Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

स्ट्रेच मार्क्स (stretch marks ) हटाने के घरेलू तरीक़े

0

स्ट्रेच मार्क्स दूर करने के घरेलू उपचार –


चीनी –
चीनी स्ट्रेच मार्क्स का इलाज करने का बहुत ही अच्छा प्राकृतिक नुस्खा है। चीनी की मदद से त्वचा की मृत कोशिकाएँ निकालें और स्ट्रेच मार्क्स को दूर करें। एक चम्मच चीनी में थोड़ा-सा बादाम का तेल और थोड़ा-सा नींबू का रस मिलाएं। इन्हें अच्छे से मिक्स करें और स्ट्रेच मार्क्स तथा शरीर के अन्य भागों पर लगाएं। इस मिश्रण को त्वचा पर रोज़ाना कुछ मिनट तक नहाने से पहले रगड़ें। इसे एक महीने तक नियमित रूप से करें और एक महीने के अन्दर आप पाएंगे कि आपके स्ट्रेच मार्क्स हल्के हो गए हैं।

आलू – ऐसा कोई भी घर नहीं होगा, जहां सब्ज़ियों का राजा आलू आसानी से उपलब्ध ना हो। अपनी त्वचा को स्ट्रेच मार्क्स रहित बनाने के लिए एक आलू लें, इसका बाहर का छिलका छीलें और इसे कद्दूकस कर लें या फिर इसके छोटे छोटे टुकड़े करके एक मिक्सर (mixer) में पीस लें और इसका रस निकाल लें। आलू का गूदा भी उस जगह लगाया जा सकता है, जिधर आपको स्ट्रेच मार्क्स दिख रहे हों। आप आलू का रस निकालकर भी इसे स्ट्रेच मार्क्स पर लगा सकती हैं। इस रस को 5 से 10 मिनट के लिए त्वचा पर रखें और इसके बाद इसे हल्के गुनगुने पानी से अच्छी तरह से धो लें। आलू के रस में मिनरल और विटामिन पाए जाते हैं, जो की त्वचा की कोशिकाओं की वृधि और मरम्मत करते हैं।

पानी – पानी हमें अनेक रोगों से बचाता है, ख़ासकर त्वचा सम्बंधी रोगों से। स्ट्रेच मार्क्स से मुक्ति पाने के लिए हमें अधिकाधिक पानी पीना चाहिए, इससे त्वचा में नमी बनी रहती है और रोम छिद्रों के द्वारा detoxification यानि की अवांछित तत्व बाहर निकलते रहते हैं।

ऐलोवेरा – ऐलोवेरा एक आसानी से उपलब्ध होने वाला पौधा है, जिसकी पत्तियों में एक जेल जैसा तरल पदार्थ होता है। आप पत्तियों को दो भागों में तोड़कर उससे जेल निकाल सकते हैं। अब इस जेल को स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं और कुछ समय बाद गुनगुने पानी से धो दें।
या फिर आप एक चौथाई कप ऐलोवेरा जेल लें, 5 विटामिन A कैपसूल व 10 विटामिन E कैपसूल में से उसका तरल पदार्थ निकालें और अच्छी तरह तीनों का मिश्रण बना लें। अब इस मिश्रण को स्ट्रेच मार्क्स पर तब तक रगड़ें, जब तक त्वचा इसे सोस्ट्रेच मार्क्स (stretch marks ) हटाने के घरेलू तरीक़े। ख ना ले। जल्दी परिणाम पाने के लिए इसका रोज़ाना इस्तेमाल करें।

ज़ैतून का तेल – ज़ैतून का तेल antioxidants के गुणों से भरपूर होता है और त्वचा के लिए ये वरदान स्वरूप है। ज़ैतून के तेल को हल्का गरम करके स्ट्रेच मार्क्स पर मसाज करें। इससे त्वचा में ख़ून का प्रवाह सुधरेगा और स्ट्रेच मार्क्स हल्के होंगे।

निम्बू का रस – निम्बू का रस स्ट्रेच मार्क्स के लिए एक बहुत ही आसान और आसानी से उपलब्ध अचूक उपाय है। निम्बू के रस में विद्यमान ऐसिड स्ट्रेच मार्क्स, मुँहासों, त्वचा पर लगे चोट के निशान व दाग़ धब्बों को कम करने में बहुत असरदार होता है। कुछ निम्बू लेकर, उनका रस निचोड़ लें और फिर उससे circular motion में स्ट्रेच मार्क्स पर मसाज करें। हल्के हाथ से दस मिनट तक मसाज करें, फिर गुनगुने पानी से धो दें। इसके अलावा निम्बू के रस को खीरे (cucumber) के रस में मिक्स करके भी स्ट्रेच मार्क्स पर लगाने से लाभ होता है।

अरंडी का तेल (castor oil) – अरंडी का तेल विभिन्न प्रकार की त्वचा सम्बंधी समस्याओं से निजात दिलाने में मदद करता है। अरंडी के तेल को सीधे स्ट्रेच मार्क्स पर circular motion में 15 मिनट तक मसाज करें। मसाज के बाद साफ़ और पतले सूती कपड़े से स्ट्रेच मार्क्स को ढक दें। फिर गरम पानी की बोतल से आधे घंटे तक हल्का सेंक दें। एक महीने तक ये उपाय करने से स्ट्रेच मार्क्स में काफ़ी हद तक कमी आती है।
Cocoa butter – cocoa butter में anti-wrinkle और anti-ageing गुण होते हैं। ये हमारे शरीर में blood circulation को बढ़ा कर स्ट्रेच मार्क्स को हल्का करता है। क़रीब दो महीने तक दिन में दो बार cocoa butter से स्ट्रेच मार्क्स पर मसाज करें। आप देखेंगे कि धीरे धीरे स्ट्रेच मार्क्स कम होते जाएँगे।

अंडा – अंडे की सफेदी प्रोटीन व अमीनो ऐसिड से युक्त होती है, स्ट्रेच मार्क्स पर इसको इस्तेमाल करने से हम उनसे मुक्ति पा सकते हैं। दो अंडों का सफ़ेद हिस्सा निकाल कर, उसे अच्छी तरह फेंट लें। स्ट्रेच मार्क्स प्रभावित स्थान को अच्छी तरह धो लें और फिर ब्रश की मदद से अंडे का लेप लगाएँ। पूरी तरह सूखने के बाद ठंडे पानी से इसे धो दें। इसके बाद थोड़ा सा ज़ैतून का तेल लगा कर मसाज कर दें। एक महीने तक ये उपाय करने से आपको स्ट्रेच मार्क्स से मुक्ति अवश्य मिलेगी।

Leave a comment
प्रेगनेंसी में चुकंदर जूस के अद्भुत फायदे कई महिलाओं का एक ब्रेस्ट बड़ा और एक छोटा क्यों होता है