फुट कॉर्न के कारण और उपाय

फुट कॉर्न के कारण और उपाय, फुट कॉर्न क्यों होता है, फुट कॉर्न की समस्या से बचने के घरेलू नुस्खे, फुट कॉर्न होने के कारण और इससे बचने के उपाय, फुट कॉर्न से बचने के टिप्स

फुट कॉर्न स्किन पर होने वाली एक सख्त, एक छोटे गोल धब्बे और मोटी परत के जैसा होता है। जो पैरों की उँगलियों के ऊपर, बराबर या तलवे में विकसित हो जाती है। इसके होने के कारण व्यक्ति को चलने में भी परेशानी का अनुभव करना पड़ता है। दर्द के साथ इनका सही समय से इलाज न करने पर यह बढ़ने भी लगते हैं। फुट कॉर्न की समस्या होने का कोई एक कारण नहीं होता है। यह बेजान स्किन होने के कारण बनता है, जिसे देखने के बाद ऐसा लगता है की यह एक छोटा कठोर निशान है, तो लिखिए आज हम आपको फुट कॉर्न से जुडी कुछ बातें बताने जा रहें हैं जैसे की फुट कॉर्न होने के क्या कारण होते हैं, और आप इस समस्या से बचने के लिए क्या कर सकते हैं आइये जानते हैं।

फुट कॉर्न के लक्षण क्या होते हैं

  • यदि आपको स्किन पर कठोरता महसूस हो तो यह कॉर्न का लक्षण हो सकता है।
  • स्किन पर हाथ लगाते समय दर्द का महसूस होना।
  • स्किन पर मोम जैसी परत बनते हुए महसूस होना।
  • त्वचा का खुरदुरा या मोटा होना।

फुट कॉर्न होने के क्या कारण होते हैं

  • बॉडी के जिस हिस्से पर सबसे ज्यादा दबाव पड़ता है वहां कॉर्न होने के चांस बहुत ज्यादा होते हैं। जैसे की पैरों पर कॉर्न होने के चांस सबसे ज्यादा होते हैं। क्योंकि पूरी बॉडी का दबाव पैरों पर सबसे अधिक पड़ता है।
  • चलने में असामान्यता के कारण, चलते समय या खड़े होते हुए यदि एक पैर पर दबाव ज्यादा पड़ता है, तो उस पैर पर भी कॉर्न होने के सबसे ज्यादा चांस होते हैं
  • खराब फिटिंग के जूते पहनना, बिना मोज़े के जूते पहनना, ऊँची एड़ी के जूते पहनना, आदि के कारण भी ऐसा हो सकता है।
  • जो महिला या पुरुष नंगे पैर ज्यादा चलते हैं, ऐसे में उनके पैरों की त्वचा मोटी होने लगती है जिसके कारण कॉर्न होने के चांस बहुत ज्यादा होते हैं।
  • पतले लोगो को भी यह समस्या हो सकती है, क्योंकि मास कम होने के कारण फुट कॉर्न होने का जोखिम बढ़ जाता है, अधिक उम्र होने के बाद भी आपको ऐसा महसूस हो सकता है।
  • इसके अलावा पैर के एक हिस्से पर ही दबाव डालकर हमेशा चलने या दौड़ने आदि के कारण भी आपको ऐसा हो सकता है।

फुट कॉर्न की समस्या से बचने के टिप्स

फुट कॉर्न कोई ऐसी समस्या नहीं है की जिसका कोई इलाज न हो, बल्कि आप कुछ आसान टिप्स का इस्तेमाल करके आसानी से इस समस्या से निजात पा सकते हैं। क्या आप भी फुट कॉर्न की समस्या से परेशान हैं? यदि हाँ, तो लीजिये आज हम आपको इस परेशानी से बचाव के कुछ आसन टिप्स बताने जा रहें हैं जो आपको इस परेशानी से निजात दिलाने में आपकी मदद करेंगे।

मुलैठी

मुलैठी और सरसों के तेल का इस्तेमाल नियमित करने से आपको फुट कॉर्न की समस्या से निजात पाने में मदद मिलती है। इसके इस्तेमाल के लिए आप एक चम्मच मुलैठी का पाउडर लेकर उसमे थोड़ा सा सरसों का तेल मिलाकर एक गाढ़ा पेस्ट तैयार करें। अब इस पेस्ट को रात को सोने से पहले कॉर्न पर लगाएं और उसपर पट्टी बाँध कर सो जाएँ। सुबह पट्टी खोलने के बाद गुनगुने पानी से इसे धो दें, नियमित ऐसा करने से कॉर्न के आस पास की त्वचा नरम हो जाती है जिससे आपको इस परेशानी से निजात पाने में मदद मिलती है।

सफ़ेद सिरका

सफ़ेद सिरका भी फुट कॉर्न की समस्या से निजात दिलाने में आपकी बहुत मदद करता है। इसके इस्तेमाल के लिए आप कॉटन बॉल को सफ़ेद सिरके में डूबा लें, उसके बाद इसे कॉर्न पर लगाएं और डॉक्टर टेप का इस्तेमाल करके इसे वहीँ लगा दें। तीन से चार घंटे लगे रहने के बाद आप इसे हटा दें। और पैर को धो दें, कॉर्न के ठीक होने तक नियमित इस उपाय को करें।

टी ट्री ऑयल

एंटी बैक्टेरियल और एंटी फंगल गुणों से भरपूर टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल करने से भी आपको इस परेशानी से निजात पाने में मदद मिलती है। इसके इस्तेमाल के लिए आप कॉटन बॉल पर तीन से चार बूंदें टी ट्री ऑयल की डालकर कॉर्न पर लगाएं और डॉक्टर टेप का इस्तेमाल करके इसे लगा दें। सुबह उठकर इसे हटा दें, और गुनगुने पानी से कॉर्न को साफ़ कर लें।

लहसुन

एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी फंगल गुणों से भरपूर होने के कारण लहुसन का इस्तेमाल भी आप इस परेशानी से निजात पाने के लिए कर सकते हैं। इसके इस्तेमाल के लिए आप लहसुन की दो तीन कली को छीलकर पीस लें, पीसने के बाद इसे कॉर्न पर लगाएं और पट्टी बाँध दें। रात भर के लिए इसे ऐसे ही छोड़ दें। सुबह उठकर पट्टी खोल दें, और गुनगुने पानी से इसे अच्छे से साफ़ कर दें।

हल्दी

हल्दी औषधीय गुणों से भरपूर होती है जो की आपको शरीर से सम्बंधित बहुत सी परेशानियों से निजात दिलाने में मदद करती है। इसके इस्तेमाल के लिए आप आधा चम्मच हल्दी और आधा चम्मच शहद को मिक्स करके एक पेस्ट बनाएं। अब इस पेस्ट को कॉर्न पर लगाएं और आधे घंटे बाद इसे गुनगुने पानी से साफ़ कर दें। ऐसा दिन में दो बार फुट कॉर्न के अच्छी तरह से ठीक हो जाने तक करें।

निम्बू का रस

दो चम्मच निम्बू का रस लें उसमे दो लौंग डालकर रख दें। पंद्रह मिनट तक लौंग के रखे रहने के बाद लौंग निकाल लें, और रुई की मदद से कॉर्न और उसके आस पास की त्वचा को निम्बू का रस रगड़े, और उसे सूखने के लिए छोड़ दें, सूखने के बाद दुबारा ऐसा करें, जब तक की निम्बू का रस खत्म न हो जाए। यह उपचार थोड़ा धीमा असर करता है लेकिन इससे कॉर्न के आस पास की स्किन नरम हो जाती है, जिससे इस समस्या से निजात पाने में मदद मिलती है।

पपीता

पपीते में मौजूद गुण स्किन पर जमी मृत कोशिकाओं को हटाने में मदद करते हैं। और इसके इस्तेमाल से आपको कॉर्न जैसी समस्या से निजात पाने में भी मदद मिलती है। इसके इस्तेमाल के लिए आप कच्चे पपीते का रस निकालकर रुई की मदद से इसे अच्छे से कॉर्न के आस पास लगाएं और उसके बाद इस पर पट्टी बाँध दें, सुबह उठकर गुनगुने पानी और प्यूमिक स्टोन का इस्तेमाल करके कॉर्न के आस पास की स्किन को साफ़ करें, इससे कॉर्न को सुखाकर बहुत जल्दी बाहर निकालने में मदद मिलती है।

तारपीन का तेल

तारपीन का तेल फुट कॉर्न की समस्या से बहुत जल्दी आराम दिलाने में मदद करता है, इसके इस्तेमाल के लिए आप एक कॉटन के कपडे में बर्फ का टुकड़ा डालकर कॉर्न की अच्छे से सिकाई करें, उसके बाद साफ़ कपडे से इसे साफ़ करके सूखा लें। सूखने के बाद तारपीन के तेल का इस्तेमाल करें और इसे स्किन पर लगाएं। फिर पट्टी बांधकर इसे रातभर के लिए छोड़ दें, और सुबह उठकर इसे गुनगुने पानी से साफ़ के लें, कॉर्न के पूरी तरह ठीक हो जाने तक नियमित इस उपाय को करें।

फुट कॉर्न को ठीक करने के अन्य उपाय

  • गुनगुने पानी में नमक डालकर पैर डालकर उसमे रखें, इससे पैर की त्वचा नरम होगी जिससे कॉर्न को बाहर निकालने में मदद मिलेगी।
  • जितना हो सके अपने माप के जूते पहनने चाहिए, मोज़े के साथ पहनने चाहिए, नंगे पैर नहीं घूमना चाहिए।
  • गुनगुने पानी में कैमोमाइल चाय डालकर पैरों को सिकाई करने से भी आपको इस परेशानी से आराम मिलता है।
  • कॉर्न की समस्या होने पर नियमित नहाते समय प्यूमिक स्टोन का इस्तेमाल करके कॉर्न के आस पास की स्किन को साफ़ करना चाहिए, इससे त्वचा नरम होती है जिससे आपको इस परेशानी से निजात पाने में मदद मिलती है।
  • पैरों को धोने के बाद मॉइस्चराइजर जरूर लगाएं, जिससे त्वचा को पोषण मिलें और त्वचा कोमल रहे, ऐसा करने से भी कॉर्न ठीक होने लगते हैं।

फुट कॉर्न की समस्या होने पर डॉक्टर से कब मिलें।

  • फुट कॉर्न की समस्या होने के साथ पैरों में बहुत अधिक सूजन हो तो एक बार डॉक्टर को जरूर दिखाना चाहिए।
  • यदि आपको कॉर्न एक से ज्यादा होने लगे तो भी इसे अनदेखा नहीं करना चाहिए।
  • यदि कॉर्न की समस्या होने के साथ खून आदि भी आने लगे तो इससे संक्रमण होने का खतरा रहता है, ऐसा होने पर भी आपको डॉक्टर से राय लेनी चाहिए।
  • कॉर्न में मवाद आदि बनने पर भी एक बार डॉक्टर से राय लेनी चाहिए।

तो यह हैं फुट कॉर्न से जुडी कुछ बातें, और यदि आपको फुट कॉर्न हो जाए तो आपको ऊपर दिए गए आसन टिप्स का इस्तेमाल करके इस समस्या से आसानी से निजात पा सकती है। और यदि कोई भी दिक्कत आदि हो तो भी इसके लिए एक बार डॉक्टर से बात करनी चाहिए।