गर्भावस्था में इन कारणों से आती है पैरों में सूजन

गर्भावस्था में इन कारणों से आती है पैरों में सूजन, प्रेगनेंसी में सूजन होने के कारण, गर्भवस्था में इन कारणों की वजह से आती है पैरों में सूजन, प्रेगनेंसी में सूजन की समस्या होने के कारण

गर्भवती महिला में प्रेगनेंसी के दौरान बहुत से शारीरिक बदलाव देखने को मिलते हैं, साथ ही इस समय महिला को तरह तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। आज हम उन्ही परेशानियों में से एक पैरों में होने वाली सूजन के बारे में बात करेंगे। प्रेगनेंसी के दौरान बॉडी में लगातार हार्मोनल बदलाव होते हैं, वजन बढ़ता है, जिसके कारण आपके शरीर की प्रक्रियाओं पर असर पड़ता है। और ऐसे ही कुछ कारणों की वजह से गर्भवती महिला को पैरों के साथ हाथों में भी सूजन की समस्या हो सकती है। यदि यह सूजन थोड़ी बहुत होती है, तो इसमें घबराने की कोई बात नहीं होती।

लेकिन यदि आपके हाथों, पैरों के साथ मुँह पर भी सूजन आदि आने लगती है, साथ ही दर्द का अनुभव भी हो। तो इसे अनदेखा नहीं करना चाहिए क्योंकि यह प्री-एक्लेमप्सिया का संकेत हो सकता है। जो की गर्भवती महिला के लिए परेशानी का कारण बन सकता है। क्या आप भी गर्भवती है और आपको भी पैरों में सूजन हो रही है, तो घबराइए नहीं थोड़ी बहुत सूजन का होना प्रेगनेंसी के दौरान सामान्य होता है। तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की प्रेगनेंसी में सूजन होने के क्या क्या कारण हो सकते हैं।

हार्मोनल बदलाव

प्रेगनेंसी की शुरुआत से लेकर आखिरी महीने तक बॉडी में लगातार हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिसके कारण शरीर की क्रियाएं प्रभावित हो सकती है। और यदि ऐसा होता है तो इसके कारण गर्भवती महिला को पैरों में सूजन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

पानी की कमी

पानी की कमी के कारण प्रेगनेंसी के दौरान महिला को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। यदि आप भी प्रेगनेंसी के दौरान पानी का सेवन कम करती हैं तो इसके कारण आपको भी पैरों में सूजन की समस्या हो सकती है।

ज्यादा देर एक ही पोजीशन में बैठना

प्रेगनेंसी के दौरान महिला का वजन लगातार बढ़ता है, यदि आप प्रेगनेंसी के दौरान लम्बे समय तक एक ही पोजीशन में बैठी रहती हैं तो इसके कारण बॉडी में ब्लड फ्लो धीमा होने लगता है। और बॉडी में ब्लड फ्लो धीमा होने के कारण आपको पैरों में सूजन की समस्या हो सकती है।

पैरों पर दबाव पड़ने के कारण

गर्भवती महिला यदि एक ही जगह पर ज्यादा देर तक खड़ी रहती है, तो पैरों पर वजन पड़ने के कारण पैरों की मांसपेशियों पर दबाव पड़ता है, जिसके कारण गर्भवती महिला को इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

सीधा सोने के कारण

गर्भवती महिला यदि सीधा होकर सोती है, तो इसके कारण ब्लड फ्लो पैरों तक अच्छे तरीके से नहीं हो पाता है। जिसके कारण महिला के पैरों में सूजन होने की समस्या हो सकती है, और साथ ही इसके कारण चक्कर आने की परेशानी आदि भी हो सकती है।

प्रेगनेंसी में होने वाली पैरों की सूजन से निजात पाने के टिप्स

  • पानी का भरपूर सेवन करें इससे शरीर से सारे विषैले पदार्थो को बाहर निकलने में मदद मिलेगी, बल्कि इससे प्रेगनेंसी के दौरान ऊर्जा से भरपूर रहने, स्वस्थ रहने के साथ पैरों में सूजन की समस्या से भी राहत मिलती है।
  • ज्यादा देर एक ही जगह पर खड़े न रहें, और न ही एक ही पोजीशन में बैठें रहें, बल्कि थोड़ी थोड़ी देर बाद पोजीशन बदलते रहें।
  • पैरों की ज्यादा देर तक नीचे लटकाकर न रखें, बीच में पैरों को हिलाते रहे और ऊंचाई पर रखें।
  • सीधे होकर न सोएं, सोने के लिए बाईं तरफ करवट लेकर सोएं, यह प्रेगनेंसी के दौरान सोने के लिए सबसे बेहतरीन पोजीशन होती है।
  • अपने खान पान का बेहतर तरीके से ध्यान रखें, पुष्टि तत्वों से भरपूर आहार का सेवन करें।
  • हल्का व्यायाम या वॉक भी जरूर करें इससे बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर तरीके से होने में मदद मिलती है।
  • अधिक मात्रा में नमक युक्त आहार का सेवन या स्नैक्स आदि का सेवन भी नहीं करना चाहिए।
  • गुनगुने पानी में नमक डालकर पैरों की सिकाई करें इससे भी आपको आराम मिलेगा।

तो यह हैं कुछ कारण जिनकी वजह से गर्भवती महिला को पैरों में सूजन की समस्या हो सकती है, साथ ही इससे बचने के लिए आप नीचे दिए टिप्स का भी जरूर ध्यान रखें। इसके अलावा ज्यादा समस्या होने पर इसे नज़रअंदाज़ न करते हुए एक बार डॉक्टर से जरूर राय लें।