Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

बिस्तर पर पेशाब करने के ये कारण होते हैं!

0

बचपन में बच्चों का बैड पर पेशाब करना आम बात होती है, और ऐसा हर एक बच्चा करता है, लेकिन चार या पांच साल तक के बच्चे या उससे अधिक उम्र होने पर भी यदि आपका बच्चा बैड पर पेशाब करता है तो इस बात को आपको गंभीरता से लेना चाहिए, एक तो यह अच्छी आदत नहीं है, साथ ही इसके कारण बच्चे को बीमारियों से भी खतरा रहता है, इसके अलावा बच्चे दिन भर कुछ न कुछ खाते रहते है, कभी ठंडा तो कभी गरम और रात को कई बार तो खाना खाते खाते ही सो जाते है, जिसके कारण नींद में उन्हें पता भी नहीं चलता है की वो बीच में पेशाब कर रहे है, लेकिन इसे अनदेखा न करते हुए आपको बच्चे को समय से खाना खिलाना चाहिए और साथ ही सोने से पहले बच्चे को हमेशा पेशाब भी करवाना चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें:- क्या आपके बच्चे की तभी तबियत हमेशा खराब रहती है?

यूरिन

बच्चे के बीच में पेशाब करने के बहुत से कारण हो सकते हैं, जैसे की बच्चे को डर लगना, बच्चे का हमेशा अधिक ठन्डे भोजन का ही सेवन करना, पेट से जुडी कोई परेशानी होना, आहार में लापरवाही होना, आदि, लेकिन यह समस्या कोई ऐसी नहीं है की जिसका कोई समाधान न हो, बल्कि आप कुछ घर पर ही आसान तरीको का इस्तेमाल करके इस समस्या से निजात पा सकते हैं, साथ ही यदि इनसे भी आपको हल न मिलें तो इस बारे में आपको डॉक्टर से भी राय लेनी चाहिए, तो आइये आज हम आपको विस्तार से बताते है की बच्चे के बैड पर पेशाब करने के कौन कौन से कारण हो सकते है, और साथ ही इससे बचने के लिए कुछ आसान समाधान भी आपको बताते हैं।

बच्चे के बिस्तर पर पेशाब करने के कारण:-

अधिक ठन्डे पदार्थो का सेवन करने के कारण:-

जो बच्चे दिन में अधिक ठन्डे भोजन या अन्य चीजों का सेवन करते है, उन्हें बार बार पेशाब आता है, जिसके कारण रात को सोते समय भी ऐसा होता है, और जब वो सो जाता है तो उसके बाद न उठने के कारण सोते सोते बैड पर ही पेशाब कर देता है।

पेट में कीड़े होने के कारण:-

जिन बच्चों के पेट में कीड़े होते है, वो भी इस तरह रात को सोते समय बैड पर पेशाब कर देता है, क्योंकि इसके कारण उनकी पाचन क्रिया पर भी असर पड़ता है, और साथ ही पेट में भी दिक्कत हो जाती है, जिसके कारण वो रात को सोते समय बैड पर पेशाब कर देते हैं।

पेशाब की नली से जुडी समस्या होने पर:-

जिन बच्चों को पेशाब की नली से जुडी बिमारी होती है, उन्हें भी ये समस्या हो सकती है, साथ ही बच्चों के मूत्राशय का आकार कम होने के कारण यदि आप रात को सोते समय उन्हें पेशाब नहीं कराते हैं तो वो नली भर जाती है जिसके कारण बच्चों के रात को सोते समय बैड पर पेशाब करने की समस्या से आपको परेशान होना पड़ सकता है।

बच्चे को देरी से भोजन देने के कारण:-

बच्चे को उसके सोने से कम से कम एक से दो घंटे पहले भोजन करवा देना चाहिए, यदि आप उसे खाना खाने के तुरंत बाद सुला देते है, तो ऐसा करने के कारण भी आपका बच्चा रात को सोते समय बैड पर पेशाब कर देता है।

इन्ह भी पढ़ें:- क्या आपके बच्चे को कार्टून देखने की लत लग गई है? 

ज्यादा खेल कूद करने के कारण:-

playing child

कुछ बच्चे दिन के समय बहुत अधिक खेल कूद करते हैं, जिसके कारण बाद में वो बुरी तरह से थक जाते हैं, और खाना खाते ही सो जाते है, थकावट के कारण भी कई बार वो रात को सोते समय बैड पर पेशाब कर देता हैं।

डर लगने के कारण:-

कई बच्चे जो डर जाते है, या नींद में कोई बुरा सपना देख लेते है, तो वो भी बीच में बैड पर पेशाब कर देते हैं, इसीलिए रात को सोते समय बच्चे को जितना हो अकेला नहीं छोड़ना चाहिए, और न ही टीवी आदि में कोई डरावनी चीज दिखानी चाहिए।

बिस्तर पर पेशाब की समस्या से निजात पाने के कुछ उपाय:-

  • रात को सोने से पहले अजवाइन के चूर्ण की लगभग पचास ग्राम की मात्रा में लेकर बच्चे को उसका सेवन करवाएं कुछ ही दिनों में बच्चे को इस परेशानी से राहत मिलती है।
  • तिल और गुड़ का सेवन बच्चे को करवाने से आपको बच्चों की इस समस्या को खत्म करने में मदद मिलती है, आप चाहे तो इनके साथ थोड़ा अजवाइन का चूर्ण भी मिला सकती है।
  • सूखे आंवले को अच्छे से पीस लें, उसके बाद कपडे की मदद से उसे छान लें, उसके बाद बारीक चूर्ण अलग हो जाएगा, दिन में दो बार सुबह शाम तीन ग्राम आंवले के चूर्ण को एक चम्मच शहद के साथ बच्चे को खिलाने से बच्चे बिस्तर पर पेशाब करना बंद कर देते हैं।
  • दस ग्राम की मात्रा में काला जीरा, आंवला, और मिश्री, को बराबर मात्रा में लेकर पीस लें, और सुबह शाम दो दो ग्राम चूर्ण बच्चे को पानी के साथ दें, बच्चे को इस परेशानी से राहत मिलती है।
  • बच्चे को नियमित मुनक्के का सेवन करवाने से भी आपको फायदा मिलता है।
  • जामुन की गुठलियों को सुखाकर उन्हें अच्छे से पीस लें, उसके बाद उसका चूर्ण तैयार करें, अब इस चूर्ण को दिन में दो बार पानी के साथ बच्चे को दें, बच्चे की आदत से छुटकारा पाने में आपको मदद मिलेगी।
  • दो अखरोट के साथ बीस किशमिश का सेवन बच्चे को नियमित रूप से करवाएं बच्चे को फायदा मिलेगा।
  • एक पाव दूध में दो छुहारे डालकर अच्छे से उबाल लें, उसके बाद इस दूध को ठंडा होने के लिए रख दें, उसके बाद इसमें से छुहारे को निकाल कर इसका सेवन बच्चे को करवाएं, और दूध को हल्का गुनगुना करके वो भी बच्चे को पीला दें, कुछ ही दिनों में आपको फ़र्क़ दिखाई देने लगेगा।
  • रात को सोते समय यदि आप बच्चे को शहद का सेवन करवाते हैं तो भी बच्चे की ये आदत धीरे धीरे छूट जाती है।
  • दो मुनक्के के बीज निकालकर उसमे दो काली मिर्च मिलाएं, और पानी के साथ बच्चे को दें, ऐसा नियमित दो हफ़्तों तक करने के बाद ही आपको फ़र्क़ दिखाई देने लगता है।

तो ये कुछ कारण है जिनकी वजह से बच्चा बैड पर पेशाब कर देता है, इसके अलावा आपको हमने कुछ उपाय भी बताएं हैं जिनका इस्तेमाल करके आप इस समस्या से निजात पा सकते है, लेकिन यदि आपका बच्चा पांच साल से ऊपर का हो गया है और फिर भी वो रात को सोते समय बिस्तर पर पेशाब कर देता है, तो यह उसके लिए हानिकारक और बिमारी का कारण हो सकता है, इससे बचने के लिए आपको एक बार डॉक्टर से भी राय जरूर लेनी चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें:- बच्चे को स्ट्रांग (Healthy child) बनाने के लिए क्या-क्या खिलाएं

Leave a comment