Lifestyle, Pregnancy, Health, Fitness, Gharelu Upay, Ayurveda, Beauty Tips Online News Magazine in Hindi

माँ का दूध तुरंत बढ़ाने के लिए ये उपाय करें

माँ का दूध तुरंत बढ़ाने के लिए ये उपाय करें, ब्रैस्ट में दूध बढ़ाने के टिप्स, माँ का दूध बढ़ाने के घरेलु नुस्खे, माँ का दूध शिशु के लिए जरुरी क्यों है, ma ka dudh badhane ke ghrelu tips, ma ka dudh badhane ke liye aahar, ma ka dudh badhane ke tips 

0

किसी भी महिला के लिए शिशु को स्तनपान करवाना बहुत मह्त्वपूर्ण होता है। क्योंकि इससे न केवल महिला को मातृत्व का अहसास महसूस होता है, बल्कि नवजात शिशु और उसकी माँ को एक दूसरे से मानसिक रूप से जुड़ने में भी मदद मिलती है। साथ ही किसी भी नवजात शिशु के लिए माँ का दूध अमृत के समान होता है। क्योंकि इससे नवजात शिशु की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के साथ शिशु के विकास को भी तेजी से होने लगता है। क्योंकि माँ के दूध में वो सभी मिनरल्स उच्च मात्रा में मौजूद होते है जो की शिशु का विकास होने के लिए चाहिए होते है।

लेकिन कई महिलाओ डिलीवरी के तुरंत बाद एक दम से दूध ज्यादा नहीं आता है। ऐसे में शिशु भूखा न रह जाए, और उसके विकास में किसी तरह की कमी न रह जाए, इसके लिए महिला तुरंत दूध के उत्पादन के लिए कई नुस्खों का इस्तेमाल करनी है। जिससे ब्रैस्ट में दूध की ग्रंथियों को खुलने में मदद मिलती है। और दूध के उत्पादन में वृद्धि होती है जिससे शिशु के लिए पर्याप्त दूध बनता है। तो आइये आज हम आपको ऐसे ही कुछ नुस्खे बताने जा रहे है जिससे ब्रैस्ट में दूध बढ़ाने में मदद मिलती है ।

माँ का दूध तुरंत बढ़ाने के उपाय:-

ब्रैस्ट की सफाई:-

कई बार ब्रैस्ट के आगे निप्पल में मौजूद सफ़ेद कील अच्छे से नहीं निकलते है, जिसके कारण शिशु के लिए दूध नहीं आ पाता है। इसके लिए जरुरी है की डिलीवरी के बाद नर्स से या आपके घर में मौजूद किसी महिला से गुनगुने पानी से अच्छे से अपने निप्पल की सफाई करवानी चाहिए। जिससे की वो कील अच्छे से निकल जाए और बच्चे के लिए दूध बन सकें।

पंप का इस्तेमाल करें:-

ब्रेस्टफीडिंग के लिए दूध को बढ़ाने के लिए आप पंप का इस्तेमाल कर सकते है। यह एक तरह की मशीन होती है जिसे हाथ व् बिजली दोनों के द्वारा इस्तेमाल किया जाता है। इससे ब्रैस्ट पर दबाव पड़ता है जिसके कारण ब्रैस्ट में दूध की मात्रा को बढ़ाने में मदद मिलती है।

सफ़ेद जीरा और मिश्री:-

यदि महिला डिलीवरी के तुरंत बाद सुबह शाम एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच पीसी हुई मिश्री और एक चम्मच पीसा हुआ सफ़ेद जीरा पीती है। तो इससे तुरंत ही महिला के ब्रैस्ट में दूध आने लग जाता है। और दूध की मात्रा भी बढ़ती है ऐसा महिला को डिलीवरी के बाद से ही शुरू कर देना चाहिए। ताकि शुरू से ही आपको किसी तरह की परेशानी न हो।

अरंडी का तेल:-

अरंडी का तेल भी स्तन में दूध की वृद्धि को तेजी से बढ़ाने में मदद करता है। इसके लिए आप अपने हाथों पर थोड़ा सा अरंडी का तेल लेकर ब्रैस्ट को अच्छे से मसाज करें, इससे दूध की ग्रंथियों को खुलने में मदद मिलती है। जिससे ब्रैस्ट में दूध की वृद्धि भी होती है, लेकिन मसाज के बाद ब्रैस्ट को अच्छे से साफ़ करना न भूलें।

दलिया:-

दूध का दलिया खाने से न केवल महिला को डिलीवरी के बाद फिट होने में मदद मिलती है।बल्कि इससे शिशु के लिए स्तन में दूध की मात्रा को बढ़ाने में भी मदद मिलती है। यदि महिला को शुरू में दूध अच्छे से नहीं उतरता है तो इसके लिए महिला को दिन में दो बार पेट भर कर दूध वाले दलिये का सेवन करना चाहिए।

कंघी का इस्तेमाल करें:-

एक साफ कंघी लेकर यदि आप अच्छे से अपनी ब्रैस्ट को उसकी तिलियों से प्रेस करते हैं। तो इससे ब्रैस्ट की मांसपेशियों और दूध की ग्रंथियों को खुलने में मदद मिलती है। जिससे ऐसा हलके हाथों से दिन में कई बार करें ऐसा करने से दूध को बढ़ाने में मदद मिलती है, यह काफी आसान तरीका होने के साथ असरदार भी होता है।

शिशु को भरपूर स्तनपान करवाएं:-

यदि आपको थोड़ा बहुत दूध भी स्तन में आता है, तो भी आपको थोड़े थोड़े समय बाद शिशु को स्तनपान करवाना चाहिए। क्योंकि जैसे जैसे शिशु दूध पीता है वैसे वैसे ब्रैस्ट में दूध की ग्रंथियों को खुलने में मदद मिलती है। जिससे स्तन में दूध की मात्रा को बढ़ाने में मदद मिलती है। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए की दोनों स्तनों से शिशु को दूध पिलाना चाहिए।

मुलहठी:-

जिन महिलाओ को ब्रैस्ट में दूध नहीं उतरता है उन्हें जीरा और मुलहठी को बराबर मात्रा में पीस कर चूर्ण तैयार कर लेना चाहिए। और उसके बाद सुबह शाम एक चम्मच इसका सेवन दूध के साथ करना चाहिए। ऐसा दो से तीन तक करने पर भी आपको ब्रैस्ट में दूध आने लग जाता है। और यदि आपको कम दूध आता है तो यह दूध की मात्रा को बढ़ाने में भी फायदा करता है।

डॉक्टर की राय लें:-

कई बार ब्रैस्ट से जुडी किसी परेशानी करने के कारण भी ब्रैस्ट में दूध नहीं आता है। ऐसे में यदि बहुत कोशिश करने के बाद भी ब्रैस्ट से दूध नहीं आता है। तो इस बारे में आप डॉक्टर से भी राय ले सकते है। क्योंकि कई बार कुछ समस्या हो सकती है तो डॉक्टर इस समस्या का समाधान आपको बता सकते हैं जिससे आपके ब्रैस्ट से दूध आने की समस्या दूर होती है।

ब्रैस्ट मिल्क को बढ़ाने के लिए आहार:-

  • मेथी दाना को पीस कर उनका पाउडर तैयार कर लें, उसके बाद इसे अपने आहार में शामिल करें।
  • भुना हुआ जीरा को पीस कर पाउडर के रूप में अपनी सब्जियों और सलाद आदि में डालकर खाएं।
  • मदर्स टी पीने से भी स्तन में दूध की मात्रा को बढ़ाने में मदद मिलती है।
  • पपीता खाने से भी आपको उच्च मात्रा में फाइबर मिलते हैं जिससे आपको ब्रैस्ट मिल्क को बढ़ाने में मदद मिलती है।
  • दूध व् दूध युक्त आहार का सेवन करने से भी आपके ब्रैस्ट में दूध की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है।
  • तुलसी का रस व् तुलसी के सूप में शहद मिलाकर पीने से फायदा मिलता है।
  • ड्राई फ्रूट का सेवन भी भरपूर मात्रा में करें जिससे आपको ब्रैस्ट में दूध की मात्रा बढ़ती है।
  • जई का दलिया खाने से भी आपको ब्रैस्ट मिल्क को बढ़ाने में फायदा मिलता है, और आपको इस दलिये में दूध डालकर खाना चाहिए।
  • दिन में थोड़े थोड़े समय बाद कुछ न कुछ खाते रहने चाहिए जिससे आपको भरपूर मिनरल्स मिल सकें।
  • करेले का सेवन करने से भी दूध का उत्पादन बढ़ता है।
  • लहसुन का सेवन करने से भी ब्रैस्ट मिल्क को बढ़ाया जा सकता है।

शिशु को माँ का दूध पिलाने के फायदे:-

  • इससे शिशु की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद मिलती है, जिससे उसे रोगो से लड़ने के लिए सक्शन बनाने में मदद मिलती है।
  • बच्चे का शारीरिक विकास तेजी से होता है।
  • माँ का दूध न केवल बच्चे का शारीरिक विकास करता है बल्कि मानसिक रूप से भी शिशु की बुद्धि का विकास होता है।
  • बच्चे की हड्डियों को मजबूत करने में मदद मिलती है।
  • शिशु के विकास के लिए सभी जरुरी तत्व और मिनरल्स माँ के दूध से ही शिशु को मिलते है।

तो यदि आप भी डिलीवरी के बाद ब्रैस्ट में दूध न आने के कारण परेशान हैं। तो आप भी ऊपर दिए गए टिप्स का इस्तेमाल कर सकते है। लेकिन यदि बहुत उपाय करने के बाद भी आपके ब्रैस्ट में दूध का उत्पादन नहीं हो पा रहा है तो आपको इसके लिए अपनी डॉक्टर से भी राय ले सकते है। क्योंकि ऐसा कई बार होता है की महिलाओ को दूध न आने की परेशानी भी होती है।

Leave a comment