गर्भवती महिला को गरम दूध पीना चाहिए या ठंडा? जानिए

प्रेगनेंसी में दूध

कैल्शियम से भरपूर दूध का सेवन प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला के साथ गर्भ में पल रहे शिशु के विकास के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। दूध का सेवन करने से बॉडी में कैल्शियम की कमी पूरी करने में मदद मिलती है जिससे हड्डियों को मजबूती मिलती है और गर्भवती महिला को कमजोरी, थकावट जैसी समस्या से आराम मिलने के साथ ऊर्जा से भरपूर रहने में मदद मिलती है। साथ ही गर्भ में पल रहे शिशु की हड्डियों के बेहतर विकास के लिए भी दूध का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है। लेकिन दूध को लेकर गर्भवती महिला के मन में बहुत सवाल होते हैं, तो आइये अब उन सवालों और उनके जवाब के बारे में जानते हैं।

प्रेगनेंसी में कौन सा दूध पीना चाहिए?

गर्भवती महिला को कच्चे दूध का सेवन कभी नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसके कारण गर्भवती महिला को पेट से सम्बंधित समस्या होने के साथ डायरिया जैसी परेशानी का सामना भी करना पड़ सकता है। साथ ही कच्चे दूध के सेवन के कारण गर्भवती महिला को इन्फेक्शन जैसी परेशानी भी हो सकती है। ऐसे में दूध का सेवन करने से पहले उसे अच्छे से उबाल लेना बहुत जरुरी होता है, और मलाई रहित दूध का सेवन करना भी बेहतर होता है।

कैसे करें दूध का सेवन?

बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण गर्भवती महिला की जीभ के स्वाद में भी परिवर्तन आ सकता है। ऐसे में कई बार गर्भवती महिला का प्लेन दूध पीने की इच्छा नहीं होती है, तो इसमें स्वाद को बदलने के लिए फलों के साथ इसका शेक, ड्राई फ्रूट्स मिक्स करने के बाद दूध बनाकर, बादाम का दूध, केसर मिल्क आदि का सेवन गर्भवती महिला कर सकती है।

दूध पीने का सही समय कौन सा है?

वैसे तो गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी में दिन में दो से तीन गिलास दूध का सेवन करना चाहिए, लेकिन सुबह के समय गर्भवती महिला को दूध पीने से बचना चाहिए। क्योंकि सुबह के समय दूध पीने से पाचन क्रिया धीमी पड़ जाती है, जिसके कारण जिससे भूख में कमी आ सकती है। ऐसे में गर्भवती महिला को दोपहर, शाम, या रात को दूध का सेवन करना चाहिए। और गर्भवती महिला यदि रात को बेड पर जाने से एक गिलास गुनगुने दूध का सेवन करती है तो इससे बेहतर नींद लेने में मदद मिलती है।

गर्भवती महिला को गरम दूध पीना चाहिए या ठंडा?

गर्भवती महिला को न तो बहुत ज्यादा गरम दूध का सेवन करना चाहिए और न ही फ्रिज से निकाले बिल्कुल ठन्डे दूध का सेवन करना चाहिए। क्योंकि यह दोनों ही गर्भवती महिला की सेहत को नुकसान पहुंचा सकते हैं। ऐसे में जब भी दूध का सेवन करना हो तो हल्का गुनगुना करने के बाद ही दूध पीना चाहिए। क्योंकि इससे बॉडी को आराम मिलता है, और किसी तरह की परेशानी का सामना भी नहीं करना पड़ता है। और यदि आप ठंडा दूध पीना चाहती है तो थोड़ी देर फ्रिज में रख सकती है, क्योंकि शेक के लिए गर्म दूध ठीक नहीं होता है। लेकिन दूध को ठंडा करने के लिए आइस क्यूब का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए।

तो यह हैं प्रेगनेंसी के दौरान दूध पीने से जुड़े कुछ खास टिप्स, ऐसे में गर्भवती महिला को दूध पीते समय इन बातों का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए, ताकि गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु को दूध का फायदा मिल सके।