करवा चौथ 2020 डेट, चाँद निकलने का समय और प्रेग्नेंट महिला के लिए सलाह

करवा चौथ भारत में मनाया जाने वाला एक प्रसिद्द त्यौहार है। खासकर यह दिन यह त्यौहार महिलाओं की जिंदगी में बहुत अहमियत रखता है। क्योंकि इस दिन महिलाएं अपने पति की लम्बी उम्र के लिए व्रत करती है और पूरा दिन बिना खाएं पीये रहती है। साथ ही इस दिन महिलाएं दुल्हन की तरह तैयार होती है। करवा माता की पूजा करती है और अपने पति की लम्बी उम्र की दुआ करती है। इस दिन हर महिला एक से बढ़कर एक लग रही होती है। और उन्हें इस दिन की ख़ुशी इतनी ज्यादा होती है की उन्हें भूख प्यास का अहसास भी नहीं होता है। फिर रात को महिलाएं चद्र्मा को अर्क देने के बाद और पति द्वारा पानी पिलाए जाने के बाद व्रत खोलती है।

करवा चौथ 2020 में कब है और चाँद निकलने का क्या समय है?

2020 में करवा चौथ 4 नवंबर दिन बुधवार को है।

करवा चौथ पूजा का शुभ मुहूर्त:- शाम 17:29 मिनट से लेकर 18:48 तक है।

चंद्रोदय का समय:- 20:16

चतुर्थी तिथि की शुरुआत:- 03:24 (4 नवंबर)

चतुर्थी तिथि समाप्त:- 05:14 (5 नवंबर)

प्रेग्नेंट महिला करवा चौथ का व्रत रखते समय इन बातों का ध्यान रखें

गर्भावस्था के दौरान यदि करवा चौथ का व्रत आता है तो पति की लम्बी उम्र के लिए महिला यह व्रत जरूर रखती है। लेकिन इस व्रत में में पूरा दिन भूखा रहना होता है। और प्रेग्नेंट महिला का ज्यादा देर भूखा रहना महिला के लिए परेशानी खड़ी कर सकता है। साथ ही और भी ऐसे बहुत से कारण होते हैं जिनकी वजह से महिला को थोड़ी परेशानी का अनुभव हो सकता है। लेकिन प्रेग्नेंट महिला यदि करवा चौथ के दिन कुछ टिप्स का ध्यान रखती है तो महिला को परेशानियों से बचे रहने में मदद मिलती है। तो आइये अब जानते हैं की वो टिप्स कौन से हैं।

सरगी करते समय रखें ध्यान

करवा चौथ के दिन महिलाएं सुबह सूरज के निकलने से पहले तारों की छाँव में सरगी करती है। सरगी में महिला को कुछ खाना पीना होता है। ऐसे में महिला को सरगी में पानी का भरपूर सेवन करना चाहिए ताकि शरीर में पानी की कमी के कारण महिला को दिक्कत न हो। महिला को चाय व् ज्यादा नमक वाली चीजें खाने से बचना चाहिए क्योंकि इससे प्यास ज्यादा लगती है। सरगी के समय महिला को फलों, ड्राई फ्रूट्स आदि का सेवन करना चाहिए जिससे महिला का पेट लम्बे समय तक भरा रहें। लेकिन ध्यान रखें की जरुरत से ज्यादा भी न खा लें। क्योंकि फिर आपको परेशानी भी हो सकती है।

पूजा के समय का ध्यान रखें

प्रेग्नेंट महिला को एक से दो बजे के आस पास कथा भी सुन लेनी चाहिए। क्योंकि कथा सुनने के बाद महिला फल, चाय, पानी आदि का सेवन कर सकती है। और यदि महिला कुछ खा लेती है तो इससे महिला को कमजोरी महसूस नहीं होती है।

पहनावा

करवा चौथ के दिन महिलाएं सोलह श्रृंगार करती है भारी से भारी कपडा पहनती है, हील्स पहनती है, लेकिन प्रेग्नेंट महिला को थोड़ा ध्यान रखना चाहिए। ताकि महिला को कोई दिक्कत न हो, जैसे की ज्यादा भारी व् टाइट सूट न पहनें, ऊँची हील की चप्पल न पहनें, आदि। यदि महिला इन बातों का ध्यान रखती है तो महिला को रिलैक्स महसूस होता है।

आराम भी करें

करवा चौथ के दिन महिलाएं बहुत खुश होती है और इस चक्कर में उन्हें थकावट का अहसास ही नहीं होता है। लेकिन प्रेग्नेंट महिला को इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए की महिला खुश रहे लेकिन पूरा दिन घूमती न रहे क्योंकि इसके कारण महिला को थकावट व् कमजोरी जैसी परेशानी हो सकती है। ऐसे में महिला को दिन में थोड़ी देर आराम भी करना चाहिए ताकि महिला को थकावट के कारण कोई परेशानी न हो।

रात के खाने का रखें ध्यान

रात को चाँद को अर्क देने के बाद ऐसा नहीं है की महिला एक दम से खाने पर टूट पड़े। बल्कि महिला को पहले पानी पीना चाहिए और उसके थोड़ी देर बाद खाना चाहिए। खाने में ज्यादा तेल मसाले वाली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए, जरुरत से ज्यादा नहीं खाना चाहिए, खाना खाने के बाद तुरंत सोना नहीं चाहिए। क्योंकि इसके कारण महिला को गैस अपच जैसी परेशानियां हो सकती है। साथ ही महिला को हल्का खाना खाना चाहिए और खाना खाने के बाद थोड़ा घूमना चाहिए ताकि खाना अच्छे से हज़म हो सके।

तो यह हैं प्रेगनेंसी में करवा चौथ का व्रत रखते समय महिला को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए उससे जुड़े कुछ टिप्स, साथ ही करवाचौथ 2020 में कब है उससे जुडी जानकारी, तो अब करवा चौथ आने ही वाला है यदि आप भी प्रेग्नेंट हैं तो आपको भी इन सभी बातों का ध्यान रखना चाहिए। ताकि आप भी प्रेगनेंसी के दौरान अपने करवा चौथ को अच्छे से एन्जॉय कर सके।