क्या गर्भपात के बाद दुबारा गर्भवती होना सुरक्षित है

क्या गर्भपात के बाद दुबारा गर्भवती होना सुरक्षित है
0

क्या गर्भपात के बाद दुबारा गर्भवती होना सुरक्षित है, गर्भपात के कितने महीनों बाद गर्भधारण करना सही होता है, प्रेगनेंसी टिप्स, गर्भपात के बाद दुबारा गर्भधारण से पहले ध्यान रखें यह बातें

गर्भपात के बाद महिला को बहुत सी शारीरिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। जैसे की बॉडी में दर्द, बहुत ज्यादा ब्लीडिंग, पेट के निचले हिस्से में दर्द, बुखार, उल्टियां, कमजोरी, आदि। यहां तक की कुछ महिलाएं इस दौरान तनाव में भी आ जाती है। लेकिन इस दौरान कई महिलाएं सवाल करती है की क्या गर्भपात के बाद दुबारा गर्भवती होना सुरक्षित होता है? और गर्भपात के कितने दिनों बाद महिला दुबारा गर्भधारण कर सकती है? तो लीजिये आज हम आपको आपके इन्ही कुछ सवालों का जवाब देने जा रहे हैं और गर्भपात के बाद महिला को गर्भधारण करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए इस बारे में भी जानते हैं।

गर्भपात के बाद दुबारा गर्भधारण करना सुरक्षित होता है

जी हाँ, गर्भपात के बाद दुबारा गर्भधारण करना बिल्कुल सुरक्षित होता है। लेकिन दुबारा गर्भधारण से पहले इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए की महिला शारीरिक व् मानसिक रूप से बिल्कुल फिट हो। क्योंकि महिला यदि तनाव में होती है या महिला शारीरिक रूप से कमजोर होती है, तो ऐसे में गर्भपात होने चांस दुबारा बढ़ जाते हैं। लेकिन यदि महिला फिट होती है तो ऐसे में डॉक्टर से जांच करवाने के बाद महिला दुबारा गर्भधारण कर सकती है।

गर्भपात के कितने दिनों बाद गर्भधारण करना सही होता है

स्टडीस के अनुसार गर्भपात के तीन महीने बाद महिला गर्भधारण कर सकती है। कुछ कपल गर्भपात के बाद लम्बे समय तक गर्भधारण के लिए इंतज़ार करते है, यह उनका निजी फैसला भी हो सकता है। लेकिन यदि आपका गर्भपात हुआ है और आप गर्भधारण के बारे में सोच रही हैं तो तीन महीने बाद आप आसानी से गर्भधारण कर सकती है। और अध्यन में यह भी सामने आया है की 77 प्रतिशत महिलाओं ने ऐसे गर्भधारण करके स्वस्थ शिशु को जन्म दिया है।

गर्भपात के बाद दुबारा गर्भधारण से पहले इन बातों का ध्यान रखें

  • गर्भपात के बाद महिला के शरीर में कमजोरी आ जाती है, ऐसे में महिला जब तक शारीरिक रूप से पूरी तरह फिट न हो जाए तब तक महिला को गर्भधारण के बारे में नहीं सोचना चाहिए।
  • कुछ महिलाएं गर्भपात के बाद तनाव में आ जाती है ऐसे में मानसिक रूप से फिट होने के बाद ही महिला को गर्भधारण करना चाहिए, क्योंकि यदि महिला तनाव में रहती है और दुबारा गर्भधारण कर लेती है तो ऐसे में महिला के गर्भपात होने के चांस दुबारा होते हैं।
  • दुबारा गर्भधारण से पहले एक बार महिला को डॉक्टर से अपनी अच्छे से जांच करवानी चाहिए। ताकि किसी भी तरह की शारीरिक परेशानी का सामना आपको न करना पड़े और आपको स्वस्थ प्रेगनेंसी हो।

तो यह हैं गर्भपात के बाद दुबारा गर्भवती होने से जुड़े कुछ खास टिप्स, साथ ही प्रेगनेंसी के पहले तीन महीने महिला के लिए बहुत अहम होते है, ऐसे में महिला को किसी तरह की लापरवाही नहीं करनी चाहिए जिससे गर्भपात हो। तो यदि आपका अनचाहा गर्भ ठहर गया है और इसके कारण आप गर्भपात करवा रहे हैं, तो आपको इससे बचने के लिए सुरक्षा का इस्तेमाल करना चाहिए, ताकि आपको ऐसी कोई समस्या न हो क्योंकि बार बार गर्भपात का होना महिला को शारीरिक रूप से कमजोर बना सकता है।