Take a fresh look at your lifestyle.

गर्भपात रोकने के घरेलू तरीके जिससे आप माँ बन सकेंगी

0

प्रेगनेंसी का होना जहां किसी के मन में उमंगो और सपनो को संजोने लग जाता है, वहीँ यदि शिशु की चाह रखने वाली महिला का गर्भपात हो जाता है, तो उसके सपने वहीँ टूट जाते है, कई महिलाओ को बार बार गर्भपात की समस्या होती है, जो की बिलकुल भी अच्छी बात नहीं है, बार बार गर्भपात होने के कारण प्रेगनेंसी से जुडी परेशानियां उत्त्पन्न होने लग जाती है, लेकिन यदि कुछ सावधानियां बरती जाएँ, कुछ घरेलू तरीको का इस्तेमाल किया जाएँ, या फिर यदि इस बारे में आप डॉक्टर से राय लें तो इस समस्या से बचा जा सकता है।

इन्हें भी पढ़ें:-  प्रेगनेंसी के शुरूआती दिनों में क्या क्या समस्या आती है?

माँ बनना जहां किसी महिला और उसके परिवार के लिए खुशियों से भरा लम्हा होता है, तो अनचाहा गर्भपात उनकी खुशियों को खराब कर देता है, गर्भपात होने के बहुत से कारण हो सकते है, जैसे की महिला के प्रेगनेंसी के पहले तीन महीने बहुत नाजुक होते है, इसीलिए उसे अपनी अच्छे से केयर करनी चाहिए, यदि वो किसी तरह की लापरवाही, जैसे ज्यादा भागदौड़, पेट पर अधिक दबाव देना, दवाइयों का अधिक सेवन करना ऐसे कुछ काम करती है, तो इसके कारण उसके गर्भ ठहरने में समस्या उत्त्पन्न हो जाती है, इसके अलावा इसका कारण आपको किसी शारीरिक बिमारी का होना, योंन समस्या का होना, मधुमेह या थायरोइड जैसी समस्या का होना, ज्यादा वजन, और ज्यादा उम्र का होना, आदि ऐसे कुछ कारण हो सकते है, जिसके कारण महिला को गर्भपात की समस्याहो सकती है, तो आइये आज हम आपको इसके कारण और इससे बचने के कुछ घरेलू उपाय बताने जा रहे है जिनका इस्तेमाल करने से आपको इस समस्या से बचाव करने में मदद मिल सकती है।

बार बार गर्भपात होने के क्या कारण होते है:-

  • यदि महिला को शुरुआती दिनों में ही बार बार गर्भपात होता है, तो इसका कारण क्रोमोजोम का आपके शरीर में होना हो सकता है, क्योंकि यदि इसकी संख्या अधिक होती है, इसके कारण गर्भ में पल रहा भ्रूण अच्छे से विकसित नहीं हो पाता है।
  • महिला की अधिक उम्र भी इसका एक कारण हो सकता है।
  • वजन के अधिक होने के कारण भी कई महिलाओ को इस समस्या का सामना करना पड़ता है।
  • जिन महिलाओ को मधुमेह या थाइरोइड की समस्या होती है, उन्हें भी गर्भाप्त के चांस ज्यादा होते है।
  • एंटी फोस्फो लिपिड सिंड्रोम या स्टिकी रक्त सिंड्रोम भी इसका एक कारण हो सकता है, क्योंकि इसके कारण आपकी रक्त वाहिकाओ में रक्त के थक्के जमने लगते है जिसके कारण आपको गर्भपात की समस्या हो सकती है।
  • योंन संचारित रोग होने के कारण भी आपको इस परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
  • लिस्तिरेइओसिस और टोक्सोप्लाजमोसिज नामक संक्रमण होने के कारण भी महिला को ये समस्या हो सकती है।
  • महिला के गर्भपात का एक कारण उसकी खराब जीवन शैली और उसको गलत आदतों की लत का होना भी हो सकता है, जैसे की यदि कोई महिला अधिक धुम्रपान या अल्कोहल का सेवन करती है तो उसे ये समस्या हो सकती है।

इन्हें भी पढ़ें:- अगर आप प्रेग्नेंट नहीं हो रहीं है? तो अपनाएं ये तरीका

बार बार गर्भपात से बचने के उपाय:-

पीपल की बड़ी कंटकारी की जड़ का इस्तेमाल करें:-

इस उपाय को करने के लिए पीपल की बड़ी कंटकारी की जड़ को सबसे पहले अच्छे से पीस लें, उसके बाद इसे भैंस के दूध के साथ एक चम्मच लें, नियमित इस उपाय को करने से आपको बार बार गर्भपात होने की समस्या से बचाव करने में मदद मिलती है।

मूली के बीजो का प्रयोग करें:-

इस उपाय को करने के लिए आप सबसे पहले मुली के बीजो को अच्छे से पीस लें, उसके बाद उसमे भीमसेनी कपूर, और गुलाब का अर्क मिला दें, उसके बाद नियमित इसे अच्छे से अपने प्राइवेट पार्ट पर लगाएं, प्रेगनेंसी के होने पर भी इस उपाय को करने से आपको गर्भ गिरने की परेशानी से निजात पाने में मदद मिलती है।

गाय के दूध और जेठीमधु का इस्तेमाल करें:-

इस उपाय को करने के लिए अप सबसे पहले एक गिलास गाय के दूध में जेठी मधु को डाल कर उबाल लें, और इसका काढ़ा तैयार करें, उसके बाद आप इस काढ़े को ठंडा करके इसका सेवन करें, आप इसका सेवन करने के साथ अपनी नाभि के नीचे की तरफ भी लगा सकते है, ऐसा करने से आपको गर्भ गिरने की परेशानी से निजात मिलने के साथ प्रेगनेंसी के समय होने वाली परेशानियों से भी बचने में मदद मिलती है।

पके हुए केले और शहद का सेवन करें:-

बार बार गर्भपात की समस्या से बचने के लिए आपको एक पके हुए केले को अच्छे से पीस कर तैयार करके उसके एक चम्मच शहद को मिलाना चाहिए, उसके बाद नियमित रूप से इसका सेवन करना चाहिए, नियमित रूप से ऐसा करने से आपको प्रेगनेंसी में होने वाली परेशानियों से बचने में मदद मिलती हैं, और साथ ही गर्भपात की परेशानी भी नहीं होती है।

हरी दूब के पंचांग का प्रयोग करें:-

हरी दूब का पंचाग मतलब, फूल, फल, पत्ती, जड़, तना, इन सबको अच्छे से पेस का एक मिश्रण तैयार करें, उसके बाद इस मिश्रण में थोड़ी मिश्री और दूध को मिला दें, इसके बाद 250 से 300 ग्राम इससे बने शरबत का सेवन प्रेगनेंसी के शुरुआती दिनों में करें आपको इसका फायदा मिलेगा, और आपको गर्भपात से बचने में मदद मिलेगी।

नागकेसर, वंशलोचन तथा मिश्री का प्रयोग करें:-

नागकेसर, वंशलोचन तथा मिश्री तीनो को बराबर मात्रा में लें, उसके बाद तीनो को अच्छे से पीस कर महीने चूर्ण तैयार करें, उसके बाद इस चूर्ण को चार ग्राम की मात्रा में एक गिलास दूध के साथ लें, आपको इसके सेवन बार बार गर्भपात होने की समस्या से निजात पाने में मदद मिलेगी।

अशोक के पेड़ की छाल का इस्तेमाल करें:-

अशोक के पेड़ की छाल का इस्तेमाल करने से आपको बार बार गर्भपात होने की समस्या से निजात पाने में मदद मिलती है, इसके लिए आप अशोक के पेड़ की छाल को लें और उसका क्वाथ बना लें, और इसका नियमित रूप से सेवन करें आपको इसका फायदा खुद ही दिखाई देगा।

डॉक्टर से राय लें:-

इन सब तरीको का इस्तेमाल करने के साथ यदि आप किसी शारीरिक बिमारी या गर्भाशय से सम्बंधित किसी समस्या के कारण बार बार गर्भपात की समस्या से जूझ रहे है तो आपको इस विषय में एक बार डॉक्टर से जरुर मिलना चाहिए और इस परेशानी का इलाज करके जितना जल्दी हो सकें इस समस्या से राहत पानी चाहिए।

बार बार गर्भपात की समस्या से बचने के अन्य उपाय:-

  • महिला को अपने खान पान का ध्यान रखने चाहिए क्योंकि कई बार शरीर में पोषक तत्वों की कमी और कमजोरी के होने के कारण आपको ये समस्या हो सकती है।
  • ज्यादा भागदौड़ नहीं करनी चाहिए खासकर शुरुआत के दिनों में आराम करना चाहिए।
  • सम्बन्ध बनाने के लिए डॉक्टर से राय लेनी चाहिए, और जितना हो सकें शुरुआती दिनों में इससे परहेज रखना चाहिए।
  • पेट के भार कोई भी काम नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसके कारण आपके गर्भाशय पर दबाव पड़ता है जिसके कारण आपको परेशानी हो सकती है।
  • महिला को ऐसे किसी भी पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए जिसमे विटामिन सी की मात्रा अधिक होती है, जैसे पपीता, अनानास आदि।
  • अधिक दवाइयों का सेवन नहीं करना चाहिए, और प्रेगनेंसी में तो बिना किसी डॉक्टर की सलाह के तो बिलकुल ही नहीं लेनी चाहिए।
  • गरम तासीर वाली चीजो का सेवन भी अधिक नहीं करना चाहिए जैसे की ड्राई फ्रूट आदि।
  • यदि आपको पेट में दर्द या कोई और शारीरिक परेशानी लगे तो बिना देरी किये आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

तो ये कुछ कारण है जिनकी वजह से आपको बार बार गर्भपात होता है, इसके अलावा आपको इस समस्या का डॉक्टर से मिलकर समाधान करना चाहिए, ताकि आपकी इस परेशानी का हल हो सकें, और आपके लिए ऊपर दिए गये कुछ घरेलू तरीको का इस्तेमाल करके भी आप गर्भपात की समस्या से राहत पा सकती है।

इन्हें भी पढ़ें:- गर्भपात (अनचाहा गर्भ) बिना किसी डॉक्टर की सलाह के

Leave A Reply

Your email address will not be published.