Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

तेजी से वजन घटाने के ये हैं नुकसान!

0

वजन कम करने के नुकसान, तेजी से वजन घटाने के नुकसान, तेजी से वजन कम करने के प्रभाव, वजन घटाना, वजन घटाने के लिए शॉर्टकट्स, वजन घटाने के शॉर्टकट्स दे सकते है बीमारियां, तेजी से वजन कम करने के हानिकारक प्रभाव, तेजी से वजन कम करने के दुष्परिणाम, ये समस्याएं हो सकती है तेजी से वजन काम करने से, तेजी से वजन कम करना, तेजी से वजन घटाना, जल्द वजन घटाना, अधिक तेजी से वजन कम करना, वजन कम करने के ये है नुकसान

आज के समय में हर कोई किसी ने किसी समस्या से परेशान दिखाई पड़ता है। बच्चा हो या बूढ़ा कोई न कोई बीमारी लगी ही रहती है। जैसे की थाइराइड, डायबिटीज, BP की समस्या और न जाने क्या क्या? इन्ही में से एक समस्या है मोटापे की। जिससे क्या बच्चा और क्या बूढ़ा सभी ग्रसित है। वास्तव में देखा जाए तो ये वर्तमान की सबसे आम और गंभीर समस्या है जिसके कारण शरीर में अन्य रोगों के होने का खतरा भी बना रहता है।

क्योंकि मोटापे के कारण शरीर की इम्युनिटी और विषाणुओं से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है जिसके कारण शरीर अन्य बिमारियों का भी घर बन जाता है। ऐसे में इस मोटापे से छुटकारा पाने के लिए लोग तरह तरह के उपायों का प्रयोग करने लगते है। आज भी ऐसे बहुत डॉक्टर या संस्थाएं है जो एक हफ्ते में 5 किलो एक महीने में 10 किलों वजन कम करने जैसी बेतुकी बातों का समर्थन करते है और लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते है।

लोग भी तेजी से अपने वजन कम करने की लालच में इनके झांसे में आ जाते है। जबकि वास्तव में उनका वजन कम नहीं होता। क्योंकि खाना छोड़ देने से या दिन भर चलते रहने से वजन कम नहीं होता बल्कि सही भोजन और उचित व्यायाम करने से होता है।

माना वजन घटाने के शॉर्टकट्स तरीके बेहद आकर्षक होते है लेकिन इनके कारण क्रैश डाइट लेने या अन्य उपाय करने से आपकी सेहत को नुकसान हो सकता है। इसीलिए तेजी से वजन घटाना स्वस्थ नहीं है। आगे हम आपको तेजी से वजन घटाने के कुछ नुकसान बताने जा रहे है जिन्हे जानकर आप कभी भी तेजी से वजन कम करने के बारे में सोचेंगे भी नहीं!

तेजी से वजन काम करने के होते है ये नुकसान :-

1. मेटाबोलिज्म कम हो सकता है :

एक्सपर्ट्स के द्वारा किए अध्ययन से पता चला है की तेजी से वजन घटाने पर आपका मेटाबोलिज्म रेट 14 दिनों के अंदर 86 फीसदी तक कम हो सकती है। बता दें, बॉडी में कैलोरी बर्न करने के लिए मेटाबोलिज्म रेट का अधिक होना भी जरुरी है जितनी अधिक मेटाबोलिज्म रेट होगी उतनी अधिक कैलोरी बर्न होगी। परन्तु बहुत तेजी से वजन कम करने पर थाइराइड हॉर्मोन (t3) का उत्पादन कम, होने लगता है जो मेटाबोलिज्म को नियंत्रित करता है। ऐसे में तेजी से वजन घटाना आपके लिए हानिकारक हो सकता है।

2. त्वचा ढीली हो जाती है :

हमारी त्वचा में पल्स्टिक फाइबर होते है जो त्वचा को विस्तार और सिकुड़ने में मदद करते है। परन्तु जब आप बहुत तेजी से वजन घटाने लगते है तो त्वचा उस हिसाब से नहीं सिकुड़ पाती जिसके कारण आपको त्वचा में ढीलापन महसूस होने लगता है। अनुसंधान से पता चला है की लोचार फाइबर के नुकसान के कारण वजन घटाने वाले व्यक्तियों की त्वचा अधिक कमजोर होजाती है। तो अपनी त्वचा को ठीक करने के लिए उसे थोड़ा समय देना होगा।

3. मांसपेशियों को हानि :

जब आप बहुत समय तक वजन घटाने के सही तरीकों का पालन करते तो आपके वजन का 75 फीसदी फैट कम हो जाता है। लेकिन जब आप कैलोरी न्यूनतम करके कैलोरी बर्न करते है, तो आपका शरीर आवश्यक ऊर्जा प्राप्त करने के लिए आपकी मांसपेशियों को ब्रेक डाउन करने लगता है। रिसर्च में पाया गया है की स्वस्थ तरीके से वजन कम करने की तुलना में तेजी से वजन कम करने में लगभग 3 गुना मांसपेशियों को खोना पड़ता है।

4. लीवर को नुकसान :

तेजी से वजन कम करने पर हमारे लीवर पर भी प्रभाव पड़ता है। इतना ही नहीं लीवर फेलियर की समस्या होने की संभावना भी बनी रहती है। हाल ही में शोधकर्ताओं ने कम कैलोरी डाइट लेने और तेजी से वजन कम करने पर अध्यन किया है। जिसमे पाया गया की जिन लोगों में एक हफ्ते में 116 किलो से अधिक वजन कम कर लिया था उनमे से 24 फीसदी लोग आइए थे जिनमे अधिक वजन घटाने के कारण फाइब्रोसिस का खतरा देखा गया।

5. दिल पर प्रभाव :

क्रैश डाइटिंग और तेजी से वजन कम करने से दिल की धड़कन, हृदय का तनाव और हृदय संबंधी अन्य समस्यायों का खतरा भी बढ़ जाता है। वैज्ञानिकों के अध्यन में पता चला है की तेजी से वजन कम करने वाले लोगों को एथेरोसलेरोसिस और अन्य प्रकार के हृदय रोग का खतरा अधिक होता है। यह भी ज्ञात हुआ की अत्यधिक प्रकार की डाइट लेने से कोलेस्ट्रॉल लेवल भी प्रभावित होता है जिससे दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है।

एक सप्ताह में कितना वजन घटाना चाहिए?

विशेषज्ञों की माने तो वजन घटाने के जोखिमों से बचने के लिए प्रत्येक सप्ताह 0.5 से लेकर 1 kg वजन कम करना उचित होता है। इससे आपके स्वास्थ्य पर कोई नकारत्मक प्रभाव भी नहीं पड़ता। और आप स्वस्थ तरीके से वजन कम करते है।

तेजी से वजन कम करने के और भी दुष्परिणाम है :

बहुत अधिक तेजी से वजन करने से थकावट, सर दर्द, चिड़चिड़ापन, चक्कर आना, बाल झड़ने जैसी समस्याओं के साथ साथ अनियमित माहवारी की समस्या भी हो सकती है।

इसीलिए हमेशा स्वस्थ और सही तरीके से ही वजन कम करना चाहिए। ताकि आपके शरीर को किसी तरह का कोई नुकसान न हो।

Leave a comment