कुत्ते के काटने पर क्या होता है? और इसका प्राथमिक उपचार क्या है

0

कुत्ते के काटने पर क्या होता है, कुत्ते काटने का प्राथमिक उपचार क्या है, कुत्ते के काटने पर क्या करें, कुत्ते के काटने पर कौन से इंजेक्शन, Primary treatment after dog bite 

ऐसा कहा जाता है की कुत्ते सबसे वफादार होने के साथ व्यक्ति के बहुत अच्छे दोस्त भी होते हैं। लेकिन कई बार यह दोस्त डर के कारण या अधिक छेड़ने पर आपको काट भी सकते हैं। कुत्ते का काटना बहुत ही दर्द भरा होने के साथ बीमारियों का कारण भी होता है। खासकर जब आपको ऐसा कोई कुत्ता काट ले जिसको रेबीज़ हो ऐसे कुत्ते के काटने पर आपके शरीर में रेबीज़ का वायरस फैलने लगता है। जिसके कारण आपको मानसिक रूप से सम्बंधित समस्या हो सकती है। ऐसे में जैसे ही कुत्ता आपको काटता है तो सबसे पहले पानी से उस घाव को साफ़ करके उस पर पट्टी बांधनी चाहिए ताकि संक्रमण के खतरे को कम किया जा सके।

कुत्ते के काटने पर क्या होता है?

  • कुत्ते के काटने से दर्द, अधिक खून के बहने और घाव जैसी की समस्या हो सकती है।
  • सूजन, बुखार जैसी समस्या भी आपको हो सकती है।
  • बॉडी में इन्फेक्शन होने का खतरा होता है, क्योंकि कुत्ता जहां पर आपको काटता है वहां से बैक्टेरिया बॉडी में जाकर आपकी बॉडी में इन्फेक्शन को बढ़ाता है।
  • यदि आपको कोई पागल कुत्ता काट लेता है जिसको रेबीज़ बिमारी होती है तो आपको भी उस बिमारी के होने का खतरा होता है।
  • कुत्ते के काटने से मानसिक रूप से भी आपको बिमारी होने का खतरा रहता है।
  • आपके शरीर में होने वाली तंत्रिकाओं पर भी कुत्ते के काटने का बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है।

कुत्ते के काटने पर करें यह प्राथमिक उपचार

कुत्ते के काटने के बाद जितना जल्दी हो सके उतना जल्दी उपचार करना चाहिए , क्योंकि यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो इसके कारण आपको समस्या हो सकती है। ऐसे में कुत्ते के काटने के तुरंत बाद आपको क्या करना चाहिए और क्या प्राथमिक उपचार देना चाहिए आइये जानते हैं।

घाव को धोएं

जिस जगह पर आपको कुत्ते ने काटा है सबसे पहले उस जगह को अच्छे से पानी से धोना चाहिए, पानी न तो अधिक गरम होना चाहिए और न ही अधिक ठंडा। ऐसा करने से घाव के आस पास के कीटाणु को हटाने में मदद मिलेगी जिससे इन्फेक्शन के खतरे को कम करने में मदद मिलती है। साथ ही घाव को साफ तोलिये से सूखा लें।

एंटीबायोटिक क्रीम लगाएं

घाव को साफ़ करने के बाद आप उस पर एंटीबायोटिक क्रीम को लगाएं, ऐसा करने से उसके आस पास फैलने वाले कीटाणु को खत्म करके इन्फेक्शन से बचाव करने में मदद मिलती है।

पट्टी का इस्तेमाल करें

क्रीम लगाने के बाद घाव पर अच्छे से पट्टी बाँध दें, ऐसा करने से यदि ब्लड निकल रहा होगा तो उसे भी रोकने में मदद मिलेगी। लेकिन इस बात का ध्यान रखें की न तो आप घाव को खुला छोड़ें और न ही एक ही पट्टी को पूरा दिन बाँध कर रखें। ऐसा करने से संक्रमण होने का खतरा रहता है। इसीलिए दिन में दो से तीन बार घाव को अच्छे से साफ करके पट्टी को बदल दें।

डॉक्टर से करें संपर्क

प्राथमिक चिकित्सा देने के बाद भी आपको डॉक्टर के पास जरूर जाना चाहिए क्योंकि आपको इससे पता चल सकेगा की आपके शरीर में कोई वायरस फैला तो नहीं है। और उसके बाद डॉक्टर ही आपको बता सकते है की आपको कितने और कौन सा इंजेक्शन लगेगा।

कुत्ते के काटने पर कौन से इंजेक्शन लगाए जाते हैं

टेटनस का इंजेक्शन

कुत्ते के काटने से तंत्रिका तंत्र से जुडी परेशानी हो सकती है, और तंत्रिका तंत्र से जुडी बिमारी से बचाव के लिए टेटनस का इंजेक्शन लगाया जाता है। क्योंकि कुत्ते के काटने के बाद यदि बैक्टेरिया आपके शरीर में चला जाता है तो ऐसा करने से यह खून में पहुंचकर जेहरीले पदार्थ का काम करते हैं जिससे तंत्रिका तंत्र से सम्बंधित समस्या होती है ऐसे में टेटनस का इंजेक्शन लगवाने से आपको इस समस्या से बचाव करने में मदद मिलती है।

रेबीज़ का इंजेक्शन

यदि किसी व्यक्ति को पहले रेबीज़ का इंजेक्शन कभी लगा हुआ होता है तो उसे दो इंजेक्शन लगते हैं और यदि कभी इंजेक्शन नहीं लगा होता है तो उसे रेबीज़ के हर इंजेक्शन लगते हैं। और इसका पहला इंजेक्शन कुत्ते के काटने के बाद, उसके बाद तीसरे, सातवें और चौहदवें दिन लगता है। इसके कारण आपको कुत्ते के काटने के कारण होने वाली परेशानी से निजात पाने में मदद मिलती है।

तो यह हैं कुछ खास टिप्स जो आपको कुत्ते के काटने पर तुरंत इस्तेमाल करने चाहिए इसके अलावा आपको जितना जल्दी हो सके डॉक्टर से राय लेनी चाहिए और अपना इलाज करवाना चाहिए ताकि आपको किसी भी तरह की बिमारी जो की कुत्तों के काटने से होती है उससे बचाव करने से मदद मिल सकें।

[Total: 1    Average: 5/5]