हिंदी में जानकारी

अनियमित माहवारी (पीरियड) के कारण और उपाय जानें

0 49

बहुत सी लड़कियों और महिलाओं में अनियमित माहवारी (पीरियड) सही टाइम पर न आने की एक आम समस्या होती है और इसलिए वह तनाव में आ जाती है।लेकिन इस समस्या से आप अकेली नहीं है,आप ही की तरह लाखो महिलाये इस समस्या से जूझ रही है। इसलिए आपको टेंशन या परेशान होने की कोई आवश्यकता नहीं है। बल्कि इस समस्या का सही इलाज करने से आपकी यह समस्या ठीक हो सकती है। हम आपको सही समय पर पीरियड आने के ऐसे सरल उपाय और घरेलू नुस्खे बतायेगे जिनका उपयोग करके आप पीरियड की इस समस्या से निजात पा सकते है।

मासिक धर्म का नियमित न होने या कभी जल्दी या कभी देर से होना और खून के थक्को के साथ आना ऋतुस्त्राव का अनियमित होना कहलाता है। मासिक धर्म हर एक २८ दिन के अंतराल में लगभग ४५ से ५० वर्ष की उम तक होता रहता है। यह 3 दिनों से लेकर ६ दिनों तक के समय के लिए होता है।महिलाओ को अनेक रोगो के साथ कमर में बहुत पीड़ा सिर दर्द व उलटी आदि लक्षण होते है। मासिक धर्म में अनिमियता आना तब तक एक सामान्य बात माना जाता है जब आपके पीरियड चालू होने वाले होते है। क्योकि शुरूआती पीरियड मिस हो जाते है जिसका कारण हार्मोनल इम्बैलेंस होता है। यह अनिमियता कुछ साल तक यूँ ही बनी रहती है लेकिन थोड़े समय बाद यह स्वयं ठीक हो जाती है।

मासिक धर्म नियमित रूप से न होना कोई बड़ी समस्या नहीं है और ज्यादातर ऐसा होने पर आपको कोई नुकसान भी नहीं होता। लेकिन डॉक्टर की सही सलाह लेना अनिवार्य है क्योकि कई बार ऐसा होने के पीछे कोई बड़ी स्वास्थ्य समस्या हो सकती है।

मासिक धर्म सही समय पर न होने के कारण

  • मानसिक तनाव या ज्यादा चिंता करने पर।
  • वजन घटना या बढ़ जाना।
  • खानपान सही न होना।
  • ज्यादा सफर करने से।
  • नियमित रूप से पोषक तत्वों को अपने भोजन में शामिल न करना।
  • हार्मोन्स इम्बैलेंस होने के कारण।
  • कॉफी,स्मोकिंग या अन्य प्रकार के नशो का सेवन करना।
  • प्रेग्नेंसी के समय ,बच्चे के जन्म के बाद या गर्भपात होने पर।
  • धूम्रपान और नशीली चीजों का सेवन न करे।
  • अगर आप ज्यादा दवाइयों का भी सेवन करते है तो आप मासिक धर्म में परेशानी होती है।
  • स्वास्थ्य सम्बन्थी समस्याये जैसे लिवर की खराबी, शुगर व् एनीमिया होने पर।

इन कारणों के आलावा पोएसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम जो की एक स्वास्थ्य समस्या है, इसके लिए आप डॉक्टर की सलाह ले सकते है। यह समस्या हमारी खराब जीवनशैली के कारण उतपन्न होती है। यह न केवल मासिक धर्म को अनियमित करती है बल्कि हार्ट प्रोब्लेम्स,डायबिटीज,थॉयरड बाँझपन आदि समस्या को भी जन्म देती है।गुप्तांगो में होने वाले रोग भी मासिक धर्म में देरी या मिस होने का मुख्य कारण होते है। इसलिए डॉक्टर की सलाह से इस समस्या का पूर्ण निदान करवाना चाहिए।

पीरियड अनियमित होने के कारण

शरीर में बहुत ज्यादा आलस्य,खून की कमी, माहवारी के समय ठंडी चीजों का सेवन, पानी में देर तक रहना,ज्यादा घूमना,ठण्ड लगना,मानसिक उद्वेग व मासिक धर्म के समय खाने-पीने में असावधानी आदि। इन सभी कारणों से मासिक धर्म रुक जाता है या समय पर नहीं होता। जिसके कारण आप अक्सर तनाव में रहते है।

पीरियड अनियमित होने की पहचान कैसे करे

अगर आपको निम्नलिखित समस्याएं रहती है तो आप समझिये की आपको माहवारी नियमित नहीं होगी

  • गर्भाशय या पेडू में दर्द होना
  • उलटी, स्तनों में दर्द, कब्ज
  • दूध कम निकलना
  • भूख न लगना
  • दिल का ज्यादा धड़कना
  • साँस लेने में तकलीफ होना
  • कान में तरह तरह की आवाजे सुनाई देना।
  • ठीक से नींद न आना।
  • आपको शरीर में जगह -जगह दर्द का अनुभव होना।
  • मानसिक तनाव में जल्दी आ जाना।

यह सभी कारण मासिक धर्म के अनियमित होने के कुछ प्रमुख लक्षण है। इनके द्वारा आप मासिक धर्म अनियमित होने के कारणों का पता लगा सकते है।

period

मासिक धर्म को ठीक व नियमित करने के कुछ नुस्खे

  • २-३ ग्राम कालीमिर्च का चूरन शहद के साथ सेवन करने से मासिक धर्म ठीक होता है।
  • दुब के रस का सेवन एक चम्मच रोज सुबह करने से रुकी हुई माहवारी ठीक होती है।
  • केसर के दूध का सेवन करने से मासिक धर्म अच्छे से आना शुरू हो जाता है।
  • शिलाजीत के उपयोग से मासिक धर्म ठीक होता है।
  • गाजर का सेवन करने से मासिक धर्म ठीक तो होता है है लेकिन इसके साथ-साथ आपकी सेहत भी दरुस्त रहती है।
  • दालचीनी,शहद और यष्टिमधु का सेवन करने से माहवारी में आराम होता है।
  • बथुए के बीज का चूरन सोंठ के साथ लेने से मासिक धर्म ठीक होता है।
  • शहद के साथ पुदीने का चूरन लेने से आपको आराम मिलेगा।
  • अखरोट,अंजीर,पालक और चकुंदर का प्रयोग करने से मासिक धर्म ठीक होता है।
  • १० ग्राम टिल,२ ग्राम कालीमिर्च,दो छोटी पीपल तथा थोड़ी सी शक्कर लेकर इसका काढ़ा बनाकर पीने से मासिक धर्म अच्छे से होता है।
  • कच्चे पपीते की सब्जी बनाकर खाने से मासिक धर्म में आराम मिलता है।
  • एलोवेरा का रस दो चम्मच खली पेट पीने से मासिक धर्म में देरी होने वाली समस्या से छुटकारा मिलता है।
  • ३ ग्राम तुलसी की जड़ का चूरन शहद के साथ सेवन करने से मासिक धर्म ठीक होता है।
  • ५० ग्राम सॉंठ,५० ग्राम गुड़,५ ग्राम बायबिडंग और ५ ग्राम जौ को लेकर इन सब को मोटा पीस ले। एक गिलास पानी लेकर इन सब को पानी में डालकर उबाल ले, जब पानी आधा रह जाये तब आप इस पानी को पी ले। इसके सेवन से मासिक धर्म खुल कर आता है।
  • बरगद की जटा,मेथी और कलोंजी को ३ ग्राम लेकर मोटा व दरदरा पीस ले। आधा किलो पानी में डालकर इसका काढ़ा बनाये। जब पानी आधा रह जाये तब इसे छानकर पी ले। ऐसा करने से आपके मासिक धर्म में कोई रूकावट नहीं होगी।
  • प्याज का सूप एक कप ले उसमे थोड़ा सा गुड़ डालकर इसे पी ले। इसका सेवन करने से आपका रुका हुआ मासिक धर्म ठीक हो जाएगा।
  • आपको क्रोध, तनाव , भय व अधिक भूखे-प्यासे रहने से बचना चाहिए। ताकि मासिक धर्म आपको नियमित रूप से आये।
  • मासिक धर्म के दौरान सफाई आदि का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

अगर आप सम्पूर्ण आहार नहीं लेते तो आपका शरीर स्वस्थ नहीं रहता और उसमे कई प्रकार की बीमारिया होने लगती है। इस प्रकार जब महिलाये अपने व्यस्त सेडुल के कारण पूरा आहार नहीं लेती है तो भी उनको ये परेशानी हो सकती है। क्योकि यदि आपके आहार में पौष्टिक तत्वों की कमी होगी और जंक फ़ूड ज्यादा होग़ा तो भी आपको संपूर्ण आहार नहीं मिल पायेगा। इसलिए जैसा आपका आहार होगा वैसे ही आपका शरीर होग़ा, इसलिए पौष्टिक तत्वों का सेवन करने से आपका स्वास्थ्य अच्छा और स्वस्थ रहेगा।

इन घरेलू नुस्खों से आपकी मासिक धर्म की समस्या ठीक हो जायेगी और आप की सेहत में भी सुधार होगा जोकि एलोपैथिक मेडिसिन्स लेने से नहीं होता। इनका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता इसलिए आप इन्हे आसानी से उपयोग कर सकते है। ताकि आप अपनी मासिक धर्म की इस समस्या से छुटकारा पा सके।

Symptoms of Irregular Periods, irregular periods reason, causes of irregular menstruation and solution, how to get regular periods naturally