Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

दिवाली की साफ़ सफाई ऐसे करें

0

Diwali Ki Cleaning (Saaf-Safai)

दिवाली की सफाई कैसे करे, घर की सफाई कैसे करे, दिवाली की सफ़ाई कैसे करें, दिवाली की सफाई कैसे की जाती है, दिवाली की सफाई करने का तरीका, दिवाली की सफाई कैसे की जाती है, कैसे करें दिवाली की सफाई, दिवाली की सफाई करने के टिप्स, How to clean our house in diwali, diwali ki safai

दिवाली का पर्व हिन्दुओं के उन पर्वों में से एक है जिसे बड़े पैमाने पर मनाया जाता है। बच्चो से लेकर बूढ़ों तक सभी में इस पर्व का समान उत्साह देखने को मिलता है। और इस समय शायद ही कोई घर ऐसा होता होगा जो साफ़ सफाई नहीं करता होगा। दिवाली एक मात्र ऐसा पर्व है जिसमे लोग काफी दिनों पहले से ही घर की साफ़ सफाई करना शुरू कर देते है। इस समय आप जिसको भी देखते सुनते होंगे वो अपने घर की सफाई कर रहा होता है।

ऐसे तो सभी रोजाना अपने घर की साफ़ सफाई करते है लेकिन इस सफाई की बात कुछ अलग होती है। इसीलिए कुछ लोग इसे स्वच्छता का पर्व भी कहते है। इन दिनों अपना घर ही नहीं अपितु आस पड़ोस, सोसाइटी, गलिया आदि साफ़ सुथरी नजर आती है।

इसीलिए आज हम आपको दिवाली की साफ़ सफाई किस तरह करें और कैसे करें इसके बारे में बता रहे है क्योंकि बहुत से लोग अक्सर यही सोचते है की दिवाली की सफाई में किन चीजों की सफाई करें और किन की नहीं? इसके साथ ही कुछ लोगों की असमंजस सफाई की शुरुआत को लेकर ही बढ़ जाती है। ऐसे में हमारा ये आर्टिक्ल आपकी मदद कर सकता है। तो आइये जानते है दिवाली के समय में अपने घर को साफ़ सुथरा कैसे बनाया जाए?

दिवाली की साफ़ सफाई कैसे करें?

1. कबाड़ हटाएं :

दिवाली एक ऐसा त्यौहार है जब घर के कोने कोने को अच्छे से साफ़ किया जाता है और इस सफाई में कबाड़ निकलना आम बात है। ऐसे में आपका सबसे पहला काम यही होना चाहिए की आप घर में मौजूद पुरे कबाड़ को घर से निकाल दें ताकि घर अच्छे से साफ़ हो सके। इसके अलावा घर में मौजूद फालतू सामन को निकाल दें। जैसे की पुराने कपडे, टूटे बर्तन, प्लास्टिक के खाली टूटे डब्बे कांच का टुटा सामन आदि। और साथ ही अपनी अलमारियों को भी अच्छी तरह से जंचा लें।

2. मकड़ी के जाले :

सामान्य तौर पर घर में मकड़ी के जले लग ही जाते है। आप चाहे जितनी ही साफ़ सफाई क्यों न कर लें इन जालों से पीछा नहीं छुड़ा पाते। परन्तु दिवाली के सफाई में इन्हे हटाना बेहद जरुरी है क्योंकि यदि आप पुरे घर की सफाई करने के बाद जाले हटाएंगे तो घर फिर से गंदा हो जाएगा। इन्हे साफ़ करने के लिए आप जाले हटाने वाली झाड़ू या सामान्य फूल झाडृ की मदद ले सकते है।

3. दीवारे और फर्श :

अक्सर दीवारों और फर्श पर गंदे गंदे पानी के धब्बे बन जाते है जो देखने में बहुत अजीब लगते है। ऐसे में इनकी सफाई करना भी बेहद जरुरी है। इसके लिए आप सूखे कपड़ें का इस्तेमाल कर सकती है जिससे पेंट भी खराब नहीं होगा। अगर आपने घर में plastic imulsion करवाया हुआ है तो गीले कपडे का भी प्रयोग किया जा सकता है। परन्तु अधिक गीले कपडे से चमक खराब हो सकती है। फर्श को साफ़ करने के लिए उसपर सर्फ का पोंछा मारे या पानी से उसकी धुलाई करें। इसे सफाई के सबसे अंतिम चरण में करना अच्छा होता है।

4. धुप :

दिवाली की सफाई के समय आप घर के कबर्ड आदि को भी साफ़ करती है ऐसे में वहां रखें कपड़ें, गद्दों और रजाइयों पर धुप लगाना भी बेहद जरुरी है। ताकि उनमे से आ रही रही लकड़ी की बदबू चली जाए। इससे कपड़ों में मौजूद बैक्टीरिया भी खत्म हो जाए है। इसके लिए कम से कम 1 पुरे दिन या दो दिन कपड़ों में अच्छी धुप लगाएं। बाद में इनमे फिनायल की गोलियां डालकर रख दें। इससे उन में सीलन या लकड़ी की बदबू नहीं आएगी।

5. घर की सेटिंग :

साफ़ सफाई के साथ साथ समान को अपनी जगह पर रखना न भूलें। सफाई करते समय इस बात का ध्यान रखें की कौन सा सामान किस जगह पर रखा है ताकि बाद में उन्हें सही जगह पर रखा जा सके और वे इधर उधर न बिखरा रहे। इसके साथ ही घर के समानों की सेटिंग चेंज करें। बाकी समानों को अच्छे से रखकर उनकी सफाई करें।

6. कपड़ें :

परदे, कुशन चददरें, पायदान, कारपेट आदि को 1 या 2 दिन पहले साफ़ करें। लेकिन एक बात का ध्यान रखें की जब आप बाकी की सफाई कर रही हो तो इन्हे अलग हटाकर रख दें। अन्यथा ये और अधिक गंदे हो सकते हैं। अगर आप नए परदे और कुशन आदि खरीद कर लाएं है तो इन्हे सबसे आखिर में लगाएं।

7. पंखों की सफाई :

घर में पंखे सबसे जल्दी गंदे होते है। इसीलिए इनकी सफाई करवाना भी बेहद जरुरी है। इनकी सफाई करते समय घर के बाकि सामानों पर एक कपडा दाल दें। ताकि उनमे से निकलने वाले धूल मिटटी बाकी सामानों को खराब न कर दें। सफाई के समय घर का मैन स्विच बंद कर दें। इनकी सफाई के लिए सूखे कपडे का प्रयोग करें। पंखुड़ियों को साफ़ करने के लिए आप गीले कपड़ों का इस्तेमाल कर सकती है।

8. रसोई :

दिवाली की सफाई में सबसे अधिक समय और मेहनत किचन की सफाई में ही लगता है। जिसे करने के लिए कम से कम 2 लोगों की आवश्यकता होती है। सफाई के लिए आप किचन के सभी बर्तनों को खाली करके बाहर निकाल लें। किचन की टिलीस और स्लैब को डिटर्जेंट या टाइल्स क्लीनर से साफ़ कर लें। मुश्किल दागों के लिए निम्बू, बेकिंग सोडा या सिरके का इस्तेमाल कर सकते है। बर्तनों के स्टैंड और सभी बर्तनों को साफ़ करने के लिए गर्म पानी का प्रयोग करें। सफाई पूरी होने के बाद सभी को पोंछ कर उनमे सामन भरकर वापस उनकी जगह रख दें। और हां, अंत में सूखे कपडे से फाइनल टच देना न भूलें।

9. दरवाज़े और खिड़कियां :

किचन के बाद घर के सभी दरवाजों, खिड़कियों और फर्नीचर को अच्छी तरह साफ़ कर लें। इसके लिए आप साबुन के पानी का इस्तेमाल कर सकते है। फर्नीचर के लिए हलके गीले कपडे का ही प्रयोग करें। बाद में इन सभी को सूखे कपडे से जरूर साफ़ करें। आप चाहे तो शीशों को अंत में अख़बार से पोंछ सकती है।

10. घर के आस पास :

घर के साथ साथ आस पास के क्षेत्र पर भी सफाई करना जरुरी है। अर्थात वहा कोई गंदगी या कूड़ा करकट नहीं होना चाहिए। अगर ऐसा है तो उसे साफ़ करवा लें। क्योंकि केवल घर साफ़ करने से बात नहीं बनेगी घर के आस पास सफाई करना भी जरूरी है।

11. स्टोर रूम

पुरे घर की सफ़ाई के साथ-साथ स्टोर रूम की सफ़ाई करना भी बेहद जरुरी है क्योकि पुरे घर से अधिक गंदगी इसी कमरे में होती है। स्टोर रूम में घर में पड़ी बेकार वस्तुएं रखी जाती है इसीलिए इसमें सबसे ज्यादा ग्नदगी रहती है। इसी कमरे में मकड़ी के जाले भी मिल सकते है। इसीलिए इस कमरे को भी ठीक से साफ़ कर लें।  सफ़ाई करते समय स्किन, फेस और बालो को ढक कर रखें। ताकि धूल मिटटी आपको नुकसान न पहुँचा सकें।

12. मंदिर की सफ़ाई :-

पुरे घर की सफ़ाई हो जाने के बाद सबसे आखिर में मंदिर की सफ़ाई करें। ये सफ़ाई आप दिवाली के दिन करें तो बेहतर होगा क्योकि इसी दिन सबसे बड़ी पूजा की जाती है। मंदिर की शेल्फ़, सारी पुस्तके और भगवानो की मुर्तिया सभी को अच्छे से साफ़ करके मंदिर में जचा लें। बाद में खुशबु के लिए किसी धूपबत्ती

Leave a comment