Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

गर्भ में बेटी होने की क्या निशानी होती है? और चेहरे पर क्या बदलाव होते हैं

0

गर्भ में बेटी होने की क्या निशानी होती है, गर्भ में लड़की होने पर चेहरे पर होने वाले बदलाव, गर्भ में लड़की होने के लक्षण, कैसे पता करे गर्भ में लड़की है या लड़का, इस तरह जाने गर्भ में लड़की है या लड़का

प्रेगनेंसी के दौरान महिला के शरीर में, चेहरे पर तरह -तरह के बदलाव आते हैं। जिन्हे देखकर आप जान सकते हैं की गर्भ में पल रहा शिशु लड़का है या लड़की है। आज हम आपको गर्भवती महिला को महसूस होने वाले व् दिखाई देने वाले लक्षण बताने जा रहें हैं जिनसे आप जान सकते हैं, की आपके गर्भ में एक नन्ही सी परी पल रही है। लेकिन इन तरीको पर पूरी तरह से भरोसा करना भी ठीक नहीं है, क्योंक हो सकता हैं की कई बार यह गलत भी हो। लेकिन पुराने समय से ही इन तरीको का इस्तेमाल किया जा रहा है और ज्यादातर मामलों में यह सही भी होते हैं। तो आइये अब विस्तार से जानते हैं की गर्भ में पल रहा शिशु अगर लड़की है तो महिला में कौन कौन से लक्षण दिखाई दते हैं।

लड़की कैसे पैदा होती है

महिला के अंडाशय में xx क्रोमोसोम होते हैं जबकि पुरुष के शुक्राणु में xy क्रोमोसोम होते हैं। और यही क्रोमोसोम निर्धारित करते हैं की शिशु लड़का होगा या लड़की, जब सम्बन्ध बनाने के बाद पुरुष और महिला दोनों के ही x क्रोमोसोम मिलते हैं तो गर्भ में लड़की होती है, जबकि पुरुष का y और महिला का x क्रोमोसोम मिलते हैं तो एक लड़के का जन्म होता है।

शिशु की धड़कन

ऐसा माना जाता हैं की यदि आपके गर्भ में पल रहे शिशु की धड़कन 140 बी एम पी से ज्यादा है तो समझ जाइये की आपके गर्भ में एक सूंदर सी परी है। ज्यादातर मामलों में यह वैज्ञानिक तरीका सही साबित होता है।

मूड स्विंग्स

वैसे तो प्रेगनेंसी के दौरान मूड स्विंग्स होना यानी व्यवहार में बदलाव होना आम बात होती है। लेकिन यदि महिला बहुत ज्यादा चिड़चिड़ी रहती है तो इसका मतलब यही होता है की गर्भ में पल रहा शिशु एक लड़की है।

ब्रेस्ट साइज में बदलाव

प्रेगनेंसी के दौरान महिला के ब्रेस्ट में बहुत से बदलाव आते हैं, लेकिन यदि आपके ब्रेस्ट ज्यादा भारी, आकार में बड़े, और ज्यादा टाइट से महसूस होते है, तो यह भी गर्भ में लड़की होने का ही एक लक्षण होता है। जबकि गर्भ में लड़का होने पर ब्रेस्ट में ज्यादा बदलाव देखने को नहीं मिलता है।

मीठा खाने का मन मन करना

यह भी गर्भ में लड़की होने का ही एक लक्षण होता है जब गर्भवती महिला को प्रेगनेंसी के दौरान केवल मीठा खाने का अधिक मन करता है, जैसे की मिठाइयां आइस क्रीम आदि।

शिशु की हलचल

गर्भावस्था के पांचवे महीने तक गर्भ में शिशु की हलचल आप महसूस कर सकते हैं, और यदि आपका शिशु गर्भ में पसली की तरफ अधिक लाते मारता है। तो समझ जाइये की आपके घर एक प्यारी से गुड़िया आने वाली है।

पेट का आकार

यदि महिला के पेट का आकार अधिक बड़ा और गोल होता है,साथ ही नीचे की तरफ झुका हुआ होता है तो यह बह गर्भ में पल रहा शिशु लड़की है इस बात की और इशारा करता है, जबकि लड़का होने पर पेट का आकार थोड़ा कम होता है।

चर्बी बढ़ना

यदि गर्भवती महिला के कूल्हों और जांघो की चर्बी अधिक बढ़ने लगती है तो शरीर में आने वाला यह बदलाब भी गर्भ में लड़की होने की और इशारा करता है।

मॉर्निंग सिकनेस

गर्भावस्था के दौरान सुबह के समय उठने में परेशानी होना, आलस महसूस होना आम बात होती है। लेकिन यदि महिला को सुबह के समय ज्यादा परेशानी हो, अजीब सा महसूस अधिक होता है। तो यह भी गर्भ में लड़की होने की तरफ इशारा करता है।

बालों में फर्क

बालों का अधिक हल्का होना, प्रेगनेंसी के दौरान वैक्सिंग करवाने पर बालों का धीमी गति से आना भी गर्भ में लड़की होने का संकेत होता है।

गर्भ में लड़की होने पर चेहरे पर आते हैं यह बदलाव

यदि गर्भावस्था के दौरान महिला के चेहरे पर पिम्पल, दाग धब्बे अधिक होने लगते हैं, चेहरे का निखार कम होने लगता है, साथ ही बाल भी बेजान हो जाते हैं, नाख़ून की चमक कम हो जाती है। तो इसका मतलब होता है की गर्भ में पल रही शिशु एक प्यारी सी लड़की है। और चेहरे की ख़ूबसूरती का कम हो रही है तो महिला आसानी से जान सकती है की अब वो एक खूबसूरत सी परी को जन्म देने वाली है।

तो यह हैं कुछ लक्षण जो प्रेगनेंसी के दौरान यदि महिला महसूस करती है तो इसका मतलब यह होता है की गर्भ में पल रह शिशु आपके घर की आने वाली लक्ष्मी है।

यूट्यूब विडिओ –

गर्भ में बेटी होने पर शरीर और चेहरे पर ये बदलाव आते हैं।
Leave a comment