प्रेगनेंसी में आम नहीं खाएं यह गंभीर नुकसान हो सकते हैं?

खाने में खट्टा मीठा होने के कारण आम सभी का पसंदीदा फल होता है। साथ ही आम में मौजूद गुणों के कारण इसे फलों का राजा भी कहा जाता है। इसके अलावा आम के मौसम का अधिकतर लोग इंतज़ार करते हैं और यह एक तरीके का नहीं होता है बल्कि कई तरीके के आम मार्किट में देखने को मिलते हैं। और सभी के स्वाद में थोड़ा थोड़ा फ़र्क़ होने के कारण किसी को कोई आम पसंद आता है और किसी को कोई आम पसंद आता है। आज इस आर्टिकल में हम आम से जुडी कुछ जानकारी आपके साथ शेयर करने जा रहे हैं।

प्रेगनेंसी में आम खाना चाहिए या नहीं?

आम में फाइबर, आयरन, फोलिक एसिड, मैग्नीशियम, विटामिन ए, विटामिन सी, जैसे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। और यह सभी पोषक तत्व गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। क्योंकि यह पोषक तत्व गर्भवती महिला को स्वस्थ रखने के साथ बहुत सी शारीरिक समस्या से बचाव रखने में मदद करते हैं। इसके अलावा गर्भ में पल रहे शिशु के शारीरिक विकास, मानसिक विकास व् जन्म दोष से बचाव के लिए भी आम फायदेमंद होता है।

इसीलिए सही मौसम में सही मात्रा में यदि महिला आम का सेवन करती है तो इससे महिला को बहुत से फायदे मिलते हैं। लेकिन बरसात का मौसम आने पर महिला को आम के सेवन से परहेज करना चाहिए क्योंकि इस दौरान आम का सेवन करना महिला के लिए गंभीर समस्या पैदा कर सकता है। तो आइये अब जानते हैं की प्रेगनेंसी में आम खाने से महिला को क्या समस्याएं हो सकती है।

गर्भावस्था में आम खाने के नुकसान

प्रेगनेंसी के दौरान यदि महिला आम का सेवन करती है तो इसके कारण महिला को फायदा होने के साथ नुकसान भी हो सकता है। यदि आप भी प्रेग्नेंट हैं तो आपको भी इस बात की जानकारी जरूर होनी चाहिए की प्रेगनेंसी में आम खाने से महिला को क्या समस्याएं हो सकती है।

कीड़े होने के कारण बिमारियों का होता है डर

बरसात के मौसम में अधिकतर फलों में कीड़े होने की सम्भावना बढ़ जाती है और आम भी उन्ही फलों में से एक है। और कई बार तो आम में मौजूद कीड़े नज़र भी नहीं आते हैं। ऐसे में बरसात का मौसम आने पर यदि महिला आम का सेवन करती है तो महिला को इसके कारण शारीरिक परेशानियों व् गंभीर बिमारियों का सामना करना पड़ सकता है।

वजन

आम का सेवन यदि महिला जरुरत से ज्यादा करती है तो इसकी वजह से महिला के शरीर में कैलोरी बढ़ने लगती है जिसकी वजह से महिला का वजन जरुरत से ज्यादा बढ़ सकता है। और गर्भवती महिला का वजन यदि जरुरत से ज्यादा बढ़ जाता है तो इसके कारण गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु दोनों को दिक्कत होने का खतरा होता है।

सेहत पर पड़ता है उल्टा प्रभाव

इस मौसम में ज्यादातर आम कृत्रिम तरीके से पकाएं जाते हैं और उन आमों में कैल्शियम कार्बाइड होता है जो गर्भवती महिला के स्वास्थ्य पर गलत असर डालने के साथ गर्भ में पल रहे शिशु के विकास पर भी बुरा असर डाल सकता है। और गर्भवती महिला की दिक्कतें बढ़ने के साथ प्रेगनेंसी में कॉम्प्लीकेशन्स आने का खतरा होता है।

पाचन सम्बन्धी बढ़ती है परेशानियां

यदि महिला अच्छे से चेक करके आम का सेवन करती है तो इससे महिला को कोई दिक्कत नहीं होती है। लेकिन फिर उसके बाद महिला आम के बाद कुछ ऐसी चीजों का सेवन करती है जो महिला को बिल्कुल नहीं खानी चाहिए। तो उसकी वजह से भी महिला और गर्भ में पल रहे शिशु की सेहत पर नकारात्मक असर पड़ता है। जैसे की आम के बाद पानी पीने से, कोल्ड ड्रिंक पीने से, तेल मसाले मिर्च वाली चीजें खाने से, दही खाने से, करेले खाने से बॉडी में गलत रिएक्शन हो सकता है जिसकी वजह से गर्भवती महिला को पाचन सम्बन्धी बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

तो यह हैं कुछ नुकसान जो आम का सेवन करने से गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु को हो सकते हैं। ऐसे में गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु को कोई समस्या नहीं हो इससे बचने के लिए महिला को गलत तरीके, गलत मौसम में आम का सेवन करने से परहेज करना चाहिए।

Leave a comment