदि आप ज्यादा देर खड़ी रहती है, तो एक ही पैर पर वजन न पड़ने दें, बल्कि पैर की पोजीशन बदलते रहें इससे आपको इस परेशानी से बचने में मदद मिलती है।

टाइट कपडे न पहने

टाइट कपडे पहनने के कारण भी प्रेगनेंसी के समय आपको कमर में दर्द जैसी समस्या हो सकती है। और यदि आप हमेशा टाइट कपडे पहन कर रखती है, तो आपका दर्द बढ़ भी सकता है। इसीलिए इस समस्या से निजात पाने के लिए प्रेगनेंसी के समय ढीले व् आरामदायक कपडे पहने जिससे आपको इस परेशानी से निजात पाने में मदद मिल सकें।

तो यह हैं कुछ कारण जिनकी वजह से आपको प्रेगनेंसी के दौरान कमर में दर्द जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। और यदि आप इस समस्या से बचना चाहती है तो ऊपर बताये गए टिप्स का इस्तेमाल भी कर सकती हैं, साथ आपको तनाव नहीं लेना चाहिए, और यदि दर्द सहनीय भी हो तो इसके लिए घर पर दवाई न लेकर बल्कि डॉक्टर से राय लेनी चाहिए।

यूट्यूब विडिओ –

गर्भावस्था में पीठ और कमर दर्द के उपाय
Leave a comment