नोर्मल डिलीवरी के लिए क्या खाएं

नोर्मल डिलीवरी के लिए क्या खाएं
0

नोर्मल डिलीवरी

ज्यादातर महिलाएं चाहती है की उनका शिशु हष्ट पुष्ट व् तंदरुस्त हो लेकिन नोर्मल डिलीवरी से, क्योंकि नोर्मल डिलीवरी के बाद महिला को जल्दी रिकवर होने में मदद मिलती है। लेकिन यह किसी के लिए भी बता पाना मुश्किल होता है की गर्भवती महिला की डिलीवरी नोर्मल होगी या सिजेरियन। क्योंकि यह पूरी तरह से गर्भवती महिला की शारीरिक स्थिति पर निर्भर करता है। यदि महिला प्रेगनेंसी के दौरान स्वस्थ रहती है, खान पान का अच्छे से ध्यान रखती है, गर्भ में शिशु का विकास बेहतर तरीके से होता है, तो महिला की नोर्मल डिलीवरी के चांस को बढ़ाने में मदद मिलती है। जबकि यदि प्रेगनेंसी में कॉम्प्लीकेशन्स हो तो डॉक्टर्स सिजेरियन डिलीवरी के लिए भी बोल सकते हैं। ऐसे में यदि महिला नोर्मल डिलीवरी चाहती है तो इसके लिए गर्भवती महिला को अपने स्वास्थ्य का बेहतर तरीके से ध्यान रखना चाहिए।

नोर्मल डिलीवरी के लिए क्या खाएं

यदि आप गर्भवती है और नोर्मल डिलीवरी चाहती है, तो नोर्मल डिलीवरी के चांस को बढ़ाने के लिए गर्भवती महिला को अपनी डाइट में कुछ खास खाद्य पदार्थो को शामिल करना चाहिए। जिससे नोर्मल डिलीवरी होने में मदद मिल सके, तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की महिला को नोर्मल डिलीवरी के लिए किन चीजों का सेवन करना चाहिए।

संतरा

संतरे में पानी की मात्रा अधिक होती है जो गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु दोनों के लिए फायदेमंद होती है। साथ ही इसके विटामिन सी की अधिकता होने के कारण यह इम्युनिटी को बढ़ाने में मदद करता है, जिससे प्रेगनेंसी के दौरान महिला को स्वस्थ रहने में मदद मिलती है। और महिला और शिशु का स्वस्थ होने नोर्मल डिलीवरी के लिए बहुत जरुरी होता है, साथ ही संतरे का सेवन करने से शिशु की त्वचा को खूबसूरत बनाएं रखने में मदद मिलती है।

कम वसा वाला मीट

आयरन से भरपूर कम वसा के मीट का सेवन यदि गर्भवती महिला करती है, तो इससे बॉडी में हीमोग्लोबिन की मात्रा को भरपूर रखने में मदद मिलती है। जिससे गर्भवती महिला को स्वस्थ रहने, एनीमिया से बचाव करने, शिशु तक खून की मात्रा की पर्याप्त पहुंचाने में मदद मिलती है। साथ ही आयरन का भरपूर मात्रा में बॉडी में होना डिलीवरी के दौरान आने वाली परेशानियों को कम करने में मदद करता है जिससे महिला के नोर्मल डिलीवरी के चांस बढ़ते हैं। इसके अलावा अन्य आयरन युक्त आहार जैसे की गाजर, अनार, पालक व् अन्य हरी सब्जियों का सेवन भी भरपूर करना चाहिए क्योंकि इनमे भी आयरन व् अन्य मिनरल्स भरपूर मात्रा में होते है।

देसी घी

प्रेगनेंसी के आखिरी महीने में गर्भवती महिला को घी का सेवन भी भरपूर मात्रा में करना चाहिए, क्योंकि घी का सेवन करने से महिला को स्वस्थ रहने और शिशु का विकास बेहतर तरीके से होने में मदद मिलती है। साथ ही इसके कारण गर्भाशय में संकुचन को बढ़ाने, और गर्भाशय की सतह को चिकनी होने में मदद मिलती है जिससे नोर्मल डिलीवरी के चांस बढ़ाने में मदद मिलती है।

शकरगंद

नोर्मल डिलीवरी के लिए शकरगंद का सेवन करना भी एक बेहतरीन उपाय है, क्योंकि इसमें बीटा कैरोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जो बॉडी में जाने के बाद विटामिन ए में बदल जाता है। और विटामिन ए का बॉडी में भरपूर होना भ्रूण के बेहतर विकास और गर्भवती महिला को फिट रखने के लिए बहुत जरुरी होता है। ऐसे में यदि गर्भवती महिला शकरगंद का सेवन भरपूर मात्रा में करती है तो इससे महिला के नोर्मल डिलीवरी होने के चांस को बढ़ाने में मदद मिलती है।

अंडे

मिनरल्स, विटामिन, प्रोटीन, कैलोरी, फैट भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जो गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु को स्वस्थ रखने में मदद करता है। ऐसे में गर्भवती महिला को नियमित कम से कम दो अंडो को अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए, जिससे महिला को स्वस्थ रहने के साथ सामान्य प्रसव के चांस को बढ़ाने में मदद मिल सके।

ब्रोकली

विटामिन बी 9, विटामिन सी, कैल्शियम, फाइबर युक्त ब्रोकली का सेवन करने से प्रेग्नेंट महिला को पेट सम्बन्धी समस्या से राहत मिलने के साथ फिट रहने में भी मदद मिलती है। साथ ही ऐसा भी माना जाता है की प्रेगनेंसी के दौरान ब्रोकली का सेवन करने से नोर्मल डिलीवरी होने के चांस को बढ़ाया जा सकता है।

पालक

आयरन, कैल्शियम व् अन्य पोषक तत्वों से भरपूर पालक का सेवन करने से गर्भवती महिला के शरीर में खून की कमी को पूरा करने के साथ महिला को फिट रखने में भी मदद मिलती है, जिससे गर्भवती महिला के सामान्य प्रसव के होने के चांस बढ़ सकते हैं। गर्भवती महिला सलाद, सब्ज़ी, सूप आदि के रूप में स्वादानुसार इसका सेवन कर सकती है।

केला

केले का सेवन करने से गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु को भरपूर मात्रा में फोलिक एसिड और ऊर्जा मिलती है। और महिला का ऊर्जा से भरपूर रहना डिलीवरी के दौरान आने वाली परेशानियों को कम करता है जिससे नोर्मल डिलीवरी के चांस को बढ़ाने में मदद मिलती है।

पानी

यदि गर्भवती महिला चाहती है की उसकी डिलीवरी नोर्मल हो तो इसके लिए महिला को अपने शरीर में पानी की कमी नहीं होने देनी चाहिए। पानी का शरीर में भरपूर मात्रा में होने शिशु और गर्भवती महिला दोनों के लिए बेहतर होता है, और इससे सामान्य प्रसव के चांस को भी बढ़ाया जा सकता है।

तो यह हैं कुछ खाद्य पदार्थ जिनका सेवन यदि गर्भवती महिला करती है तो इससे नोर्मल डिलीवरी के चांस को बढ़ाने में मदद मिलती है। इसके अलावा महिला को अपने स्वास्थ्य को सही रखने के लिए हल्का व्यायाम करना चाहिए, तनाव नहीं लेना चाहिए, समय पर जांच करवानी चाहिए, इन्फेक्शन से बचाव करना चाहिए, आदि। क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान महिला जितना इन सभी परेशानियों से बची रहती है उतना ही नोर्मल डिलीवरी के चांस को बढ़ाने में मदद मिलती है।