प्रेगनेंसी में ट्रेवल करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए

प्रेगनेंसी में ट्रेवल करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए
0

प्रेगनेंसी में ट्रेवल करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, गर्भावस्था में ट्रेवल करना सही या नहीं, प्रेगनेंसी में कर रही है ट्रेवल इन बातों को ध्यान में रखें, Travelling during pregnancy, Tips for travelling during pregnancy

प्रेगनेंसी किसी भी महिला के लिए बहुत ही नाजुक समय होता है, इसीलिए गर्भवती महिला को अपना अच्छे से ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। क्योंकि गर्भावस्था के समय महिला अकेली नहीं होती है बल्कि गर्भ में पल रहा शिशु भी अपनी माँ पर ही निर्भर करता है, ऐसे में महिला द्वारा की गई किसी भी तरह की लापरवाही का असर सीधा गर्भ में पल रहे शिशु पर पड़ता है। ऐसे में यदि किसी महिला को कहीं यात्रा पर जाना पड़ जाए, तो महिला के लिए परेशानी का विषय होता है। क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान डॉक्टर्स महिला को यात्रा न करते की सलाह देते हैं।

और यात्रा करने के लिए डॉक्टर इसीलिए मना करते हैं क्योंकि इस दौरान झटका, पेट पर दबाव, आदि पड़ने के कारण महिला को परेशानी हो सकती है। खासकर शुरूआती दिनों में तो यह गर्भपात का कारण भी बन सकती है। ऐसे में प्रेगनेंसी के दौरान यदि यात्रा करनी भी पड़ जाये तो जरुरी होता है की महिला अपना ख्याल अच्छे से रखें और सावधानी बरते जिससे गर्भवती महिला या गर्भ में पल रहे शिशु को किसी भी तरह की परेशानी से बचाव करने में मदद मिल सके। तो लीजिये अब विस्तार से जानते हैं की प्रेगनेंसी के दौरान यात्रा करते समय गर्भवती महिला को किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

खान पान का ध्यान रखें

ट्रैवेलिंग के दौरान कुछ महिलाओं को उल्टी आने की समस्या होती है, और प्रेगनेंसी के दौरान यात्रा करने पर तो अधिकतर महिलाओं को यह समस्या हो सकती है। ऐसे में गर्भवती महिला को अपने खान पान का ध्यान रखना चाहिए, हल्का भोजन करना चाहिए, और साथ ही ट्रेवल करते समय टॉफी, आदि का सेवन करते रहना चाहिए जिससे उल्टी आदि न आए और आपको इस परेशानी से बचाव करने में मदद मिल सके।

आरामदायक कपडे पहने

गर्भवती महिला को यात्रा के दौरान आरामदायक कपडे पहनने चाहिए जिससे अधिक गर्मी या ठण्ड का अहसास न हो। और महिला रिलैक्स भी महसूस करे, साथ ही बंद जूते आदि पहनने से बचना चाहिए और आगे से खुली हुई चप्पल आदि पहननी चाहिए, और ध्यान रखें की ऐसी चप्पल न पहने जो ढीली हो या जिसमे आपका पैर फिसलता हो।

भारी सामान लेकर न चलें

प्रेगनेंसी में गर्भवती महिला को भारी सामान न उठाने की सलाह दी जाती है, क्योंकि इससे गर्भवती महिला के पेट पर दबाव पर सकता है, जिसके कारण परेशानी का अनुभव हो सकता है। ऐसे में यदि महिला को भारी सामान लेकर जाना है तो कुली से सामान उठवाना चाहिए या घर के किसी सदस्य को साथ लेकर जाना चाहिए। ताकि महिला को भारी सामान के कारण होने वाली परेशानी से बचाव करने में मदद मिल सके।

सही सीट का चुनाव

गर्भवती महिला यात्रा के दौरान यदि एक ही पोस्चर में बैठी रहती है तो इसके कारण भी महिला को परेशानी हो सकती है। ऐसे में जरुरी होता है की गर्भवती महिला यात्रा के दौरान सही सीट का चुनाव करें, जिससे वह अपना पोस्चर आराम से बदल सकें। जैसे की ट्रेन में यदि महिला सफर कर रही है तो तो उसे बुकिंग करके नीचे वाली सीट लेनी चाहिए, टू टियर या थ्री टियर में ही बुकिंग करवानी चाहिए, कार में यदि आप सफर कर रही हैं तो आगे वाली सीट पर बैठें ताकि सीट को ऊपर नीचे करके आप अपनी पोजीशन को बदल सकें, आदि।

दूसरे ट्राइमेस्टर में कर सकती है सफर

वैसे तो प्रेगनेंसी के दौरान सफर करने से बचना चाहिए, लेकिन यदि आपको जरुरी सफर पर जाना है तो ऐसे में दूसरे ट्राइमेस्टर में सफर करना सुरक्षित होता है, यदि पूरी सेफ्टी का ध्यान रखा जाए। और पहले और तीसरे ट्राइमेस्टर में जितना हो सकें सफर नहीं करना चाहिए।

डॉक्टर से ले राय

गर्भवती महिला के लिए प्रेगनेंसी में क्या सही है क्या नहीं इसके बारे में सबसे बेहतर तरीके से डॉक्टर बता सकता है। ऐसे में यात्रा करने से पहले गर्भवती महिला को अपनी मेडिकल कंडीशन के बारे में डॉक्टर से राय लेनी चाहिए। और उसके बाद ही सफर करना चाहिए, क्योंकि यदि प्रेगनेंसी में किसी तरह की परेशानी होती है तो डॉक्टर आपको उसके बारे में अच्छे से बता देता है।

बाहर के खाने से बचें

प्रेगनेंसी के दौरान बॉडी में हो रहे हार्मोनल बदलाव के कारण जीभ के स्वाद में परिवर्तन आना आम बात होती है, ऐसे में ट्रेवल करते समय कुछ बाहर का खाने की इच्छा होना आम बात होती है। लेकिन महिला को बाहर के खाने से परहेज करना चाहिए, क्योंकि इससे संक्रमण व ट्रेवल के दौरान तबियत के खराब होने का डर भी रहता है। और जितना हो सके खाने का सामान अपने घर से ही लेकर जाना चाहिए।

तो यह हैं कुछ टिप्स जिनका ध्यान गर्भवती महिला को ट्रेवल करते समय रखना चाहिए। ताकि ट्रैवेलिंग के दौरान आने वाली हर तरह की परेशानी से बचाव करने में महिला को मदद मिल सके। साथ ही गर्भवती महिला को यदि ट्रेवलिंग से पहले ही प्रेगनेंसी के दौरान अधिक सेहत सम्बन्धी समस्या हो ट्रेवलिंग करने से बचना चाहिए।