Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

गर्भधारण से कितने दिनों बाद तक उल्टियां आती हैं?

0

प्रेगनेंसी भी महिला के लिए किसी जंग से कम नहीं होती है, पूरी प्रेगनेंसी महिला के शरीर में हार्मोनल बदलाव होते रहते है, जिसके कारण महिला को उलटी व् मतली की समस्या आना आम बात है, सिर्फ उलटी ही नहीं बल्कि प्रेगनेंसी के नौ महीना महिला का वजन बढ़ना, पेट में हल्का फुल्का दर्द रहना, कमजोरी महसूस होना, सर दर्द, गंध के प्रति एलर्जी आदि होना आम बात होती है, और ऐसा भी जरुरी नहीं होता है की हर महिला में एक जैसे शारीरिक परिवर्तन आएं यह उनके हॉर्मोन्स पर निर्भर करता है, जैसे की उलटी की समस्या कई महिलाओ को यह प्रेगनेंसी के शुरूआती तीन महीने में रहती है, इसे मॉर्निंग सिकनेस भी कहा जाता है।

इन्हें भी पढ़ें:- गर्भावस्था में उल्टी और गैस की समस्या से निजात पाने के टिप्स

तो कई महिलाओ को उलटी की समस्या पूरे नौ महीने तक रहती है, और ऐसा कहा जाता है की जिन महिलाओ को उलटी की समस्या अधिक होती है, उन्हें समय से पहले प्रसव या गर्भपात का खतरा बहुत कम होता है, और साथ ही यह एक स्वस्थ प्रेगनेंसी का संकेत भी देती है, प्रेगनेंसी के दौरान जिस महिला के शरीर में प्रेगनेंसी हॉर्मोन का विकास जितनी तेजी से होता है, महिला को उतनी की उलटी की समस्या ज्यादा रहती है, और यदि गर्भ में जुड़वा शिशु होते हैं तो यह समस्या दुगुनी हो जाती है, तो आइये अब जानते है की प्रेगनेंसी में उलटी आने के क्या कारण होता है, और इससे बचने के कुछ उपाय भी जानते हैं।

उलटी आने का कारण:-

प्रेगनेंसी के दौरान उलटी आने का कारण शरीर में hcg यानी की प्रेगनेंसी हॉर्मोन का बनना होता है, और यह हॉर्मोन प्लेसेंटा की कोशिका के द्वारा, अंडाणु के निषेचित होने के बाद शरीर में उत्त्पन्न होता है, जिसके कारण महिला को उलटी आती है, यह भी कहा जाता है की प्रेगनेंसी के दौरान उलटी आना अच्छी बात होती है।

गर्भधारण के कितने दिनों बाद तक उलटी आती है:-

यह हर महिला के हार्मोनल बदलाव पर निर्भर करता है, कुछ महिलाओ को प्रेगनेंसी के शुरूआती दिनों में, तो कुछ महिलाओ को यह तीन महीने तक रहती है, और कई महिलाएं तो पूरे नौ महीने तक इस समस्या से परेशान रहती है, इसके अलावा कुछ महिलाएं ऐसी भी होती है, जिन्हे केवल सुबह उठने के बाद ही ऐसा होता है, तो कुछ महिलाएं ऐसी भी होती है जिन्हे यह समस्या बिलकुल ही नहीं होती है, तो आप यह नहीं कह सकते हैं की कितने दिनों बाद तक ऐसा होगा, यह आपके हॉर्मोन पर ही निर्भर करता है।

प्रेगनेंसी के दौरान उलटी से बचने के कुछ उपाय:-

  • महिला को रात को काले चने पानी में भिगो कर रखने चाहिए, और सुबह उठकर नियमित इस पानी का सेवन करना चाहिए महिलाको फायदा मिलेगा।
  • दिन में दो से तीन बार आंवले का मुरब्बा खाने से भी आपको राहत मिलती है।
  • यदि आप अदरक को पीसकर उसकी महक सूंघते हैं तो आपको अच्छा महसूस होता है, जब भी आपको उलटी आने लगे तभी आपको ऐसा करना चाहिए।
  • भुने चने के सत्तू का सेवन यदि आप पानी में नमक या चीनी डालकर करना चाहिए।
  • निम्बू पानी पीने से भी आपको उलटी से राहत मिलती है, आप चाहे तो नियमित सुबह उठकर पानी में निम्बू का रस और एक चम्मच शहद मिलाकर उसका सेवन कर सकते हैं, इससे आपको राहत मिलती है।
  • पुदीने को पानी में उबाल कर उसमे चीनी या नमक मिलाकर पीने से भी आपको आराम मिलता है।
  • तुलसी का रस एक चम्मच नियमित पीने से आपको उलटी कम होने लगती है।

तो ये हैं कुछ कारण जिनकी वजह से प्रेगनेंसी में आपको इस समस्या का सामना करना पड़ता है, इसके अलावा प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण और भी परिवर्तन होते है, इसे लेकर घबराना नहीं चाहिए लेकिन यदि ज्यादा समस्या हो तो इसे इग्नोर नहीं करना चाहिए और डॉक्टर से राय लेनी चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें:- गर्भावस्था में सफ़ेद पानी (White discharge) आने की समस्या के कारण व् समाधान

 

Leave a comment