Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

क्या है हेयर स्पा का सही तरीक़ा? जानें हेयर स्पा का घरेलू तरीक़ा।

0

Hair Spa : बालों की समस्या आज के समय की सबसे बड़ी समस्या बनती जा रही है, जिसका असर बच्चों से लेकर बड़े लोगों में भी देखने को मिल रहा है। इसका कारण शहर का प्रदूषण, धूल, धुआं और दूषित भोजन व पानी है। इन सबके कारण सिर से लेकर पांव तक की त्वचा रूखी और बेजान हो जाती है। रूखी त्वचा से डैंड्रफ और बालों से संबंधित अन्य रोग होते हैं, जो बाद में चर्म रोग का कारण भी बन सकते हैं।
प्रत्येक महिला स्वस्थ, सुंदर व लम्बे बाल चाहती है, पर आज के माहौल में हर महिला किसी न किसी हेयर प्रॉब्लम से परेशान है। बाल छोटे हों या बड़े, समस्या तो आती ही है। जैसे कि बालों का दो मुंहा होना, झड़ना, बेजान होना, बीच से टूटना, पतला होना इत्यादि। इन समस्याओं के समाधान के लिए वो तरह तरह के शैम्पू, तेल और कंडीशनर का इस्तेमाल करती रहती हैं। इसके अलावा पार्लर जाके महँगे महँगे हेयर स्पा भी लेती हैं। आज कल के इस प्रदूषण भरे वातावरण और धूल मिट्टी से बालों को बचाने के लिए इनकी विशेष देखभाल की बहुत ज़रूरत होती है, लेकिन हमेशा पार्लर जाके हेयर स्पा लेने का समय नहीं होता और उसपर ढेर सारा ख़र्चा भी होता है। लेकिन अब आप अपना समय और पैसे दोनों ही बचा सकती हैं और घर पर आसानी से हेयर स्पा ले सकती हैं।

पहले हम आपको बताएँगे कि बाल ख़राब होते क्यूँ हैं –

सही डाइट न होना :- शरीर के साथ-साथ बालों के लिए भी सही संतुलित डाइट बहुत जरूरी है। आजकल लोग ऐसा खाना कम ही खाते हैं, जिसमें प्रोटीन, विटामिन और मिनरल हो। खाना समय से नहीं खाया जाता और इस तरह खाया जाता है कि बस पेट भर जाए। इनका प्रभाव हमारे बालों पर भी पड़ता है।

प्रदूषण और मौसम का असर :- बालों पर धूल, गंदगी, धुआं, धूप इत्यादि का असर पड़ता है। मौसम का भी असर पड़ता है। यदि बरसात है तो अलग तरीके से बालों की देखभाल की जाएगी, गरमी में अधिक पसीना और चिप चिप होती है तो बालों का उस हिसाब से ध्यान रखना पड़ेगा और सर्दी है तो अलग तरीके से। इसके अलावा बालों की संरचना के हिसाब से शैंपू का प्रयोग न होना भी एक मुख्य कारण है।

जेनेटिक व कुछ बीमारियों का प्रभाव :- बालों की समस्याओं का दूसरा प्रमुख कारण जेनेटिक यानि की आनुवंशिक व कुछ बीमारियां हैं जैसे- थाइरॉयड, मधुमेह, एनीमिया, हमेशा जुकाम रहना आदि। कभी-कभी लंबी बीमारी में खाई जाने वाली दवाओं के चलते भी बाल झडऩे लगते हैं।

बालों का बदलता फैशन :- कपड़ों के नित नए बदलते फैशन की तरह हमारे बाल भी फैशन से अछूते नहीं रहे हैं। कभी कर्ली हेयर का दौर है तो कभी स्ट्रेट हेयर का व कभी नेचुरल हेयर का। बालों के रंगों में भी नए-नए प्रयोग हो रहे हैं। इसके अलावा जहां दो चार बाल सफेद हुए नहीं, तुरंत डाई या कलर करवा लेना। बाजार में विभिन्न ब्रांडों के कलर मौजूद हैं। परंतु इन हेयर कलर में अमोनिया होता है, जो कि बालों के लिए बेहद हानिकारक है।

अब हम आपको बताएँगे घर पर बालों को स्पा करने का सही तरीक़ा क्या है –

कैसे करें शुरूआत?
हेयर स्पा ट्रीटमेंट में कई मसाज थैरेपीज़ आते हैं। आप अपने बालों के टेक्सचर (texture) के हिसाब से इसे चुन लें। आमतौर पर हेयर स्पा ट्रीटमेंट में चार से पांच स्टेप्स होते हैं, जिसमें पहले ऑयलिंग करते हैं यानि की ऑयल से मसाज, फिर स्ट्रीमिंग, फिर बालों को माइल्ड शैम्पू से धोना और फिर हेयर मास्क का इस्तेमाल करना।

स्टेप 1 – करें ऑयल से मसाज
अपने बालों को पोषण देने का सबसे अच्छा तरीका है इन्हें किसी अच्छे पोषण वाले ऑयल से मसाज करना, ताकि बालों की जड़ें मज़बूत बने और रूखापन खत्म हो जाए। बालों में मसाज करने के लिये आप अपने मन अनुसार तेल का चयन कर सकती हैं। अगर आपके बाल साधारण क़िस्म के हैं तो आपके लिये नारियल, बादाम या फिर जैतून का तेल अच्‍छा होगा। अगर बाल रूखे या ऑइली हैं तो आप बादाम तेल का प्रयेाग कर सकती हैं। आप इनमें से कोई भी तेल इस्तेमाल कर सकती हैं, या चाहें तो नारियल तेल, बादाम का तेल और ज़ैतून के तेल को बराबर मात्रा में मिलाकर इस्तेमाल कर सकती हैं। बालों की मसाज करने के लिए, सबसे पहले तेल गरम करें, फिर उससे बालों की जड़ों की 10 से 15 मिनट तक मसाज करें। इससे सिर में ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ता है।

स्टेप 2 – स्टीमिंग
बालों को दो तरह से स्‍टीम दिया जा सकता है। एक तो आप बाजार से ऐसा स्‍टीमर खरीदें जो खास बालों को स्‍टीम देने के लिये ही बना हो, जैसा कि आपने पार्लर में देखा होगा। इसे बस ऑन करना होता है और स्टीम बनने लगती है और फिर बालों को 10-12 मिनट तक स्‍टीम देना है। ध्‍यान रखें कि बालों में अच्‍छी तरह से तेल लगा होना चाहिये।
बालों को दूसरी विधि से स्‍टीम देने का तरीका बेहद आसान है, जिसमें आपके बिल्‍कुल भी पैसे खर्च नहीं  होंगे। सबसे पहले पानी उबालें, उसमें तौलिया डुबोएँ और निचोड़ दें। फिर तौलिये को बालों में लपेट दें और 15 मिनट तक ऐसे ही रहने दें। इससे बालों में लगा हुआ तेल आसानी से सिर के अंदर चला जाएगा और बालों की जड़ों को ज़रूरी पोषण मिलेगा।

स्टेप 3 – शैम्पू करना
अगला स्टेप है बालों की अच्छे से धुलाई। बालों को स्‍टीम देने के बाद उन्‍हें अच्‍छी तरह से साफ करना है। अपने बालों के texture के हिसाब से कोई अच्छा शैम्पू चुने। शैम्पू लगा कर बालों को दो तीन मिनट तक रेस्ट दें ताकि बालों से तेल अच्छी तरह निकल जाए। फिर साफ़ पानी से धो दें। बालों को शैंपू से धो कर उसमें कंडीशनर लगाएँ।

स्टेप 4 – हेयर मास्क
शैम्पू के बाद बालों में लगाइए हेयर मास्‍क। बालों में हेयर मास्‍क लगाना काफी जरुरी है। आपको दुकानों में कई तरह के हेयर मास्‍क मिल जाएंगे। अगर आप घर पर ही हेयर मास्‍क बनाना चाहती हैं तो अंडा या फिर केला सबसे बेहतरीन ऑपशन होंगे।
कमजोर और हल्के बालों को घना बनाने के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी है। प्रोटीन हेयर मास्क बनाने के लिए दो पके केले, दो अंडे की पीली जर्दी, तीन चम्मच शहद और ऑलिव ऑयल। इनको मिलाकर बालों पर लगाएं और एक घंटे के ‌लिए छोड़ दें। फिर ठंडे पानी से साफ करें।
अगर आपके बाल घुंघराले हैं और संभाले नहीं संभलते हैं तो इसके लिए भी हेयर मास्क घर पर तैयार कर सकते हैं। आधा कप मैपल सिरप, दो केले, चार चम्मच नींबू का रस, एक चौथाई कप ऑलिव ऑयल और दो चम्मच मैदा मिलाएं। इन्हें हल्का गर्म कर लें। बालों पर लगाकर शावर कैप से ढंक लें और 45 मिनट तक छोड़ दें। फिर पानी से साफ करें।
रूखे बालों को सिल्की सॉफ्ट बनाने के लिए किसी भी तेल में 1 टेबलस्पून शहद मिलाएं और बालों में अच्छी तरह लगाएं। 1 घंटे बाद शैम्पू कर लें। 1 अंडे में 3 टेबलस्पून शहद डालकर फेंटें। इसे स्कैल्प और बालों पर लगाएं। आधे-एक घंटे बाद साफ़ कर लें।

स्टेप 5 – डबल क्‍लीनिंग
हेयर मास्‍क लगाने के बाद बालों को दोबारा शैम्पू से धोना ना भूलें। इस दौरान शैंपू थोड़ा कम ही लगाएँ और कंडिशनर ज़रूर लगाएँ।

लीजिए हो गया घर बैठे बैठे आपका हेयर स्‍पा।

Leave a comment