हिंदी में जानकारी

डेंगू का घरेलू इलाज

0

डेंगू एक ऐसा रोग है जो की मच्छर के काटने से फैलता है, और यह मच्छर आपको दिन के समय काटते है, आज भारत में डेंगू के मरीज़ दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे है, और डेंगू के मच्छर गंदगी में नहीं बल्कि साफ़ पानी में पनपते हैं, इसके व्यक्ति को बुखार आने लगता है, और तेजी से बढ़ता है, ब्लड में प्लैनेट्स की संख्या धीरे धीरे कम हो जाती है, जिसके कारण बदन में दर्द, ठण्ड लगना, उल्टियां होना, त्वचा का सूखा पड़ना, प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होना, और भी कई प्रकार के लक्षण शरीर में दिखाई देने लगते हैं, और जैसे ही आपको ये लक्षण अपने शरीर में दिखाई दें, तो इसका उपचार शुरू कर देना चाहिए, ऐसा नहीं है की इसका उपचार नहीं है, बल्कि आप घर में भी इसका उपचार कर सकती है, साथ ही डॉक्टर की राय भी लें, लेकिन धैर्य के साथ आप इस समस्या से निजात पा सकती हैं तो आइये आज हम आपके लिए डेंगू से बचने के कुछ आसान टिप्स लाएं हैं जो आपको इस समस्या से बचने में मदद करेंगे।

इन्हें भी पढ़ें:- स्वाइन फ्लू के लक्षण और बचाव के तरीके

पपीते के पत्तों का इस्तेमाल करें:-

papaya-leaf

रेड लेडी पपीते के पत्ते का इस्तेमाल करने से आपको डेंगू से बचने में मदद मिलती है, क्योंकि इसमें मौजूद कायमोपपैन, और पैपेन आपके प्लैनेट्स काउंट को बढ़ाने में मदद करता है, साथ ही इसके कारण आपके लीवर को भी सही से काम करने में मदद मिलती है, इसके इस्तेमाल के लिए आप पपीते की पत्तियों को बिना पानी, नमक चीनी का इस्तेमाल किये बिना लकड़ी की ओखली में कूट लें, उसके बाद दिन में दो बार इसके 10 ml रस का सेवन करें, यदि शिशु है तो 2.5 ml का दिन में दो बार सेवन करें, आपको इसका फ़र्क़ जरूर दिखाई देगा, और पूरे ठीक होने तक इसका सेवन करते रहें, इससे आपको ऊर्जा भी मिलेगी।

गिलोय का सेवन करें:-

गिलोय डेंगू को जड़ से खत्म करने के लिए किसी आयुर्वेदिक औषधि से कम नहीं है, डेंगू के होने पर यदि आप नियमित गिलोय का सेवन तुलसी के रस के साथ करते हैं तो आपको चार से पांच दिनों में ही इसका असर दिखना शुरू हो जाता है, इसके लिए आप गिलोय की टहनी को पानी में उबालकर इसे ठंडा करके दिन में तीन से चार बार इसका सेवन करें, और बच्चों को भी करवाएं, इससे आपके रक्त में प्लैनेट्स की संख्या तेजी से बढ़ती है, जिससे आपको डेंगू से जल्दी रिकवर होने में मदद मिलती है।

बकरी के दूध का इस्तेमाल करें:-

डेंगू के बुखार से बचने के लिए बकरी का दूध बहुत ही आसान उपाय है, साथ ही यह भी डेंगू से राहत के लिए किसी औषधि से कम नहीं होता है, इसके लिए आप बकरी के दूध का सेवन दिन में दो से से तीन बार करें, जैसे जैसे आप इसका सेवन करते है, तो यह भी आपके रक्त में प्लैनेट्स को बढ़ाने में आपकी मदद करता है, इसीलिए यदि आपको कभी ऐसा लगे या कोई डेंगू का लक्षण दिखाई दें, तो आपको बकरी के दूध का सेवन करना चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें:- मलेरिया के बुखार से बचने के घरेलू इलाज

तुलसी के पत्तो को काली मिर्च का प्रयोग करें:-

तुलसी किसी आयुर्वेदिक औषधि से कम नहीं होती है, साथ ही इसका सेवन जब आप काली मिर्च के साथ करते हैं तो यह अपने एंटी बैक्टेरियल गुणों के कारण आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में आपकी मदद करते हैं, जिससे आपको ऊर्जा मिलती है और साथ ही धीरे धीरे डेंगू की समस्या से आराम मिलता है, इसके लिए आप तुलसी के पत्तो और दो यया तीन काली मिर्च को पानी में अच्छे से उबाल कर काढ़ा बनाकर ले सकते है, या फिर तुलसी के पत्तो का रस निकालकर उसमे थोड़ा सा काली मिर्च का पाउडर मिलायें आपको फायदा मिलेगा।

मेथी के पत्तो का इस्तेमाल करें:-

methi-leaf

डेंगू के प्रभाव से बचने के लिए मेथी के पत्ते भी असरदार उपाय में से एक है इसके लिए आप इसकी पत्तियों को पांच से छह घंटे तक पानी में भिगोकर रख दें, उसके बाद छान कर इस पानी का सेवन करें, या आप इनका जूस निकाल भी सेवन कर सकते है, इससे आपको एनर्जी मिलती है, जिससे आपको बुखार से राहत पाने में मदद मिलती है, आप चाहे तो दिन में दो बार गुनगुने पानी में एक चम्मच मेथी पाउडर को मिलाकर उसका सेवन भी कर सकती हैं इससे भी आपको फायदा मिलता है।

अनार और गेंहूं घास के रस का सेवन करें:-

अनार का रस और गेहूँ की घास का रस मिलाकर पीने से आपको डेंगू की समस्या से राहत पाने में मदद मिलती है, और यदि गेहूं घास का रस नहीं है तो आप अनार और सेब का रस मिलाकर भी दिन में दो से तीन बार पी सकती हैं इससे भी आपको डेंगू से राहत पाने में मदद मिलती है, केवल बड़े ही नहीं यदि आप बच्चों को भी नियमित इसका सेवन करवाती हैं तो इससे उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत होने में मदद मिलती है।

नारियल पानी का सेवन करें:-

नारियल पानी का सेवन करने से भी आपको डेंगू के कारण शरीर में होने वाली पोषक तत्वों की कमी और पानी की कमी को पूरा करने में मदद मिलती है दिन में तीन से चार बार इसके नियमित सेवन से भी आपको डेंगू से जल्दी रिकवर होने में मदद मिलती है।

आंवले का सेवन करें:-

विटामिन सी से भरपूर आंवले का सेवन आप डेंगू बुखार को खत्म करने के लिए किसी भी रूप में कर सकते है, जैसे की आंवले का मुरब्बा दिन में दो से तीन बार करें, कच्चा आंवला खाएं, या फिर सुबह खाली पेट आंवले के चूर्ण का पानी के साथ सेवन करें, इससे भी आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद मिलती है, साथ ही आपके शरीर में पोषक तत्वों की कमी को पूरा करके आपको स्वस्थ करने में मदद मिलती है।

धतूरे का सेवन करें:-

धतूरे का सेवन करने से भी आपको डेंगू से बुखार से राहत पाने में मदद मिलती है, लेकिन इसे बच्चों को नहीं देना चाहिए और किसी बड़े को भी इसकी खुराक दो ग्राम से अधिक नहीं लेनी चाहिए, यदि आप दिन में दो बार एक एक ग्राम करके इसका सेवन करते हैं तो इससे भी आपको डेंगू बुखार से राहत मिलती है।

डेंगू से बचने के अन्य उपाय:-

  • हल्दी वाला दूध नियमित पीने से आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद मिलती है, जिससे आपको डेंगू से बचाया जा सकता है।
  • अनार और काले अंगूर का रस मिलकर पीने से भी डेंगू के कारण शरीर में होने वाली प्लैनेट्स की कमी को पूरा करने में मदद मिलती है,
  • साथ ही आपको बुखार से राहत मिलती है।चिरायता का सेवन करने से भी इस समस्या से रहत पाने में आपको मदद मिलती है।
  • तुलसी के पत्तो का काढ़ा या तुलसी के पत्तो की चाय का सेवन करने से भी आपको फायदा मिलता है।
  • गोल्डनसील यह भी एक हर्ब है जो पपीते की पत्तियों की तरह काम करती है, इसे चबाकर या इनका रस निकालकर पीने से भी आपको डेंगू से बचाया जा सकता है।
  • अपने घर के आस पास खुले में पानी न छोड़े, कूलर, गमले आदि के पानी को भी नियमित बदलने से आपको डेंगू के खतरे से सचेत होने में मदद मिलती है।
  • विटामिन सी युक्त पदार्थो का सेवन भरपूर मात्रा में करने से आपको डेंगू से बचाव करने में मदद मिलती है।
  • नीम की पत्तियों का धुआं घर में करने से भी मच्छरों को घर से दूर रखा जा सकता है जिससे आपको इस समस्या से बचाव करने में मदद मिलती है।
  • डेंगू से बचने के लिए जितना हो सकें आप पूरी बाजू के सूती के कपडे पहन कर रखें।

डेंगू के रोगी का आहार:-

डेंगू होने के कारण व्यक्ति के शरीर में बहुत कमजोरी आ जाती है, जिसके कारण उसकी पाचन शक्ति भी कमजोर हो जाती है, इसीलिए रोगी को ऐसा आहार देना चाहिए जो की आसानी से पच जाएँ और साथ ही वो आहार पौष्टिक भी हो, इसके लिए आप खिचड़ी, दलिया, उबली हुई सब्जियां, सूप, केला, सेब आदि देना चाहिए, साथ ही रोगी को अदरक और इलायची वाली चाय भी देनी चाहिए, साथ ही उलटी और बुखार के कारण शरीर में होने वाली पानी की कमी को दूर करने के लिए आपको रोगी को जूस, नारियल पानी, आदि भी भरपूर देना चाहिए और जितना हो तेलीय पदार्थो से दुरी बनाकर रखनी चाहिए।

तो ये हैं कुछ टिप्स जिनका इस्तेमाल करके आप डेंगू से बचाव कर सकते है, साथ ही रोगी के लिए साफ़ सफाई का ध्यान भी रखना चाहिए, और साथ ही रोगी द्वारा इस्तेमाल किये गए सामान को किसी और को इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे डेंगू के फैलने का खतरा रहता है।

इन्हें भी पढ़ें:- इन आयुर्वेदिक चीजों का इस्तेमाल करें बुखार ठीक होने के लिए

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!