Ultimate magazine theme for WordPress.

बीन्स प्रेगनेंसी में खाना क्यों जरुरी है

गर्भावस्था एक ऐसा अहसास है जो न केवल माँ के लिए ख़ास होता या बल्कि पुरे परिवार में खुशिया लाता है। प्रेग्ननसी के दौरान बहुत सावधानी बरतने की जरुरत होती है। घर क सभी बड़े हर समय यही सलाह देते है की क्या खाना चाहीये क्या नहीं खाना चाहीये। प्रेग्नन्सी में सिर्फ माँ का ही नहीं बल्कि गर्ब में पलने वाले बच्चे का भी ध्यान रखना होता है।ऐसे में अक्सर डॉक्टर आयरन और कैल्शियम एनरिचेड खाना खाने की सलाह देते है। आइये हम जानते है प्रेगनेंसी में कौनसी ऐसी चीज़ है जो खाने से सभी पोषक तत्व मिलते है। बीन्स एक ऐसी सब्जी है जो रेगुलर खाने से सभी पोषक तत्व मिलते है। बीन्स को गर्भवस्था में खाने के फायदे।

  • कैल्शियम की कमी से माँ और बच्चे दोनों की हड्डिया कमजोर हो सकती है, ऐसे में हमें कैल्शियम से भरपूर डाइट लेनी चाहिए। बीन्स में कैल्शियम होता है , प्रेगनेंसी में इसे खाने से माँ और बच्चे दोनों के कैल्शियम की कमी पूरी होती है।
  • बीन्स का हफ्ते में ३-४ बार सेवन करने से गर्ब में पलने वाले बच्चे का हार्ट पूरी तरह विकसित होता है।
  • प्रेगनेंसी के दौरान अक्सर महिलाओ को डायबिटीज की प्रॉब्लम हो जाती है, बीन्स को हर दो दिन के अंतराल पर खाने से डायबिटीज जैसी बीमारी से सुरक्षा भी मिलती है। जी है बीन्स डायबिटीज जैसे बीमारी के लिए बहुत ही उपयोगी है।
  • प्रेगनेंसी में बच्चे और माँ दोनों में आयरन की कमी हो जाती है। बीन्स में ५% तक आयरन होता है, जिसे खाने से माँ और बच्चे दोनों की आयरन की कमी पूरी होती है।
  • बीन्स में विटामिन-सी २७% तक होता है, जो की गर्बवती महिला के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है।
  • गर्बवती महिला को शुरुआती महीनो में उल्टिया और जी मचलाना बहुत ही आम बात है। बीन्स का लगातार सेवन इन उल्टियों को रोकने में फायदेमंद होता है।
  • बीन्स में विटामिन बी ६, मैग्नेशियम और जिंक भी होता है , प्रेगनेंसी में बीन्स का रेगुलर उपयोग इन सभी मिनरल्स की कमी को पूरा करता है।
  • बीन्स को रोज अपनी डाइट में शमिल करने से, गर्बवती महिला के गरब में पलने वाले बच्चे को अस्थमा जैसी बड़ी बीमारी से भी सुरक्षा मिलती है।

तो अपने देखा बीन्स का लगातार सेवन, एक गर्बवती महिला और उसके बच्चे के लये कितना जरुरी है, बीन्स और भी बहुत से फायदे है। प्रग्नेंसी में महिलाओं को बीन्स के साथ साथ ताजे फल , हरी सब्जिया , सूखे मेवे, दूध, दही और अंडो का भी सेवन करना चाहिए।