क्यूँ होते हैं असमय बाल सफ़ेद? जानें वजह और उपचार! 

बढ़ती उम्र के साथ बाल सफेद होना आम बात है, लेकिन आजकल कई लोग कम उम्र में ही सफेद बालों की प्रॉब्लम का सामना कर रहे हैं। आजकल 20 से 30 वर्ष के युवाआयु में ही लोगों के बाल सफ़ेद होना शुरू हो गए हैं। बालों का सफ़ेद रंग होना ऐसे तो कोई बड़ी बीमारी नहीं है पर क्योंकि बालों के पकने के कारण लोग अन्य लोगों केसामने जाने से डरते हैं और मानसिक रूप से परेशान हो जाते हैं। असमय बाल सफ़ेद होने की बीमारी को Vitiligo कहते हैं, इसमें त्वचा और बालों की पिग्मेंट बनानेवाली कोशिकाएँ क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, इसकी वजह से मेलेनिन नामक पिग्मेंट बनना कम हो जाता है और बाल सफ़ेद होने लगते हैं।

असमय बाल सफ़ेद होने की कई सारी वजहें हो सकती हैं। आजकल प्रदूषण, रसायन युक्त प्रॉडक्ट्स, मानसिक तनाव, दवाइयों की वजह से कम उम्र में ही कुछ लोगों केबाल पकने लग जाते हैं यानि बाल सफेद हो जाते हैं। इन सफेद बालों को छुपाने के लिए लोग हेयर कलर का इस्तेमाल करने लगते है, जो की रसायन युक्त होता है औरइससे बाल और ज्यादा सफेद हो जाते हैं।

इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे कि बालों को असमय सफ़ेद होने से कैसे रोका जा सकता है। पर उससे पहले हम जानेंगे की बाल सफ़ेद होने की वजह क्या होती हैं।

असमय बाल सफ़ेद होने के कारण :- 

1. अनुवांशिक –

अगर आपके माता या पिता में से किसी के बाल युवा आयु में ही सफ़ेद हो गए थे, तो आपके बाल भी युवा आयु में ही जल्द सफ़ेद होने की संभावनाअधिक रहती है। आपके जींस यह निर्धारित करते हैं कि आपके बालों में से Melanin तत्व कब कम होगा और इसी वजह से आपके बाल भी जल्द सफ़ेद हो जाते हैं।

2. थाइरोइड – असमय बालों का सफ़ेद होना

थाइरोइड ग्रंथि का ज़्यादा सक्रिय होना या कम सक्रिय होना मेलेनिन पिग्मेंट उत्पादन को प्रभावित करता है, जिससे बाल असमय सफ़ेद हो जाते हैं।

3. विटामिन B12 की कमी

शरीर में विटामिन B12 की कमी होने के कारण बाल असमय सफ़ेद हो जाते हैं।

4. Vitiligo

Vitiligo नामक बीमारी में त्वचा और बालों की पिग्मेंट बनाने वाली कोशिकाएँ क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, इसकी वजह से मेलेनिन नामक पिग्मेंट बननाकम हो जाता है और बाल सफ़ेद होने लगते हैं।

5. तनाव

जो व्यक्ति अधिक समय तक तनाव में रहता है, उनके बाल जल्दी सफ़ेद हो जाते हैं। तनावग्रस्त व्यक्ति के शरीर में बनने वाले हॉर्मोन मेलेनिन बनाने वालीकोशिकाओं को प्रभावित करते हैं, और इससे बालों के रंग पर असर पड़ता है। बाल असमय सफ़ेद होने का यह एक सबसे बड़ा कारण माना जाता हैं। तनाव में रहनेसे शरीर में यह बदलाव होता हैं।

6. आहार

एक शोध में यह जानकारी सामने आई है कि जो युवा आहार में अधिक केमिकल युक्त फ़ास्ट फ़ूड, चटपटा, तला हुआ और मसालेदार भोजन करते हैं,उनके बाल जल्दी सफ़ेद हो जाते हैं। इसके विपरीत पौष्टिक आहार लेने वाले लोगों में यह समस्या कम होती है।

7. पानी

अगर आप नहाने के लिए काफी हार्ड वाटर का इस्तेमाल करते हैं तो इस वजह से भी बाल गिरते है या उनका रंग सफ़ेद हो जाता है।

8. प्रदूषणpremature hair graying

अगर आप ऐसी जगह रहते हैं या कार्य करते हैं, जहाँ अधिक प्रदूषण है तो हवा में मौजूद खतरनाक केमिकल का विपरीत परिणाम आपके शरीर के साथसाथ आपके बालों पर भी होता हैं। प्रदूषित पानी से स्नान करने से भी आपके बालों को नुक़सान हो सकता है।

9. सौन्दर्य उत्पाद

आजकल शैम्पू, तेल, कंडीशनर, जेल इत्यादि कई केमिकल युक्त सौंदर्य उत्पाद का लोग इस्तेमाल करते हैं। बालों को कोई खास स्टाइल या रंगबदलने के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले इन केमिकल के कारण भी बालों पर विपरीत असर पड़ता है और बालों का रंग सफ़ेद हो जाता हैं।

बालों को सफ़ेद होने से बचाने के लिए ख़्याल रखें इन बातों का

-> पौष्टिक आहार लें। अपने भोजन में फल, साबुत अनाज, दालें, हरी पत्तेदार सब्ज़ियाँ और दूध को शामिल करें।

-> आँवला खाएँ, इसमें विटामिन C प्रचुर मात्रा में होता है। नियमित रूप से इसका सेवन करने से सम्पूर्ण शरीर को लाभ होता है। ऐसा माना जाता है कि आँवले केसेवन से बाल स्वस्थ, सुंदर और काले होते हैं। कड़ी पत्ते के साथ छाछ

-> गर्मी के मौसम में छाछ पीना सम्पूर्ण शरीर के लिए लाभदायक होता है। अगर आप छाछ के साथ कड़ी पत्ते भी लेते हैं तो इससे बालों को अधिक लाभ होता है।

-> रोजाना सुबह या दोपहर के समय दही खाना भी आपके बालों के स्वास्थ्य के लिए लाभकारी है।

-> अपने रोज़ के आहार में कड़ी पत्ते को शामिल करें, बालों का असमय सफ़ेद होना रुक जाएगा।

बालों को सफ़ेद होने से रोकने के लिए कुछ घरेलु नुस्खे और आयुर्वेदिक उपाय – 

✓  कड़ी पत्ता नारियल के तेल में कड़ी पत्ते को अछी तरह उबालें। फिर इस मिश्रण को ठंडा होने पर किसी बोतल में भर के रख लें और सप्ताह में कम से कम दो बारअवश्य लगाएँ।

✓  आँवलाआँवले को काट कर छोटे टुकड़े कर लें और फिर इन टुकड़ों को सुखा दें। अच्छी तरह से सूख जाने पर इन्हें पीस कर इनका पाउडर बना लें। अब इसपाउडर को नारियल के तेल में मिक्स कर लें। सप्ताह में एक या दो बार इसे लगाना लाभकारी होगा।

✓  अश्वगंधा अश्वगंधा और भृंगराज की जड़ें बालों के लिए लाभकारी होती हैं। नारियल के तेल के साथ इनका पेस्ट बनाकर बालों की जड़ों में लगाने से बालों कीजड़ें मजबूत बनती हैं और बाल काले होते हैं। यह पेस्ट लगाने के 1 घण्टे बाद बालों को धो लेना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि अश्वगंधा लगाने से हमारे सिर कीत्वचा में मौजूद मेलेनिन पिग्मेंट का उत्पादन बढ़ जाता है और इससे बालों का रंग काला होता है। स्वास्थ्य के लिए ओलिव आयल के क्या फ़ायदे है

✓  जैतून तेलसप्ताह में एक बार जैतून के तेल से सिर की मालिश करने पर बालों का सफ़ेद होना कम होता है और बाल जड़ से मजबूत बनते हैं।

✓  मेहंदीएक कटोरी हर्बल मेहंदी पाउडर लें, इसमें दो बड़े चम्मच चाय पत्ती का पानी, दो चम्मच आंवला पावडर, एक चम्मच निम्बू का रस, दो चम्मच दही,शिकाकाई व रीठा पावडर, एक अंडा (अगर आप लेना चाहे तो ), आधा चम्मच नारियल तेल व थोड़ा-सा कत्था। यह सब चीजें लोहे की कड़ाही में डालकर पेस्टबनाकर रात को भिगो दें। इसे सुबह बालों में लगाए। फिर दो घंटे बाद धो लें। इससे बाल बिना किसी नुकसान के काले हों जाएँगे। ऐसा माह में कम से कम एकबार अवश्य ही करें।

✓  दही – बालों को काले करने के लिए दही भी बहुत कारगर उपाय है। इसके लिए दही के साथ टमाटर को पीस लें। उसमें थोड़ा-सा नींबू रस और नीलगिरी का तेलमिलाएं। इससे सिर की मालिश सप्ताह में दो बार करें। इससे बाल अभी ही नहीं लंबी उम्र तक काले और घने बने रहेंगे।

✓  आँवलामेहंदी पैक ये तो आपने सुना ही होगा कि आँवला बालों के लिए फायदेमंद होता है।  इसलिए सूखे आंवले को पानी में उबालें। इस पानी को इतना उबालेंकि वह आधा रह जाए। इसमें मेहंदी और नींबू रस मिलाकर बालों पर लगाएं। माना जाता है कि ऐसा करने से असमय बालों का सफेद होना बंद हो जाता है। Kapur ke gun

✓  कर्पूर यानि की कपूर – बालों को सफेद होने से रोकने का एक और तरीका ये है कि 1/2 कप नारियल तेल या जैतून के तेल को हल्का गर्म करें। इसमें 4 ग्राम कर्पूरमिला लें। जब कर्पूर पूरी तरह से घुल जाए तो इस तेल से बालों की मालिश करें। इसकी मालिश हफ्ते में एक बार ज़रूर करें। 

✓  तुरईबालों को काला करने के लिए सब्ज़ियाँ भी बहुत कारगर होती हैं। इसलिए तुरई को काटकर नारियल तेल में तब तक उबालें, जब तक वह काली न होजाए। इस तेल को रोजाना बालों में लगाने से बाल काले हो जाते हैं।

✓  देसी घीसप्ताह में दो या तीन बार शुद्ध देसी घी से सिर की मालिश करके भी बालों को सफ़ेद होने से रोका जा सकता है।

वर्तमान समय में भाग-दौड़ भरी जिंदगी में, बालों की ठीक से देखभाल न हो पाने और प्रदूषण के कारण हमारे बाल असमय ही सफेद हो जाते है। हालांकि बाल तनाव,प्रदूषण, कोई बीमारी या‍ फिर अनुवांशिकता के कारण से भी सफेद हो सकते हैं। बालों को कलर करना इस समस्या का कोई उपचार नहीं हैं। लेकिन आप कुछ घरेलूउपचार आजमा अपने बालों को सफेद होने से अवश्य ही रोक सकते हैं। ऊपर दिए गए नुस्ख़ों को आज़मा कर देखिए, आपको ज़रूर लाभ मिलेगा।