Ultimate magazine theme for WordPress.

प्रेगनेंसी जांच कब करना सही होता है?

0

प्रेगनेंसी के लक्षण

गर्भवती होना हर महिला के लिए बहुत ही सुखद अहसास होता है और पीरियड्स का मिस होना इस ख़ुशी का सबसे पहला अहसास होता है। क्योंकि शादी के बाद पीरियड्स मिस होने पर मन में सबसे पहले यही आता है की कहीं में गर्भवती तो नहीं हूँ? और ऐसा नहीं होता है की जब आपको पता चले की आप गर्भवती हैं तभी आपकी बॉडी में आपको प्रेगनेंसी के लक्षण महसूस हो बल्कि यदि आपका गर्भ ठहर जाता है तो निषेचन की प्रक्रिया होने के बाद से ही बॉडी में हार्मोनल बदलाव होने शुरू हो जाते हैं। जिसके कुछ लक्षण आपको महसूस भी होते हैं जैसे की कमजोरी का अनुभव, मुँह का स्वाद बिगड़ना, पेट में हल्का दर्द, उल्टी आने का मन करना आदि। और उसके बाद यदि आपको पीरियड्स मिस हो जाएँ तो हो सकता है की आप सच में प्रेग्नेंट हो, लेकिन इसे सच मानने से पहले आपको प्रेगनेंसी की जांच करनी चाहिए।

प्रेगनेंसी जांच टेस्ट किट

पीरियड्स मिस होने के बाद यदि आपको ऐसा महसूस हो की आपका गर्भ ठहर गया है तो इसकी जांच करवाने के लिए आपको डॉक्टर के पास जाने की जरुरत नही होती है। क्योंकि प्रेगनेंसी की जांच करने के लिए मार्किट में आपको किसी भी मेडिकल स्टोर पर प्रेगनेंसी जांच किट मिल जाती है। जिसे आप घर पर ही इस्तेमाल करके आसानी से यह पता लगा सकती है की आपका गर्भ ठहरा है या नहीं। प्रेगनेंसी जांच किट का इस्तेमाल किस तरह से किया जाता है इसका पूरा विवरण प्रेगनेंसी जांच किट के पैकेट पर दिया होता है। अगर एक बार टेस्ट करने पर रिपोर्ट नेगेटिव आये तो दो दिन रूककर दोबारा टेस्ट करना चाहिए और यदि फिर टेस्ट पॉजिटिव आये या नेगेटिव दोनों ही केस में डॉक्टर से मिलना चाहिए। ताकि यदि आप प्रेग्नेंट हैं तो आपका सही ट्रीटमेंट हो सके और यदि प्रेग्नेंट नहीं है तो पीरियड्स मिस होने के कारण का पता चल सके।

प्रेगनेंसी जांच करने का सही समय

यदि आपका पीरियड्स मिस हो गया है और पीरियड्स मिस हुए पांच दिन या एक हफ्ता हो गया है तो आप घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकते हैं। और प्रेगनेंसी टेस्ट करते समय एक बात का ध्यान रखें की सुबह के सबसे यूरिन का इस्तेमाल करें, क्योंकि उस समय HCG हॉर्मोन का लेवल अधिक होने के कारण परिणाम सही आने के सबसे अधिक चांस होते हैं। और यदि आप दिन में किसी भी समय टेस्ट करते हैं तो इस बात का ध्यान रखें की टेस्ट करने से चार या पांच घंटे पहले तक आप यूरिन पास न करें। और एक बात का ध्यान रखें की पैकेट पर एक्सपाइरी डेट देख लें, और किट को सूखी और समतल जगह पर रखें, साथ नहीं किट को खोलने के दस घंटे के अंदर ही उसका इस्तेमाल कर लेना चाहिए।

प्रेगनेंसी टेस्ट किट को इस्तेमाल करने का तरीका

यदि आप बाजार से प्रेगनेंसी टेस्ट किट लाते हैं तो उसे इस्तेमाल करने से पहले यूरिन का नमूना ले लें, प्रेगनेंसी जांच किट में मौजूद ड्रॉपर की मदद से यूरिन की दो से तीन बूँदे किट में यूरिन डालने वाली जगह पर डाल दें। उसके बाद परिणाम के लिए पांच से दस मिनट के लिए इंतज़ार करें, यदि किट पर दी गई एक लाइन डार्क होती है तो इसका मतलब होता है की आपका प्रेगनेंसी का परिणाम नेगेटिव है यदि दोनों लाइन डार्क हो जाती है तो इसका मतलब होता है की मुबारक हो आपका परिणाम पॉजिटिव है आप माँ बनने वाली हैं।

तो यह हैं प्रेगनेंसी जांच कब और कैसे करनी चाहिए साथ ही प्रेगनेंसी जांच किट का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए इससे जुड़े टिप्स। तो यदि आपका भी पीरियड मिस हो जाता है तो आपको प्रेगनेंसी किट का इस्तेमाल करके आसानी से जान सकती है की आप गर्भवती हैं या नहीं।