Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

जल्दी माँ बनना है तो ये जरूर पढ़ें!

0

गर्भधारण नहीं होने के क्या कारण होते हैं, माँ बनने के लिए क्या करें, प्रेग्नेंसी में दिक्क्त क्यों आती है, गर्भधारण करने के उपाय, Maa banne ke liye kya kare, Pregnant hone ke upay, Pregnancy me deri, जल्दी प्रेग्नेंट होने के लिए क्या करें, गर्भवती होने के उपाय, गर्भधारण के लिए क्या करना चाहिए?


शीघ्र गर्भवती होने के लिए क्या करें?

गर्भवती होना हर महिला का सपना होता है। हर कोई चाहती हैं की वो भी माँ बनें गर्भावस्था के पलों को महसूस करें। लेकिन कई महिलाओं को बेबी होने में काफी समय लग जाता है। कई बार ट्राई करने के बाद भी वो माँ नहीं बन पाती हैं। क्या कारण होता है कर गर्भधारण में देरी क्यों होती है आज हम वही बता रहे हैं।

गर्भधारण में देरी होने के कई कारण होते हैं। कुछ तो शारीरिक परेशानियां होती है और कुछ अपनी गलतियां होती हैं। पर अगर सही तरीके से प्लानिंग की जाए तो बेबी होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। बेबी होने की सही उम्र 22 से 33 साल तक होती है, यह पहला फेज होता है। फिर दूसरा फेज आता है 33 से 38 साल तक और तीसरा फेज 39 से 44 साल तक होता है।

22 साल से 33 साल तक बेबी होने में कोई परेशानी नहीं होती है। यानी अगर किसी की शादी तीस में भी हो रही है तो भी बेबी होने में कोई दिक्क्त नहीं है। पर कुछ लोग बेबी प्लानिंग को लेकर डिले करते हैं। ज्यादा डिले होने के बाद परेशानियां आने लगती हैं। 22 साल से 33 साल के बीच नार्मल तरीके से कंसीव हो जाता है। अगर उम्र इससे ज्यादा है और बेबी नहीं हो रहा है तो डॉक्टर की मदद लें।

कंसीव होने में समस्याएं क्यों आती हैं?

बाकी समस्यायों के साथ-साथ उम्र बढ़ने के कारण भी कई सारी समस्याएं आ जाती हैं। जैसे – अंडे का कम बनना, अंडे का हेल्दी नहीं होना, ट्यूब में कोई दिक्क्त होना, पुरुष के शुक्राणु का स्वस्थ नहीं होना, अगर ये सारी समस्याएं हैं तो गर्भधारण में दिक्क्त होती है।

दूसरा कारण होता है सही समय पर संबंध नहीं बनाना। गर्भधारण के लिए सही समय पर संबंध बनाना बहुत जरुरी है। क्यूंकि अगर अंडे का शुक्राणु से निषेचन नहीं होगा तो गर्भधारण में दिक्क्त आएगी। महिला का जब फर्टाइल पीरियड होता है उस समय अगर संबंध बनाया जाए तो गर्भधारण के चांसेस बढ़ जाते हैं।

गर्भधारण का सही समय कब होता है?

महिला का ओवुलेशन पीरियड जिसको फर्टाइल पीरियड भी कहते हैं, गर्भधारण के लिए महिला और पुरुष को उस समय संबंध बनाना चाहिए। ओवुलेशन पीरियड मेंस शुरू होने की तारीख से 14 दिन से 18 दिन के बीच होता है। अगर ये 14 से 18 दिन के बीच संबंध बनाया जाए तो गर्भधारण के अस्सी परसेंट चांस होते हैं। आप इस डेट को दो दिन आगे-पीछे कर सकती हैं। क्यूंकि सबका मासिक चक्र एक जैसा नहीं होता।

गर्भधारण करने के लिए क्या करें?

गर्भधारण के लिए जो सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है वो आपका शरीर और खान-पान है। अगर आप हेल्दी है, कोई बीमारी नहीं है, कमजोरी नहीं है, खून की कमी नहीं है, और चिंता नहीं करती हैं तो गर्भधारण में कोई परेशानी नहीं होगी। अगर आप इन समस्यायों से जूझ रही हैं खान पान ठीक नहीं है दिनभर चिंता करती हैं, किसी बीमारी से ग्रसित हैं, आपकी दिनचर्या सही नहीं है, आप पति-पत्नी समय पर संबंध नहीं बनाते हैं या बहुत ज्यादा गैप होता है तो गर्भधारण में समस्या हो सकती है।

आप समझ गयी होंगी की क्या वजह होती है गर्भधारण नहीं होने की। अगर आप माँ बनना चाह रही हैं तो यहाँ बताई गयी बातों का ध्यान रखें। डॉक्टर से मिलें, और चेकअप करवाती रहें क्यूंकि कई बार छोटी-मोटी कमियो की वजह से भी माँ बनने में देरी हो जाती है।

यूट्यूब विडिओ –

माँ बनना चाहती हैं तो ये करें
Leave a comment